अमेरिका ने नेवल फ्लिड को ताइवान स्थिति पर नजर रखने को कहा

अमेरिका ने नेवल फ्लिड को ताइवान स्थिति पर नजर रखने को कहा

अमेरिका ने नेवल फ्लिड को स्थिति पर नजर रखने को बोला है. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने इस बात की जानकारी दी. बता दें कि यूएसएस रोनाल्ड रीगन दुनिया के दूसरे सबसे बड़े विमानवाहक पोत की श्रेणी में आता है. रोनाल्ड रीगन का नाम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति के नाम पर रखा गया है.

चीन लाइव फायर ड्रिल पर अमेरिका का बड़ा एक्शन सामने आया है. अमेरिकी रक्षा मंत्रा लॉयड ऑस्टिन ने यूएसएस रोनाल्ड रीगन वॉरशिप को ताइवान के निकट रुकने के आदेश दिए. अमेरिका ने नेवल फ्लिड को स्थिति पर नजर रखने को बोला है. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने इस बात की जानकारी दी. बता दें कि यूएसएस रोनाल्ड रीगन दुनिया के दूसरे सबसे बड़े विमानवाहक पोत की श्रेणी में आता है. रोनाल्ड रीगन का नाम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति के नाम पर रखा गया है. 

इस बात की संभावना पहले से ही जताई जा रही थी कि जब नैंसी पेलोसी ताइपे से टेक ऑफ कर जाएंगी. उसके बाद यूएस की सारी फोर्स ताइवान की रक्षा के लिए वहां पर रहेंगी या नहीं? अब ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है. रोनाल्ड रीगन वॉरशिप की उपस्थिति का मतलब साफ है कि अमेरिका की तरफ से पूरा का पूरा तैरता हुआ जंगी बेड़ा समुंद्र में उतार दिया गया है. इसके साथ ही और भी फाइटर जेट्स, वॉरशिप, सबमरीन की मौजूदगी पहले से ही है. इसका सीधा सा मतलब है कि जब भी ताइवान को आवश्यकता पड़ेगी रोनाल्ड रीगन उसकी  बचाव में एक्टिवेट कर दिया जाएगा. 

चीन को काबू में रखने के लिए अमेरिका की तरफ से इस तरफ का कदम उठाया गया है. इस  बैटलशिप में युद्ध से संबंधित सभी खूबियां उपस्थित हैं. यूएसएस रोनाल्ड रीगन में चार स्टीम टरबाइन हैं. ये 56 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से पानी में चलता है. इसकी रेंज असीमित है. ये लगातार 20 से 25 वर्ष तक चल सकता है. इस एयरक्रॉफ्ट करियर पर 90 फिक्सड विंग्स विमान और हेलिकॉप्टर तैनात हो सकते हैं.