स्वास्थ्य

सूरजमुखी का बीज इस बिमारी को नियंत्रण करने में करता है मदद

डायबिटीज मेलिटस (डीएम) एक मेटाबोलिक सिंड्रोम है जो नस्ल और जातीय समूहों के भेदभाव के बिना पूरे विश्व में एक महामारी की तरह फैल रहा है और पूरे विश्व में मृत्यु का कारण बन गया है यह रक्त में ग्लूकोज के उच्च स्तर को बताता है लोग टाइप वन और टाइप टू डायबिटीज के शिकार हो रहे हैं डायबिटीज मेलिटस को दवाओं के माध्यम से नियंत्रित किया जाता है लेकिन कई अध्ययनों से साबित हुआ है सूरजमुखी के बीच इसे नियंत्रण करने में जरूरी किरदार निभा सकते हैंNewsexpress24. Com download 11zon 2023 12 08t151640. 515

इनमें होता है बायोएक्टिव घटक
इन बीजों में बायोएक्टिव घटक होते हैं, जैसे सूरजमुखी के बीजों में क्लोरोजेनिक एसिड और सेकोइसोलारिसिनॉल डिग्लुकोसॉइड जो है, जो इंसुलिन उत्पादन के इलाज में शामिल हैं विभिन्न अध्ययनों में चूहों और मनुष्यो द्वारा इन बीजों के अर्क की भिन्न-भिन्न मात्रा का सेवन किया गया और इसके परिणामस्वरूप बेहतर ग्लाइसेमिक नियंत्रण हुआ, जिससे यह पता चला कि ये बीज डायबिटीज के विरुद्ध काम करते हैं

बीजों का हानि नहीं

भोजन और उसके अर्क के सेवन से विभिन्न रोगों का उपचार करने पर रासायनिक रूप से तैयार दवाओं की तुलना में कम दुष्प्रभाव होते हैं ये खाद्य पदार्थ मधुमेह जैसी रोग की गंभीरता को कम और उपचार कर सकते हैं टाइप 2 मधुमेह के उपचार के लिए विभिन्न बीजों जैसे सूरजमुखी के बीज, सन बीज, या कद्दू के बीज का इस्तेमाल किया जाता है बीजों में अन्य बायोएक्टिव यौगिकों के साथ-साथ विभिन्न सूक्ष्म और मैक्रोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो ग्लूकोज और इंसुलिन चयापचय में किरदार निभाते हैं

सूरजमुखी के बीज के अर्क का प्रभाव
सूरजमुखी के बीजों में फाइबर, प्रोटीन, असंतृप्त वसा, सेलेनियम, तांबा, जस्ता, लोहा, विटामिन ई जैसे अत्यधिक पौष्टिक गुण होते हैं और कई अन्य पोषक तत्व, एंटीऑक्सिडेंट, खनिज और विटामिन होते हैं जो रोंगों के उपचार में जरूरी किरदार निभाते हैं क्लोरोजेनिक एसिड, क्विनिक एसिड, कैफिक एसिड, ग्लाइकोसाइड्स और फाइटोस्टेरॉल की उपस्थिति के कारण इस बीज में डायबिटीज विरोधी गुण होते हैं

 

Related Articles

Back to top button