हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो करें ये काम

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो करें ये काम

हाई ब्‍लड प्रेशर आधुनिक लाइफस्‍टाइल की सबसे बड़ी देन है. जिसे हम 'साइलेंट किलर' के नाम से भी जानते हैं. खान-पान की गलत आदतें, स्‍ट्रेस व अच्छा से नींद ना लेने के अतिरिक्त बॉडी में सोडियम इस समस्‍या का मुख्‍य कारण है. इसके आम लक्षणों में सिरदर्द, चक्कर आना व दिल की धड़कन बढ़ना आदि शामिल हैं. यह समस्‍या तब होती है जब हार्ट की आर्टरीज में प्रेशर बढ़ जाता है तब ब्‍लड को ऑर्गन तक सप्लाई करने के लिए ज्यादा प्रेशर लगाना होता है.



नींद सेएनर्जी के लेवलको बनाए रखने, आराम दिलाने व तनाव मुक्‍त होने में हेल्‍प मिलती है. अगर आपको कार्य का तनाव है तो नींद लेने से आप को अच्छा होने में हेल्‍प मिलती है.दुर्भाग्य सेसही से नींद न ले पानाऔर कार्य का तनाव साथ-साथ होता है, व जब यहहाई ब्‍लड प्रेशरके साथ मिलता है तो परिणाम व भी खतरनाक होते हैं.

हाई ब्‍लड प्रेशर एक गंभीर समस्‍या है व इससे ग्रस्‍त स्त्रियों को इसे कंट्रोल करने के तरीकों के बारे में सोचना चाहिए. क्‍योंकि अगर समय पर इसे कंट्रोल ना किया जाए तो यह बॉडी के अन्‍य अंगों जैसे हार्ट व किडन को नुकसान पहुंचा सकती है. जी हां हाई ब्‍लड प्रेशर होने परहार्ट अटैक, किडनी में खराबी आदि जैसी प्रॉब्‍लम्‍स होने की आसार बहुत ज्यादा बढ़ जाती है. अगर आप भी हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्‍त हैं तो बहुत ज्‍यादा तनाव लेने से बचें व भरपूर नींद लें. क्‍योंकि कार्य का प्रेशर व अच्छा से नींद न लेना हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या को बढ़ा सकता है.

अगर आपको लगता हैं कि कार्यालय में कार्य का प्रेशर आप सहन नहीं कर सकती हैं , तो थोड़ा सुस्ता लीजिए. हां, बात आपकी चिंता बढ़ा सकती है, व वह अच्छा से नींद न लेना है. क्‍योंकि एक नयी रिसर्च से पता चला है कि कार्य का बोझ, बोझ से तनाव व अच्छा से नींद नहीं लेना हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्त लोगों मेंदिल की बीमारीसे मृत्यु के खतरे को 3 गुना अधिक बढ़ा देता है.

रिसर्च में हार्ट डिजीज याडायबिटीजरहित 25 से 65 की आयु के 2,000 कर्मचारियों ने भाग लिया, जिन्हें हाई ब्‍लड प्रेशर की शिकायत थी. बिना कार्य के तनाव व अच्छी नींद वाले लोगों की तुलना में, दोनों जोखिम कारकों वाले लोगों में हार्ट डिजीज से मौत की संभावना तीन गुना अधिक थी. रिसर्च में बोला गया है कि अकेलेकाम के तनाववाले लोगों में 1.6 गुना अधिक जोखिम था, जबकि केवल बेकार नींद वाले लोगों में 1.8 गुना अधिक जोखिम था. एक प्रेशर वाली स्थिति में फंस जाने पर आपके पास बदलने की कोई शक्ति नहीं होना हानिकारक है.इसलिए अगर आप हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्‍त हैं तो आज से ही कार्य के बोझ को कम करें व भरपूर नींद लें.