पाकिस्तान में पत्रकारों पर हमले के मामलों में 40 फीसद की बढोतरी

पाकिस्तान में पत्रकारों पर हमले के मामलों में 40 फीसद की बढोतरी

पाकिस्तान में पत्रकारों पर हमले के मामलों में चालीस फीसद की वृद्धि हुई है। विडंबना ये है कि पाक की राजधानी इस्लामाबाद पत्रकारों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक जगह है। पाकिस्तान फ्रीडम नेटवर्क ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक पत्रकारों के साथ होने वाली घटनाओं में आधे से ज्यादा इस्लामाबाद में ही होती हैं। सिंध प्रांत दूसरे नंबर पर है। यहां पर पत्रकारों के उत्पीड़न के 38 केस हैं। पंजाब में भी इतनी ही घटनाएं हुई हैं।

इस सूची में खैबर पख्तूनख्वा और गुलाम कश्मीर क्षेत्र भी है। पिछले साल मई से इस साल अप्रैल तक पत्रकारों के साथ 148 घटनाएं हुईं। जिनमें 22 मामलों में पत्रकारों पर प्राणघातक हमला किया गया और छह पत्रकारों की हत्या कर दी गई। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ही अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिकंन ने मानवाधिकार संगठन की रिपोर्ट के हवाले से कहा था कि पाकिस्तान में मीडिया स्वतंत्र नहीं है। यहां मीडिया संस्थानों और पत्रकारों का सुरक्षा बलों और उग्रवादियों दोनों के द्वारा उत्पीड़न किया जाता है।

वहीं समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने देश में प्रतिबंधित कट्टरपंथी संगठन तहरीक ए लब्बैक के आगे पूरी तरह घुटने टेक चुके हैं। अब इमरान खान कट्टरपंथियों के ईशनिंदा कानून को पूरी दुनिया में लागू करने के एजेंडे को आगे बढ़ाने में लग गए हैं। उनका इरादा है कि इस कानून को पूरी दुनिया में लागू कराया जाए। इसके लिए वह मुस्लिम देशों को लामबंद करने में जुट गए हैं। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि ईशनिंदा के मामले में सभी मुस्लिम देश एक जुट हों। फ्रांस की तरह ईशनिंदा के मामले अगर सामने आते हैं, तो उस देश के साथ व्यापार करने पर पाबंदी लगाई जाए।


अफगानिस्तान में टैंकरों में लगी आग, सात की मौत

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के निकट एक साथ कई टैंकरों में आग लगने से हुए हादसे में सात लोगों की मौत हो गई, 14 से ज्यादा लोग घायल हो गए। यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं हुआ है कि यह तोड़फोड़ की घटना थी या महज दुर्घटना। ये सभी गैसोलीन के टैंकर थे। जानकारी दी गई है कि पहले एक टैंकर में आग लगी, उसके बाद अन्य टैंकर भी आग की चपेट में आ गए। घटना के बाद राजधानी के कुछ हिस्से में बिजली बंद कर दी गई। तालिबान के प्रवक्ता जबीबुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि उनका इस घटना में कोई हाथ नहीं है। 


US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स

US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स

न्यूयार्कः अमेरिका के सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा ऑफिसरों को वाशिंगटन DC के उपनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर हिंदुस्तान से लौटे एक यात्री के सामान से उपले मिले हैं. भारतीय यात्री जिस बैग में उपले लाया था, उसे एयरपोर्ट पर ही छोड़ गया था. ऑफिसरों ने बताया कि अमेरिका में उपलों पर बैन है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इससे अत्यधिक संक्रामक मुंहपका-खुरपका रोग हो सकती है.

अमेरिकी सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा (CBP) ने जानकारी दी है कि इन्हें नष्ट कर दिया गया है. विभाग की तरफ से सोमवार को जारी कि गई एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, '' यह गलत नहीं लिखा गया. CBP कृषि जानकारों को एक सूटकेस में से दो उपले मिले हैं.'' बयान के मुताबिक, यह सूटकेस चार अप्रैल को 'एअर इंडिया ' के विमान से लौटै एक पैसेंजर का है. CBP के बाल्टीमोर 'फील्ड ऑफिस' के 'फील्ड ऑपरेशंस' कार्यवाहक निदेशक कीथ फलेमिंग ने बोला है कि, '' मुंहपका-खुरपका रोग जानवरों को होने वाली एक रोग है, जिससे पशुओं के मालिक सबसे अधिक डरते हैं और यह सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा के कृषि सुरक्षा अभियान के लिए भी एक खतरा है.''

CBP ने आगे बोला कि उपलों को विश्व के कुछ हिस्सों में एक अहम ऊर्जा और खाना पकाने का स्रोत भी बताया गया है. इसका उपयोग कथित तौर पर 'स्किन डिटॉक्सीफायर', एक रोगाणुरोधी और उर्वरक के रूप में भी किया जाता है. सीबीपी के मुताबिक, इन कथित फायदों के बाद भी मुंहपका-खुरपका रोग के खतरे के कारण हिंदुस्तान से यहां उपले लाना प्रतिबंधित है.


चीन ने जनसंख्या वृद्धि रोकने में हासिल की कामयाबी, लेकिन...       US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स       Italy की इस महिला को एक ही बार में लगे Pfizer Covid-19 Vaccine के 6 डोज       कोविड-19 वायरस के भारतीय स्ट्रेन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने माना खतरनाक, कहा...       'इस्लाम को रियायत मिलने से फ्रांस को खतरा'       कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर भारतीय प्रस्ताव के समर्थन में विश्व स्वास्थ्य संगठन , चीफ साइंटिस्ट ने कहा...       साइबर हमले के बाद अमरीकी फ्यूल पाइपलाइन जल्द हो सकती है शुरू       अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन       विदेश मंत्रालय ने कहा कि ईरान के ऑफिसरों ने सऊदी के साथ द्विपक्षीय मुद्दों पर सीधी वार्ता की पुष्टि की       गाजा पर रॉकेट से हमला, 20 लोग मारे गए       भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...