एंटी-पर्सनल लैंड माइंस जैसे खतरनाक हथियार प्रयोग के लिए तैयार कर रहा हैं अमेरिका

एंटी-पर्सनल लैंड माइंस जैसे खतरनाक हथियार प्रयोग के लिए तैयार कर रहा हैं अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस वादे के साथ सत्ता में आए थे कि वह अंतहीन युद्धों को समाप्त कर देंगे, लेकिन उनका प्रशासन अब उन हथियारों को अपना रहा है, जिन्हें संसार के 160 से ज्यादा देश प्रतिबंधित कर चुके हैं। 

वहीं क्लस्टर बम व एंटी-पर्सनल लैंड माइंस जैसे खतरनाक हथियार भविष्य में प्रयोग के लिए तैयार किए जा रहे हैं। ये हथियार अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन की भावी युद्ध योजनाओं का अहम भाग बनते जा रहे हैं। हालांकि ,अभी ऐसा कोई ठोस औचित्य नहीं बताया गया है कि क्यों इनका उपयोग किया जाने वाला है?

मिली जानकारी के अनुसार अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर हथियार संबंधी इस तरह की नयी नीतियों का समर्थन करते हैं। इस परिवर्तन पर उस समय से गौर किया जा सकता है, जब साल 2017 में जिम मैटिस रक्षा मंत्री थे। वहीं यह भी बोला जा रहा है कि उस समय आए एक सैन्य रणनीति मसौदे में रूस व चाइना को अमेरिका का प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बताया गया था। इन दोनों के पास उल्लेखनीय थल सेना है व युद्ध के मैदान में शत्रु सेनाओं को रोकने के लिए बारूदी सुरंगों का प्रयोग किया था।

व्यापक चर्चा के परिणामस्वरूप नीति में बदलाव: लेकिन पेंटागन के प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन ने बीते सोमवार को पत्रकारों से बोला कि विभिन्न रक्षा शाखाओं के साथ व्यापक चर्चा के परिणामस्वरूप नीति में परिवर्तन किया जा रहा है। जंहा उन्होंने यह बताने से इन्कार कर दिया कि किसके कहने पर नीति बदली जा रही है। रक्षा विभाग के पूर्व अधिकारियों ने बताया कि रूस के हमले व यूक्रेन से क्रीमिया को अलग करने की घटना के विश्लेषण के दौरान प्रशासन में लैंड माइंस व दूसरे उन हथियारों पर बहस छिड़ी थी, जिनको मना किया जा चुका था। नवंबर, 2017 में मैटिस ने 2008 के एक मेमो को रद कर दिया था। वहीं इस बात का भी पता चला है कि इस मेमो में लगभग सभी क्लस्टर हथियारों के उपयोग पर रोक लगाने व इनके जखीरे को नष्ट करने का आदेश दिया गया था। ये हथियार सोवियत संघ के साथ तीसरे दुनिया युद्ध के लिए तैयार किए जा रहे थे।