इस अलसी के पावडर से आपको मिलेगा बीमारियों में रोकथाम व वजन होगा तेजी से कम

इस अलसी के पावडर से आपको मिलेगा बीमारियों में रोकथाम व वजन होगा तेजी से कम

सेहतमंद रहने के लिए जितनी प्राकृतिक चीजों का प्रयोग किया जाए, उतना बेहतर है. ऐसी ही प्राकृतिक चीजों में शामिल है अलसी. से जुड़े डाक्टर लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, वर्तमान में समय में स्वस्थ्य रहने में अलसी बहुत मददगार साबित होती है.

यह एक जरूरी जड़ी बूटी है, जो प्रोटीन से भरपूर है. इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड है. अब तो मार्केट में अलसी के सप्लिमेंट भी आ गए हैं, जिन्हें खानपान में शामिल कर स्वास्थ्य का फायदा पाया जा सकता है.

वजन कम करने में सहायक होता है अलसी का पावडर
डाक्टर लक्ष्मीदत्त शुक्ला बताते हैं, 'अलसी के बीज में ओमेगा-3 फैटी एसिड के साथ ही फाइबर व लिगनेन होते हैं, जो वजन कम करने में सहायक पाए गए हैं. इसके सेवन से शरीर को स्वस्थ्य वसा मिलती है. साथ ही फाइबर पेट भरने का अनुभव देता है. इसका सेवन करने के बाद लंबे समय तक भूख का अहसास नहीं होता है.' अलसी में विटामिन बी, पोटेशियम, मैग्निशियम व जस्ता भरपूर मात्रा में होते हैं. ये भी वजन घटाने में सहायक हैं.

अलसी प्रोटीन से भरपूर है. 100 ग्राम अलसी में 18 ग्राम प्रोटीन होता है. प्रोटीन भी वजन कम करने में मदद करता है. इसलिए बढ़ा हुआ वजन कंट्रोल करना चाहते हैं तो अलसी का सेवन करें. अलसी के सेवन का सबसे अच्छा उपाय है इसके बीज या बीज के पाउडर का सेवन. इस पावडर को सूप, सलाद, सब्जी, दही या मिक्स जूस के साथ सेवन किया जा सकता है.

बीमारियों की रोकथाम में उपयोगी अलसी

अलसी कई गंभीर बीमारियों की रोकथाम में उपयोगी है. अमेरिकी कैंसर अनुसंधानकर्ताओं के अध्ययन में इशारा मिले हैं कि कैंसर के जोखिम को अलसी के बीज से घटाया जा सकता है. इससे प्रोस्टेट, डिम्बग्रंथि, स्तन कैंसर व पेट के कैंसर से लड़ने में सहायक है. अलसी के बीज का रोजाना सेवन किया जाए तो टाइप-2 डायबिटीज के रोगियों में ब्लड शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है. 12 हफ्तों तक अलसी के बीज का सेवन करने से ब्लड शुगर कंट्रोल रहती है.

अलसी में खूब फाइबर होता है, जो पाचन तंत्र को सुधारता है. यह कब्ज से छुटकारा पाने का अच्छा साधन है. यह आंतों को भी नरम करता है.

अलसी के बीज में घुलनशील व अघुलनशील, दोनों फाइबर होते हैं, तो विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं. जब विषाक्त पदार्थ शरीर से बाहर निकलते हैं तो थकान, कमजोरी, सूजन की समस्या भी दूर हो जाती है.

ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होने के कारण अलसी बालों के लिए भी जादूई औषधि है. इससे न सिर्फ बाल स्वस्थ्य होते हैं, बल्कि सिर की स्कीन को भी पोषण मिलता है. नियमित रूप से इसका सेवन करने वालों को डैंड्रफ, खुजली व बालों का झड़ना जैसी समस्याएं नहीं होती हैं.

अलसी के सेवन में बरतें ये सावधानियां

अलसी गुणकारी है, लेकिन इसका सेवन करते समय कुछ सावधानियां बरतना महत्वपूर्ण है. जैसे - गर्भवती स्त्रियों या स्तनपान करवा रही स्त्रियों के लिए अलसी को ठीक नहीं माना जाता. जो लोग खून पतला करने का दवाएं ले रहे हैं, उन्हें चिकित्सक की सलाह के बाद ही अलसी खाना चाहिए. डायबिटीज के मरीज इसका सेवन जरूर करें, लेकिन ब्लड शुगर की जाँच भी करवाते रहें.