गर्भवस्था में महिलाओं को इस पोजीशन में सोना हो सकता है खतरनाक

गर्भवस्था में महिलाओं को इस पोजीशन में सोना हो सकता है खतरनाक

महिलाओं को गर्भवस्था में अपनी सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। इसके साथ ही बच्चे की सेहत को भी नुकशान पहुँच सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही सोने की पोजीशन के बारे में बताने जा रहे जो आपको राहत प्रदान कर सकती है। गर्भावस्था के अंतिम हफ्ते में गर्भवती महिलाओं का पीठ के बल सोना 10 सिगरेट पीने जितना खतरनाक हो सकता है। 

इस पोजीशन में सोना होता है खतरनाक

ऑकलैंड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के अनुसार, जो महिला अपने गर्भावस्था के त्रैमासिक अवधि के दौरान एक तरफ मुंह करके लेटने की बजाय पीठ के बल लेटती है, तो उनके जन्म लेने वाले बच्चे का वजन कम होने की संभावना तीन गुना तक बढ़ जाती है। 


वैज्ञानिकों का मानना है कि गर्भावस्था के अंतिम दिनों में पीठ के बल लेटने से बच्चे में रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है। पीठ के बल लेटने पर मां के बड़े हुए गर्भ आकार की वजह से गर्भ नाल संकुचित हो जाती है।


किसी भी तरह की बीमारी से बचे रहने के लिए गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से व्यायाम करना भी जरूरी है। व्यायाम से उनका ब्लड शुगर नियंत्रित रहने के साथ-साथ मां और बच्चे में टाइप-2 डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा भी कम होता है।


बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

सेहत के लिए जानना जरूरी है कि कब, क्या और कितना खाना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान यह और जरूरी होता है, क्योंकि आपके संग बच्चे की सेहत का सवाल भी होता है। हालांकि, भारत में पोषण के कुछ फैक्ट इसकी दुखद तस्वीर पेश करते हैं।

भारत में 26.8 फीसदी महिलाओं की शादी 18 साल से पहले हो जाती है। इसकी वजह से 22.9 प्रतिशत महिलाएं प्रेग्नेंसी के समय कम वजन की होती हैं। यही कारण है कि भारत में 58 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकार हैं।

गर्भावस्था के दौरान पोषण इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि आपके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं। बच्चे की ग्रोथ के लिए यह काफी अहम भी है। इस दौरान फीटल ग्रोथ रिस्ट्रिक्शन (एफजीआर) का जोखिम काफी होता है। दुनियाभर में इसकी वजह से एक-चौथाई बच्चे काल के गाल में समा जाते हैं। खराब पोषण की वजह से बच्चे समुचित वजन हासिल नहीं कर पाते हैं। वहीं, कुछ मामलों में इसकी वजह से बच्चों का कॉगनिटिव विकास नहीं हो पाता है।

वयस्क रोग की भ्रूण उत्पत्ति

ऐसा स्वीकार किया जा चुका है कि गंभीर बीमारियों की बड़ी वजह खराब लाइफस्टाइल है। कोरोनरी हार्ट डिजीज, डाइबिटीज मेलिटस और हाइपरटेंशन फेटल लाइफ न्यूट्रिशन के बाई-प्रोडक्ट्स होते हैं। फीटल लाइफ के समय महिलाओं के भूखे रहने से इंसुलिन रजिस्टेंस सिंड्रोम होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में गर्भावस्था को दौरान बेहतर न्यूट्रिशन जरूरी है, क्योंकि इससे बाल मृत्यु दर, पैटर्न बर्थ, कम वजन के बच्चे पैदा होने जैसी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता है।

मां के समुचित पोषण के ये हैं असर-

-मां के माइक्रोन्यूट्रिएंट स्तर में सुधार

- कम वजन के बच्चों में कमी

-पोस्ट डिलीवरी ब्लीडिंग एमएमआर में कमी

-मातृत्व एनीमिया में कमी, प्रीमैच्योर बेबी में कमी

-गर्भपात में कमी, दिमाग के नुकसान में कमी

मातृत्व पोषण को ऐसे सुधारें

स्वस्थ खान-पान के लिए काउंसिलिंग करें। बैलेंस्ड एनर्जी और प्रोटीन डाइटरी सप्लीमेंट्स लें। फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन (400 माइक्रोग्राम) पहले ट्राइमिस्टर में लें। आयरन और फोलिक एसिड दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैल्शियम सप्लीमेंट्स दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैफीन का सेवन कम करें। पास्चुराइज्ड दूध ही लें। बिना पका और कम पका खाना न लें। बिना पका मीट भी न लें। किसी भी फल-सब्जी को धोकर खाएं। खाना खाने से पहले हाथ धोएं। बागवानी करते समय दास्ताने पहनें और हाथों को अच्छी तरह धोएं।

गर्भावस्था में डाइट

-प्रेग्नेंसी में अतिरिक्त ऊर्जा के रूप में 350 किलो कैलोरी की आवश्यकता होती है

-दूसरी और तीसरी तिमाही में पोषक स्नैक्स जरूरी है

-कम वजन वाली प्रेग्नेंट महिलाएं एक अतिरिक्त स्नैक्स लें। अधिक वजह वाली महिलाएं पूरे दिन में छोटे-छोटे मील (खाना) लें।

-कम पोषण वाला खाना खाने की वजह से महिलाओं को चक्कर आना, मितली आना, भूख कम लगना जैसे समस्याएं होती हैं।


वित्त मंत्रालय में हुआ हलवा कार्यक्रम, आजादी के बाद पहली बार नहीं होगी बजट की छपाई/       महंगे पेट्रोल-डीजल से उपभोक्ताओं के दूसरे निजी खर्चों में होगी कटौती       तेज स्पीड इंटरनेट और हर स्टूडेंट तक गैजेट सुनिश्चित करे बजट, एजुटेक को मिले बढ़ावा       आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में क्या हैं भाव       विकासोन्मुख हो बजट, नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत       Big Bazaar ग्राहकों के लिए लाया है बेहद आकर्षक ऑफर, इतने रुपये के पूर्व-भुगतान पर मिलेगा 3000 रुपये की खरीदारी का मौका       मैथ्यूज का नाबाद शतक, श्रीलंका ने पहले दिन बनाए 4 विकेट पर 229 रन       इस पूर्व क्रिकेटर ने की मांग, इन दो खिलाड़ियों की जगह रिषभ पंत को मिले वनडे और टी20 में जगह       टीम इंडिया टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को कितने के अंतर से हराएगी, ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने की भविष्यवाणी       शुभमन, सिराज व शार्दुल समेत छह भारतीय खिलाड़ियों को मिलेगी नई गाड़ी       इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी ने बताया, विराट कोहली किस बड़ी घटना के बाद छोड़ देंगे टीम इंडिया की कप्तानी       अजिंक्य रहाणे ने जीत के बाद इस भारतीय खिलाड़ी के लिए कहा था, 'आपका समय जरूर आएगा'       नवदीप सैनी ने इंजरी के बावजूद क्यों किया था गेंदबाजी करने का फैसला!       सुनील गावस्कर ने कहा कि अजिंक्य रहाणे को छोड़कर हर कोई ऑस्ट्रेलिया में मिली जीत का श्रेय लेगा       8 छक्के जड़ एलेक्स हेल्स ने जमाया तूफानी शतक, बना डाला टूर्नामेंट का सबसे बड़ा स्कोर       जेम्स एंडरसन ने एशियाई धरती पर टेस्ट में किया बेस्ट प्रदर्शन और सबसे ज्यादा उम्र में किया बड़ा कमाल       टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए अब 2 किलोमीटर की रेस इतनी देर में करनी होगी तय       IPL 2021 के नीलामी की तारीख आई सामने, BCCI ने दी जानकारी कब होगी नीलामी       IPL 2021: रॉबिन उथप्पा को CSK ने इतने करोड़ रुपये देकर राजस्थान रॉयल्स से खरीदा       इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई में बिना दर्शकों के खेले जाएंगे पहले दो टेस्ट मैच