यह गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी टेस्टी होने साथ-साथ हेल्थी भी है, ऐसे बनाये

यह गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी टेस्टी होने साथ-साथ हेल्थी भी है, ऐसे बनाये
सर्दियों के मौसम में तिल के लड्डू, ड्राई फ्रूट्स के लड्डू और पंजीरी जैसे व्यंजन खाने को मिलते हैं। ये तासीर में गर्म होते हैं जिससे ठंड के मौसम शरीर को गर्माहट मिलती है। सर्दियों में गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी खाने का अलग मजा है।
ये खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बहुत हेल्दी भी होती है। सर्दी के मौसम में ड्राई फ्रूट्स पंजीरी खाने से शरीर को गर्मी और ताकत दोनों मिलती है। ये पंजीरी इतनी स्वादिष्ट होती है कि बच्चे-बूढ़े सभी इसे खाना पसंद करते हैं। ये पंजीरी कैलोरी और पोषक तत्वों से भरपूर होती है इसलिए प्रेगनेंट महिलाओं को भी ड्राई फ्रूट्स पंजीरी खानी चाहिए। आज के इस लेख में हम आपको ड्राई फ्रूट्स पंजीरी की आसान विधि बताने जा रहे हैं -
गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी बनाने के लिए जरूरी सामग्री 
200 ग्राम घी
3/4 कप चीनी
30 ग्राम काजू
1 बड़ा चम्मच तरबूज के बीज
1/2 छोटा चम्मच इलायची
200 ग्राम गेहूं का आटा
1/2 कप बादाम
3/4 कप कमल बीज
1 बड़ा चम्मच खरबूजे के बीज
पिसा हुआ पिस्ता
गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी बनाने की विधि 
गोंद ड्राई फ्रूट्स पंजीरी बनाने के लिए एक कढ़ाई में घी गरम करके बादाम, काजू, गोंद और मखाना भून लें।
अब एक दूसरे पैन में नारियल और खरबूजे के बीज को 2-3 मिनट के लिए भून लें। 
अब सभी को गोंद के साथ मिक्सी में डालकर दरदरा पीस लें। फिर मखाना, बादाम और काजू डालकर इन्हें भी क्रश कर लें। 
इसके बाद पिसे हुए गोंद के मिश्रण में खरबूजे के बीज, कद्दूकस किया नारियल और किशमिश डालकर अच्छी तरह मिला लें।
आपका गोंद ड्राईफ्रूट पंजीरी सर्व करने के लिए तैयार है।
 

पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करता है तांबे के बर्तन में पानी का सेवन, जाने अन्य लाभ

पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करता है तांबे के बर्तन में पानी का सेवन, जाने अन्य लाभ

जानें अनजाने अपने भी कई बार लोगों से यह बातें सुनी होगी कि तांबे के बर्तन में रखा गया पानी आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि आखिर क्यों तांबे के बर्तन में पानी पीना आपके सेहत के लिए इतना फायदेमंद होता है।

साथ ही हम आपको बताएंगे कि कौन से समय में तांबे के बर्तन में रखा गया पानी पीना आपकी सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद हो सकता है । और इसे पीने से क्या-क्या फायदे मिलते हैं।
आयुर्वेद के अनुसार, तांबे के बर्तन में रखा गया पानी इसमें पैदा होने वाले बैक्टीरिया को खत्म करके पानी को पूरी तरह से शुद्ध कर देता है।

पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करें

तांबे के बर्तन में रखा पानी पेट की समस्याओं के लिए रामबाण औषधि माना जाता है। आजकल लोगों को अक्सर गैस, अपच जैसी परेशानियां बनी रहती हैं, ये पानी इन परेशानियों से छुटकारा दिलाने में कारगर है। इस पानी में ऐसे तमाम गुण होते हैं जो नुकसानदायक बैक्टीरिया को खत्म करते हैं और पेट की सूजन और इन्फेक्शन को दूर करते हैं। तांबे के बर्तन का पानी आंतों की गंदगी को साफ करता है। इसके अलावा इस पानी से त्वचा संबन्धी तमाम समस्याओं से भी बचाव होता है।

कब न पिए
अगर अल्सर की समस्या है या एसिडिटी है तो इस पानी को न पिएं, गर्म तासीर का होने की वजह से ये समस्या को बढ़ा सकता है।

तांबे के बर्तन में दूध या दूध से बनी चीजें और खट्टी चीजें न डालें।

यह भी पढ़े-

सुबह खाली पेट पीना हो सकता है लाभकारी
अगर आपको तांबे के बर्तन में पानी पीने का पूरा लाभ उठाना है तो आपको सुबह सुबह उठकर तांबे के बर्तन में पानी पीना चाहिए । खाली पेट सुबह सुबह तांबे के बर्तन में पानी पीने से आपको सबसे ज्यादा लाभ मिलता है।