23 राज्यों में कम से कम 49 प्रदेश व लोकल जन स्वास्थ्य कर्मियों ने दिया त्याग पत्र

23 राज्यों में कम से कम 49 प्रदेश व लोकल जन स्वास्थ्य कर्मियों ने दिया त्याग पत्र

वैश्विक महामारी कोरोना (corona) ने हर मुल्क को झकझोर दिया है। विकसित देश (developed country) अमेरिका की हालत भी खस्ता है। यहां कई प्रदेश व लोकल जन स्वास्थ्य ऑफिसर या तो जॉब छोड़ रहे हैं या उन्हें निकाला जा रहा है।  

इसी क्रम में , एक ताजा मुद्दा रविवार को समाने आया, जब कैलिफोर्निया की जन स्वास्थ्य निदेशक (health director), डाक्टर सोनिया एंगेल ने बिना कोई कारण बताए जॉब छोड़ दी।  

इससे वायरस के परिणाम (result) जारी करने में देरी हुई। इस परिणाम का प्रयोग व्यवसाय व स्कूलों को दोबारा खोलने का फैसला लेने के लिए किया जाता है।  

वहीं पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क सिटी के स्वास्थ्य आयुक्त को पुलिस विभाग व सिटी हॉल के साथ कई महीने से चले आ रहे टकराव के बाद उनके पद से हटा दिया गया था।  

अप्रैल से 23 राज्यों में कम से कम 49 प्रदेश व लोकल जन स्वास्थ्य कर्मियों ने त्याग पत्र दिया, सेवानिवृत्त हो गए या उन्हें निकाल दिया गया।  

जून से अब तक इस सूची में 20 से अधिक लोग शामिल हुए हैं।  

‘नेशनल एसोसिएशन ऑफ काउंटी एंड सिटी हेल्थ ऑफिशल्स’ के सीईओ लोरी ट्रेम्मेल फ्रीमैन ने बोला कि इन स्वास्थ्य अधिकारियों के जाने से स्थिति बेकार हो रही है, वो भी ऐसे समय पर जब अमेरिका को अच्छे स्वास्थ्य नेतृत्व की सबसे अधिक आवश्यकता है।  

अमेरिका में सोमवार तक कोविड-19 के विश्व में सर्वाधिक 50 लाख से अधिक मुद्दे थे व इससे अभी तक यहां 1,63,000 लोगों की जान जा चुकी है।  

अधिकतर लोग मास्क पहनने व सामाजिक दूरी बनाने के आदेशों पर टकराव को लेकर त्याग पत्र दे रहे हैं।

वैज्ञानिक सबूतों व स्वास्थ्य जानकार ों की सलाह के विपरीत, कई राजनेताओं व आम अमेरिकियों ने तर्क दिया है कि इस तरह के तरीकों की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा, 'यह चिकित्सकीय विभाजन नहीं, यह सियासी विभाजन है। '