ड्राई स्किन से बचाने का सबसे सरल तरीका, जानिए

ड्राई स्किन से बचाने का सबसे सरल तरीका, जानिए

ड्राई स्किन या सूखी स्कीन असल में बड़ी समस्या नहीं है, लेकिन ध्यान न दिए जाने पर यह एक्जिमा (लाल चकत्ते) या घावों से खून के रिसाव की वजह बनती हैं. एक अन्य संभावित कठिनाई सेकंडरी बैक्टीरियल इन्फेक्शन (लाल त्वचा, सूजन, पस) होता है जिसमें एंटीबायोटिक्स लेने की आवश्यकता पड़ जाती है. बहुत कम मामलों में ही सही, सूखी स्कीन का एलर्जी से भी संबंध पाया जाता है.

त्वचा में नमी रखें-

त्वचा को सूखने से बचाने का सबसे सरल तरीका उसे नम रखना है. स्किन मॉइस्चराइजर इस कार्य में आपकी बेहद मदद कर सकते हैं. खास बात यह है कि मॉइस्चराइजर जितना ज्यादा गाढ़ा व चिकना होगा, उतना ही ज्यादा प्रभावी होगा. इसमें तीन तरह की मुख्य वस्तुएं होती हैं-

1-ह्यूमेक्टेंट्स जो नमी को आकर्षित करते हैं व इसमें सेरेमाइड्स, ग्लिसरीन, सॉर्बिटॉल, हायएल्यूरोनिक एसिड व लेसिथिन होते हैं.

2-दूसरा समूह होता है पेट्रोलेटम (पेट्रोलियम जेली), सिलिकॉन, लेनोलिन व मिनरल ऑइल का. यह नमी को स्कीन में ही कायम रखने में मदद करते हैं.

3-लिनोलेइक, लिनोलेनिक व लॉरिक एसिड्स जैसे एमोलिएंट्स. यह स्कीन के सेल्स के बीच की जगहों को भरकर उसे मुलायम बनाए रखते हैं.

कुल मिलाकर सबसे प्रभावी (और सबसे किफायती) की श्रेणी में पेट्रोलियम जैली व मॉइस्चराइजिंग ऑइल (जैसे मिनरल ऑइल) को रखा जा सकता है. दरअसल, इनमें पानी का अंश नहीं होता व नहाने के बाद स्कीन को नम रखने में यह सहायक होते हैं. कम चिकने मॉइस्चराइजर ज्यादा सुन्दर मगर कम प्रभावी होते हैं.

सूखी स्कीन से कैसे बचें?

1-गर्म पानी से नहाने या शॉवर करने की अवधि को 5 से 10 मिनट तक ही सीमित कर दें. जितना ज्यादा नहाएंगे स्कीन की तैलीय परत कम होती जाएगी.

2-नहाने के लिए बहुत गर्म पानी की बजाय कुनकुना (गुनगुना) पानी प्रयोग करें.

3-साबुन का प्रयोग कम से कम करें.

4-सेटाफिल, ऑइलटम-एडी, एक्वेनिल जैसे सोप-फ्री क्लीन्सर्स का प्रयोग करें.

5-खुशबूदार साबुन, अल्कोहल से दूरी बनाएं.

6-बाथ स्पंज, स्क्रब ब्रश व कपड़े धोने को टालें.

7-नहाने के बाद शरीर को सूखाने के दौरान टॉवेल को जोर से न रगड़ें.

8-नहाने या हाथ धोने के तत्काल बाद मॉइस्चराइजर लगाएं.

9-पेट्रोलियम जैली व गाढ़े क्रीम्स का चिपचिपापन टालने के लिए पहले उसे कुछ देर हाथ में मलें फिर शरीर के प्रभावित हिस्से पर लगाएं.

10-त्वचा पर कभी न खुजाएं. मॉइस्चराइजर लगाने पर वैसे इसकी आवश्यकता ही नहीं पड़ेगी.

11-खुजली वाले हिस्से पर कोल्ड पैक से भी राहत मिल सकती है.

12-खुजली पैदा करने वाले वूलन स्वेटर, जैकेट सीधे शरीर पर न पहनें. पहले कॉटन का कपड़ा पहनें, उसके ऊपर ऊनी कपड़े पहनें.