रेगिस्तान में Snowfall, सफ़ेद बर्फ ने ढकी इन देशों की रेत

रेगिस्तान में Snowfall, सफ़ेद बर्फ ने ढकी इन देशों की रेत

ठंड का मौसम आते ही दुनिया के कई हिस्सों में बर्फबारी भी शुरू हो जाती है। जनवरी के महीने में ऐसा ज़्यादातर देखा गया है। लेकिन अफ्रीका और मिडिल ईस्ट में ऐसा नज़ारा आपने नहीं देखा होगा। इस साल अफ्रीका के सहारा में जमकर स्नोफॉल हुआ है, जिसके चलते मरुस्थल की पीली रेत बिर्फ़ की सफ़ेद चादर से ढक गया। अरब का तापमान माइनस 2 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है।

दिल खुश कर देने वाला नज़ारा
इस जगह की कई तस्वीरें सामने आईं है जिसे देख आपका दिल भी खुश हो जाएगा। सऊदी अरब के असीर क्षेत्र में रेगिस्तान में हुई इस दुर्लभ बर्फबारी को देखने के लिए दूर दूर से लोग इस स्थान पर इस सुन्दर नज़ारे को देखने आ रहे हैं, साथ ही विदेशी पर्यटको ने भी यहां का माहौल बनाया हुआ है।

हज़ार वर्षों बाद तापमान में गिरावट
समुद्र तल से करीब 1000 मीटर ऊंचाई पर स्थित ये इलाका एटलस माउंटेन से घिरा हुआ है। सहारा मरुस्थल उत्तरी अफ्रीका के अधिकांश हिस्से में फैला हुआ है। जिसके चलते हजारों वर्षों में यहां के तापमान में बदलाव देखा गया है।

वैसे तो अइन सेफरा अभी सूखा पड़ा है, लेकिन 15,000 साल बाद यहाँ एक बार फिर हरे भरे पेड़ पौधे होने की आशंका जताई जा रही है। वही दूसरी तरह, इस सऊदी अरब में बर्फ़बारी होने से यहाँ के लोगों में ख़ुशी और उत्सुकता देखते बन रही है। जहां पहाड़ और रेट दोनों पर ही बर्फ के सफ़ेद चादर बिछे हुए हैं।

पहले भी हुआ ऐसा
खबरों इ माने तो करीब 50 साल बाद इतने निचले स्तर पर तापमान देखें को मिल रहा है। दक्षिणी-पश्चिमी क्षेत्र में पारा माइनस 2 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क चुका है। रेगिस्तानी इलाकों में बर्फ़बारी बेहद कम देखी जाती है । यहां रात के वक़्त तापमान अचानक से गिर जाता है। सहारा के मरुस्थलों में इससे पहले 2018, 2017 और आखिरी रिकॉर्डेड स्नोफॉल साल 1980 में हुआ था।


FATF की ग्रे लिस्ट में बना रहेगा पाकिस्तान, इमरान सरकार को लगा बड़ा झटका!

FATF की ग्रे लिस्ट में बना रहेगा पाकिस्तान, इमरान सरकार को लगा बड़ा झटका!

नई दिल्ली: आर्थिक तंगी झेल रही पाकिस्तान की इमरान सरकार की दिक्कतें कम होती नहीं दिख रही हैं। फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) से पाकिस्तान को फिर कोई राहत नहीं मिली है। आतंकियों पर कार्रवाई करने में विफल पाकिस्तान को एफएटीएफ ने जून तक के लिए अपनी ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा है। एफएटीएफ ने पाकिस्तान को 27 सूत्रीय कारवाई योजना को पूरी तरह लागू करने का कड़ा निर्देश भी दिया है। पाकिस्तान ने एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से बाहर आने की कोशिश में जुटा हुआ था मगर संगठन की ओर से की गई इस कार्रवाई से पाकिस्तान को करारा झटका लगा है।

आतंकियों के खिलाफ करनी होगी कार्रवाई
एफएटीएफ ने पाकिस्तान को जून 2018 में ग्रे लिस्ट में डाल दिया था और उसके बाद से पाकिस्तान लगातार ग्रे लिस्ट से बाहर आने की कोशिश में जुटा हुआ है मगर वह एफएटीएफ को संतुष्ट करने में नाकाम रहा है।

एफएटीएफ के अध्यक्ष मार्कस प्यलेर ने कहा कि पाकिस्तान को एफएटीएफ की चिंताओं को जल्द से जल्द दूर करने की दिशा में काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को दी गई समय सीमा पहले ही खत्म हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने 27 में से 24 बिंदुओं पर कार्रवाई पूरी कर ली है मगर संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से सूचीबद्ध आतंकियों और उनके मददगार उनके खिलाफ कार्रवाई की दिशा में भी ठोस कदम उठाना होगा।

पाक ने नहीं उठाए पर्याप्त कदम
एफएटीएफ का साफ तौर पर कहना है कि अभी आतंकवाद का वित्तपोषण रोकने में पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदम पर्याप्त नहीं है और इनमें गंभीर खामियां हैं। पाकिस्तान की अदालतों को आतंकवाद में शामिल लोगों को कड़ी से कड़ी सजा देने की दिशा में कदम उठाना होगा।

रोकनी होगी आतंकियों को मदद
एफएटीएफ का कहना है कि पाकिस्तान को तीन अधूरे कार्यों को पूरा करना होगा तभी वह ग्रे लिस्ट से बाहर आने में कामयाब हो सकता है। संगठन की जून में होने वाली अगली बैठक में पाकिस्तान के मौजूदा दर्जे पर फिर से फैसला किया जाएगा।

पाकिस्तान को ऐसे आतंकियों और उनके मददगारों पर प्रभावी व ठोस कार्रवाई करनी होगी जो संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा नामित हैं। इसके साथ ही उसे आतंकी फंडिंग की समस्या से निपटने के लिए एक प्रभावी प्रणाली भी बनानी होगी।

संगठन का कहना है कि यदि पाकिस्तान ने तीन अधूरे कार्यों को पूरा करने में कामयाबी हासिल की तो जून में होने वाली अगली बैठक में उसके कदमों की समीक्षा के बाद अगला फैसला किया जाएगा।


आतंकी की रिहाई पर तीखी प्रतिक्रिया
पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने हाल में अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या के मुख्य आरोपी आतंकी उमर सईद शेख को बरी कर दिया था। पर्ल की 2002 में अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी।

उमर सईद शेख को बरी करने पर अंतरराष्ट्रीय जगत ने तीखी प्रतिक्रिया जताई थी। अमेरिका ने पाकिस्तान की अदालत के इस फैसले पर गुस्सा जताते हुए पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई थी। दुनिया के कई अन्य देशों ने भी इस कदम पर नाराजगी जताई थी।

नहीं पूरा हो सका पाकिस्तान का सपना
पाकिस्तान इस बार और तुर्की और चीन की मदद से ग्रे लिस्ट से बाहर आने का सपना देख रहा था मगर पाकिस्तान का यह सपना पूरा नहीं हो सका है। पाकिस्तान जून 2018 से ही ग्रे लिस्ट में बना हुआ है।

इसके बाद हुई एफएटीएफ की कई बैठकों में उसने ग्रे लिस्ट से बाहर आने की कोशिश की है मगर अभी तक उसे कामयाबी नहीं मिल सकी है।

आतंकियों की मदद करता है पाक
एफएटीएफ की ओर से पाकिस्तान को पिछले साल अक्टूबर में सभी 28 बिंदुओं को लागू करने के लिए कहा गया था मगर पाकिस्तान अभी तक सभी बिंदुओं पर कार्रवाई करने में नाकाम रहा है।

पाकिस्तान दुनिया की आंखों में धूल झोंकने के लिए आतंकियों और आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करता है मगर पिछले दरवाजे से आतंकियों की मदद भी करता रहा है। जम्मू-कश्मीर में हुई कई आतंकी घटनाओं में पाकिस्तान और वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआई की ओर से मदद दिए जाने की पुष्टि भी हो चुकी है।


झुमरी तिलैया की शिप्रा सिन्हा ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को उनकी शक्ति का एहसास कराने के लिए एक कविता लिखी है। इस कविता को लोग काफी पसंद कर रहे हैं।        International Women's Day पर अदाकारा जरीन खान ने स्त्रियों को दी खास सलाह, बोलीं...       सिंगर Harshadeep Kaur ने सोशल मीडिया पर दिखाई बेटे की झलक, लिखा...       दिनभर में 7 बार इस समय जरूर पीएं पानी, फिर देखें इसका कमाल       जानें कैसे इस्तेमाल करें Menstrual Cups, महिलाएं छोड़ें लज्जा और झिझक       यहां मंदिर में रखी मातारानी मूर्ति को भी होते हैं ये... जानिए बड़ा रहस्य       पेट्रोल-डीजल केंद्र और प्रदेश को मिलकर सस्ता करना चाहिए : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण       मोदी सरकार बदल सकती है ये बड़ी नियम, कर्मचारियों को सप्ताह में चार दिन करना होगा काम       महाशिवरात्रि पर राहु और केतु की शांति के लिए करें उपाय       आज फाल्गुन मास की दशमी तिथि है, जानें अभिजीत मुहूर्त और राहु काल       IPL 2021 का शेड्यूल जारी, जानिए कब-कब खेले जाएंगे मैच       विराट कोहली ने विवियन रिचर्ड्स को दी जन्मदिन की बधाई       UP: अब एसिड अटैक पीड़ितों और दिव्यांगों को भी लगेगी वैक्सीन       शाहजहांपुर में 26 साल बाद दुष्कर्म पीड़िता ने लगाई न्याय की गुहार       पाक को महंगी पड़ी चीन की यारी, भारत के विमानों के आगे नहीं ठहरा उसका जेएफ-17       जल्द निपटा लें ये जरूरी काम, 31 मार्च है अंतिम तारीख       अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर खास, उन पुरुषों को सलाम जिन्होंने महिलाओं को दिया मुकाम       भारत व इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाले चौथे टेस्ट में जानिए कैसा रहेगा मौसम व पिच का हाल       कब और कहां देखें भारत-इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच       भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड के खेमे में खलबली