ठंड में अमरुद क्यों खाती हैं लड़कियां ?

ठंड में अमरुद क्यों खाती हैं लड़कियां ?

सर्दियाँ आते ही कई फल मार्किट में आ जाते हैं। लड़कियां वैसे भले ही कुछ न खाएं लेकिन जैसे ही मौसम शुरू होता है तो ठंड में लड़कियां अपनी सेहत और ब्यूटी का ख्याल करते हुए मौसमी फलों को खाना नहीं भूलतीं। इसी में से एक है अमरुद। जो लड़कियां कॉलेज में जाती है कॉलेज ख़त्म होने के बाद बाहर ठेले पर बिक रहा अमरुद ज़रूर खाती हैं। आखिर ऐसा क्यों करती हैं लड़कियां ?

अमरुद के फायदे:
ठंड के महीने में जितना आनंद हरी साग सब्जियों को खाने का आता है।ठीक उतना ही मजा ठंड के फलों का राजा अमरूद का स्वाद लेने में भी आता है। अमरूद के कई फायदे तो होते ही हैं। साथ ही इस महीने में यह बेहद आसानी से उपलब्ध होता है। 

त्वचा और बालों के लिए भी अमरूद का सेवन काफी फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।यह बालों को दो मुंहा होने से बचाता है। यह आयरन के अवशोषण में भी सहायक होता है, जो बालों की सेहत के लिए एक महत्वपूर्ण न्यूट्रीएंट होता है।

अमरूद में विटामिन ए, बी, सी और पोटैशियम पाया जाता है, जिसकी वजह से चेहरे में काफी निखार आता है. इससे झुर्रियां नहीं पड़ती और चेहरे में कभी भी थकान नजर नहीं आती।

अमरूद और अंडे को साथ में अगर चेहरे पर लगाया जाये तो इससे भी चेहरे की रंगत बरकरार रहती है। रंगत में निखार लाने में गुलाबी अमरूद का उपयोग सहायक होता है।

मुंहासों और दाग-धब्बों को दूर करने के लिए अमरूद की ताजी पत्तियां अगर पीस कर लगाई जाये तो काफी सहायक साबित होती है।

तो अब बात समझ आई की अकहिर क्यों लड़कियां ठंड में अपनी सखियों के साथ कॉलेज के बाहर लगे ठेले पर घंटों समय बिता देती हैं। लकड़ों के लाख कहने पर भी वो कुछ और खाने की बजाय अमरुद ही खाते है। अमरुद से उन्हें सेहत और ब्यूटी दोनों का फायदा होता है। 


लड़कियों के वैजाइना के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक हैं ये चीजें

लड़कियों के वैजाइना के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक हैं ये चीजें

महिलाएं अपने प्राइवेट पार्ट्स को लेकर हमेशा सजग रहती है। और रहे भी क्यों नहीं प्राइवेट पार्ट शरीर का सबसे नाजुक हिस्सा होता है। ऐसे में आपके द्वारा की गई एक छोटी-सी गलती भी उसे नुकसान पहुंचा सकती है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही हानिकारक चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका इस्तेमाल वैजाइना के लिए घातक हो सकता है। 

वैजाइना के लिए ना करें इन चीजों का इस्तेमाल:

अगर आप भी सफेद प्यूबिक हेयर के लिए डाई का यूज करती हैं तो सतर्क हो जाएं क्योंकि इससे इंफेक्शन फैल सकता है। जी हां, डाई में मौजूद कैमिकल्स, वैजाइना इंफेक्शन, जलन और खुजली का कारण बन सकते हैं।

साबुन में केमिकल होता है इसलिए उसे अपने वैजाइना के अंदर ना आस-पास इस्तेमाल ना करें। इससे वैजाइनल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही इससे वैजाइना में जलन और खुजली की समस्या भी हो सकती है।


वैसलीन ल्यूब्रिकेशन के लिए एक बहुत आसान तरीका होता है लेकिन साथ ही ये वैजाइना के लिए हानिकारक भी होता है। इसकी वजह से वैजाइना में इंफेक्शन होने का खतरा होता है।

डाउच एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें पानी और सिरका को मिलाकर वैजाइना को साफ किया जाता है। मगर ये वैजाइना में पाए जाने वाला नेचुरल बैक्टीरिया को कम कर देता है।


नीचे की ओर हेयर रिमूवल क्रीम लगाने से उस एरिया पर घाव आदि हो सकता है और साथ ही संक्रमण का खतरा भी हो सकता है। आप चाहें तो वैजाइना को शेव या वैक्‍स कर सकती हैं।

कुछ महिलाएं प्राइवेट पार्ट का कालापन दूर करने के लिए ब्लीच का यूज करती हैं लेकिन करना आपके लिए हानिकारक हो सकता है। इसमें मौजूद कैमिरल्स इंफेक्शन, जलन और रैशज की समस्या पैदा कर सकते हैं।


Covid-19: बिहार में ब्लैक फंगस से अब तक 76 की मौत       16 जून से बिहार के लोगों को मिलेगी छूट या बढ़ेगी पाबंदी       बिहार में कोविड-19 से आठ मरीजों की मौत, इतने नए मुद्दे आए सामने       इन इलाकों में होगी भारी बारिश, समय से पहले पहुंचा मानसून       यूपी में आज से रेहड़ी-पटरी दुकानदारों के लिए विशेष टीकाकरण अभियान       महंगाई को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर भड़की मायावती, बोलीं...       सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर       हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र       युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी       धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा       OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार       पौष्टिक आहार, पढ़ाई और प्यार, बच्चों के लिए अत्यंत अनिवार्य: शालिनी गुप्ता,  बाल श्रम उन्मूलन दिवस पर पारहो में फूड न्यूट्रिशन किट का किया वितरण        Muslim Lawmaker Ilhan Omar ने US और Israel की तुलना तालिबान से कर डाली       दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं       अमेरिका में फेडरल जज बनने वाले पहले मुस्लिम बने जाहिद कुरैशी       70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत       कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?       PM मोदी से मुलाकात कर बहुत खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बड़ी बात       राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...       अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं