जयशंकर से मुलाकात के बाद बघेरी कानी बोले...

जयशंकर से मुलाकात के बाद बघेरी कानी  बोले...

ईरानी मंत्री ने बोला कि ईरान के पास विशाल ऊर्जा संसाधन हैं और वह हिंदुस्तान को ऊर्जा आपूर्ति प्रदान करता है. हिंदुस्तान खाद्य स्टेपल का एक प्रमुख प्रदाता है और उसी के साथ ईरान की सहायता करता है. अमेरिका और पश्चिमी शक्तियों ने ईरान, रूस और वेनेजुएला पर प्रतिबंध लगाए हैं.

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और ईरान के सियासी मामलों के उप विदेश मंत्री अली बाघेरी कानी के बीच मुलाकात हुई है. ईरान के परमाणु मामलों से संबद्ध समग्र संयुक्त कार्य योजना (जेसीपीओए) सहित द्विपक्षीय योगदान पर चर्चा की. वहीं सियासी मामलों के ईरानी उप विदेश मंत्री बघेरी कानी के निमंत्रण पर हिंदुस्तान का दौरा किए जाने पर समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए बोला कि ईरान और हिंदुस्तान विभिन्न डोमेन और क्षेत्रों में एक दूसरे के साथ योगदान कर रहे हैं. पिछले साल में दो राष्ट्रों के विदेश मंत्रियों के बीच परामर्श और वार्ता हुई है. 

ईरानी उप विदेश मंत्री बघेरी कानी ने बोला कि द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मैंने आज मैंने अपने समकक्ष भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर के साथ रचनात्मक बैठक की. हमने चर्चा की कि हमें अपने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने और एक-दूसरे के साथ अपनी व्यस्तताओं को जारी रखने के लिए अपने योगदान और परामर्श को मजबूत करने की जरूरत है. वे भागीदार हैं और एक दूसरे को पूर्ण करते हैं. ईरान के पास विशाल ऊर्जा संसाधन हैं और वह हिंदुस्तान को ऊर्जा आपूर्ति प्रदान करता है.

ईरानी मंत्री ने बोला कि ईरान के पास विशाल ऊर्जा संसाधन हैं और वह हिंदुस्तान को ऊर्जा आपूर्ति प्रदान करता है. हिंदुस्तान खाद्य स्टेपल का एक प्रमुख प्रदाता है और उसी के साथ ईरान की सहायता करता है. अमेरिका और पश्चिमी शक्तियों ने ईरान, रूस और वेनेजुएला पर प्रतिबंध लगाए हैं. उन्होंने दुनिया की ऊर्जा सुरक्षा को अस्थिर करने में जरूरी किरदार निभाई है. अन्य सरकारों को इन शक्तियों को उनके द्वारा उत्पन्न मुद्दों के लिए उत्तरदायी ठहराना चाहिए.