बालो की समस्या से छूटकारा पाने के लिए करे ये...

बालो की समस्या से छूटकारा पाने के लिए करे ये...

सर्दी के मौसम में कई लोगों को भिन्न-भिन्न किस्म की तकलीफों का सामना करना पड़ता है, सिर में खुजली उनमें से एक है. www.myupchar.com से जुड़े ऐम्स, दिल्ली के डाक्टर ओमर अफरोज़ का बोलना है, सिर में खुजली से सिहरन व दर्द महसूस होने कि सम्भावना है. 

 

सिर खुजलाने से आपको बेहतर महसूस होने कि सम्भावना है, या इससे दर्द भी होने कि सम्भावना है. सिर में खुजली के साथ होने वाले प्रमुख लक्षण हैं: गंजापन, सिर की रूखी त्वचा, सिर में सफेद पपड़ी, पस से भरे घाव, स्कीन का लाल होना, सिर में सूजन, सिर में घाव, स्कीन पर जलन, हल्का बुखार आदि.


परेशानियों की वजह
ऐसी हर वो हालात जो सिर की स्कीन को इतना सूखा बना दे कि पपड़ियां निकलने लगे, डेंड्रफ के तेजी से फैलने की वजह बन सकती है. अगर पीड़ित या पीड़िता ने उपचार नहीं कराया तो यह उसकी खोपड़ी व बालों के लिए भी घातक साबित होने कि सम्भावना है.  सिर में शुष्क या सूखी स्कीन कई बीमारियों की जड़ है. सूखी त्वचा, रूसी व इन्फेक्शन जैसी समस्याओं के साथ ही सिर में कई तरह की तकलीफें हो सकती हैं. सेबोरिक डर्माइटिस, एक्जिमा, स्केल्प सोरायसिस व स्केल्प रिंगवर्म भी डेंड्रफ या सिर की सूखी स्कीन की वजह बन सकता है. 


फंगल इन्फेक्शन: टिनिया केपिटिस या रिंगवर्म खोपड़ी में बहुत जमकर खुजली की वजह बन सकता है. कुछ लोगों की स्कीन पर तो पपड़ियां व फफोले तक हो जाते हैं. कुछ अन्य फंगल इन्फेक्शन भी डेंड्रफ की वजह बनकर बालों के झड़ने का कारण बन सकते हैं. एंटीफंगल इलाज से लाभ होने कि सम्भावना है.
स्केल्प सराइसिस: सराइसिस एक किस्म की ऑटो इम्यून स्थिति है जो सिर की स्कीन पर प्रभाव डालकर स्कीन को खुजलीवाला व परतदार बना सकता है. हालांकि यह डेंड्रफ तो नहीं है, लेकिन डेंड्रफ जैसे ही लक्षण हैं. इससे परेशान आदमी के सिर पर जगह-जगह गंजेपन के स्पॉट से बन जाते हैं. 
फॉलिकल्टिस डिकेल्वेन्स: यह बेहद दुर्लभ स्थिति बालों के रोमों को नष्ट कर देती है. साथ ही इसके साथ खोपड़ी पर लाल चकत्ते बन जाते हैं. खुजली के कारण पीड़ित को डेंड्रफ होने की गलतफहमी हो सकती है.