तालिबान राज में खामोश हो गया अफगान संगीत, दहशत में कलाकार सुरक्षित स्थानों पर ले रहे पनाह

तालिबान राज में खामोश हो गया अफगान संगीत, दहशत में कलाकार सुरक्षित स्थानों पर ले रहे पनाह

अफगानिस्तान में तालिबान राज में एक बार फिर अफगानी संगीत खामोश हो गया है। होटलों, शादियों और चलते वाहनों में बजने वाला संगीत अब थम गया है। संगीत की महफिलें बीते दौर की यादें बनकर रह गई हैं। संगीत के कलाकार दहशत में हैं और रोक लगने से पहले ही सुरक्षित स्थानों पर पनाह ले रहे हैं।

तालिबान सरकार ने हालांकि अभी संगीत को लेकर कोई फरमान नहीं जारी किया है, लेकिन अफगानी लोग तालिबान की फितरत से उसके अगले कदम का अंदाज लगाने लगे हैं। यही कारण है कि लोग दहशत में हैं। एक संगीतकार ने बताया कि वह संगीत के उपकरण लेकर काबुल की एक चौकी से गुजर रहा था, तालिबान ने उसके उपकरण तोड़ दिए। अफगान शास्त्रीय संगीत के उस्ताद रहीम बख्श के 21 वर्षीय बेटे मुजफ्फर बख्श ने बताया कि हालात जुल्म-ज्यादती वाले हैं।

तालिबान के एक प्रवक्ता बिलाल करीमी से जब पूछा गया कि क्या सरकार संगीत पर प्रतिबंध लगाएगी? प्रवक्ता ने बताया कि अभी इसकी समीक्षा की जा रही है। कोई अंतिम निर्णय होने के बाद इसकी घोषणा की जाएगी। अफगानिस्तान में शादियों में अब संगीत न के बराबर हो गया है। यहां कई कराओके पार्लर खुले हुए थे, जो अब बंद हो गए हैं। हाइवे पर जाने वाले ट्रकों के चालक भी तालिबान की चेकपोस्ट आने पर संगीत को बंद कर देते हैं।

अफगानिस्तान की संगीत परंपरा ईरानी और भारतीय शास्त्रीय संगीत से प्रभावित है। इसमें पाप संगीत भी है, जिसमें इलेक्ट्रानिक इंस्ट्रूमेंट और डांस बीट्स भी शामिल है। दोनों पिछले 20 वर्षों में काफी फले-फूले हैं। आमतौर पर वेडिंग हाल में संगीत और नृत्य का आयोजन होता हैं। इस दौरान पुरुषों और महिलाओं का सेक्शन अलग-अलग होता है। तालिबान ने अब तक संगीत पर आपत्ति नहीं जताई है, लेकिन उनकी मौजूदगी डराने वाली है। ऐसे में संगीतकार शो से इन्कार करते हैं। शादियों के दौरान हाल में पुरुष सेक्शन में अब लाइव संगीत या डीजे देखने को नहीं मिलता। महिला वर्ग में तालिबान लड़ाकों की पहुंच कम है। ऐसे में यहां कभी-कभी डीजे बजते हैं।


कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा इस दिन से पूर्ण रूप से किया जाएगा संचालित

कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा इस दिन से पूर्ण रूप से किया जाएगा संचालित

कुवैत सिटी: कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा रविवार 24 अक्टूबर से पूरी क्षमता से संचालन के लिए तैयार है. नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के महानिदेशक यूसेफ अल-फौजान द्वारा उद्धृत जानकारी के अनुसार, कुवैत अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा सरकार के फैसला के अनुरूप धीरे-धीरे सभी विमानन कंपनियों की वाणिज्यिक उड़ानों का संचालन करेगा.

नागरिक उड्डयन Covid-19 महामारी संकट की चुनौतियों और आवश्यकताओं के अनुसार संचालन करने में पास रहा, उन्होंने कहा, कुवैत में प्रवेश करने के लिए आवश्यक Covid-19 सुरक्षा प्रतिबंधों का पालन करने के लिए एयरलाइनरों और यात्रियों से आह्वान किया. सरकार के प्रतिनिधि तारिक अल-मेजरेम के अनुसार, सरकार ने रविवार से बिना मास्क पहने बाहरी गतिविधियों की अनुमति देने का निर्णय किया.

कुवैती सरकार ने बुधवार को देश में स्वास्थ्य प्रतिबंधों में ढील देते हुए सामान्य जीवन में धीरे-धीरे वापसी के लिए पांच चरण की योजना के आखिरी चरण की आरंभ की घोषणा की. तारेक अल-मेजरेम ने बोला है कि इसके अलावा, सरकार पूरी तरह से टीका लगाए गए लोगों के लिए सभी प्रकार के वीजा जारी करेगी.