कोविड होने के कितने दिन बाद तक बच्‍चों पर दें विशेष ध्‍यान

कोविड होने के कितने दिन बाद तक बच्‍चों पर दें विशेष ध्‍यान

नई दिल्‍ली कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर (Covid Third Wave) को लेकर लोगों में चिंता है वहीं कई वैज्ञानिकों के तीसरी लहर में बच्‍चों के कोविड प्रभावित होने की आसार जताने के बाद यह चिंता और भी ज्‍यादा बढ़ गई है ऐसे में कोविड और कोविड के बाद होने वाली रोंगों (Post Covid Disease) को लेकर भी सावधान रहना महत्वपूर्ण है

भारत में आई पहली और दूसरी लहर में कोविड-19 की चपेट में आए कुछ बच्‍चों में मल्‍टी सिस्‍टम इन्‍फ्लेमेट्री सिंड्रोम (multi system inflammatory syndrome) की रोग देखी गई है इसमें बच्‍चों के दिल, दिमाग, फेफड़ों, किडनी और लीवर पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है हिंदुस्तान के कई राज्‍यों में बच्‍चों में कोविड-19 से ठीक होने के बाद आकस्मित अन्‍य बीमारियां उभर आईं, जिसे लेकर जानकारों ने भी चिंता जाहिर की है

कोविड-19 के बाद पैदा हुई ये वे बीमारियां हैं जो पोस्‍ट कोविड इफैक्‍ट या लांग कोविड के रूप में बच्‍चों को लंबे समय तक परेशान करेंगी बच्‍चों में डायबिटीज और ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या भी सामने आई है ऐसे में कोविड-19 से बचाव के साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य जानकार अभिभावकों को बच्‍चों को कोविड के बाद होने वाली रोंगों से बचाने की सलाह दे रहे हैं

ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के पूर्व निदेशक डाक्टर एमसी मिश्र कहते हैं कि बच्‍चों को कोविड-19 से बचाने के लिए उनकी सुरक्षा और कोविड-19 के नियमों का पालन सबसे ज्‍यादा महत्वपूर्ण है पहले तो बच्‍चों को कोविड-19 की चपेट में आने से बचाना है यदि बच्‍चों को कोविड-19 हो भी जाता है तो अभिभावकों को उनके स्‍वास्‍थ्‍य पर नजर रखनी होगी ताक‍ि उन्‍हें पोस्‍ट कोविड होने वाली लाइफलांग रोंगों से बचाया जा सके
कोविड-19 होने के बाद इतने दिन तक रखें विशेष ध्‍यान

डाक्टर मिश्र कहते हैं कि बच्‍चों की स्वास्थ्य का ध्‍यान अभिभावकों को ही रखना होता है ऐसे में कोविड-19 से संक्रमित होकर ठीक हो गए बच्‍चों को लेकर लापरवाह नहीं होना है रोग ठीक होने के कम से कम दो से छह हफ्तों तक इनकी अच्‍छे से नज़र करनी है और किसी भी रोग के लक्षण उभरते हैं तो उसका चिकित्‍सकीय उपचार कराना है

डाक्टर कहते हैं कि मल्‍टी सिस्‍टम इन्‍फ्लेमेट्री सिंड्रोम (multi system inflammatory syndrome) के लक्षण कोविड-19 होने के दो से छह सप्ताह के भीतर दिखाई देने लगते हैं इनमें बीपी का बढ़ना घटना, लगातार बुखार, अंगों का लाल हो जाना, आंखों की सूजन आदि शामिल है ऐसे किसी भी लक्षण को नजरअंदाज न करें अन्यथा बच्‍चों के अंगों पर प्रभाव पड़ सकता है उनके शारीरिक अंग बेकार हो सकते हैं

लिहाजा महत्वपूर्ण है कि कोविड-19 से बचाव के साथ ही कोविड-19 होने के बाद भी बच्‍चों की स्वास्थ्य को लेकर सावधान रहा जाए और सावधानियां बरती जाएं यदि एक बार बच्‍चे के किसी अंग में कमी आ गई तो वह जीवनभर की कठिनाई पैदा कर सकती है ऐसे में बच्‍चों का विशेष ध्‍यान रखें


दैनिक जीवन के अनमोल घरेलू नुस्खे

दैनिक जीवन के अनमोल घरेलू नुस्खे

घरेलु नुस्खे हमेशा से ही असरकारी रहे हैं और इनका प्रयोग सदियों से लोग करते आ रहे। आपको कुछ ऐसे ही घरेलु नुस्खों के बारे में बताएँगे जो बहुत सी बीमारियों में फायदेमंद है।

घरेलू नुस्खे: 

सौंफ चबाना: भोजन के बाद दोनों समय आधा चम्मच सौंफ चबाने से मुख की अनेक बीमारियाँ और सूखी खाँसी दूर होती है, बैठी हुई आवाज़ खुल जाती है, गले की खुश्की ठीक होती है और आवाज मधुर हो जाती है। 

भूख ना लगना: भूख न लगती हो तो बराबर मात्रा में मुनक्का बीज निकला हुआ, हरड़ और चीनी को पीसकर चटनी बना लें। इसे पाँच छह ग्राम की मात्रा में, थोड़ा शहद मिला कर खाने से पहले दिन में दो बार चाटें।

पेट में गैस बनना: पेट में वायु बनने की अवस्था में भोजन के बाद 125 ग्राम दही के मट्ठे में दो ग्राम अजवायन और आधा ग्राम काला नमक मिलाकर खाने से वायु-गैस मिटती है। 

काले धब्बे: चेहरे व कोहनी पर काले धब्बे दूर करने के लिये आधा चम्मच नारियल के तेल में आधे नीबू का रस निचोड़ें और त्वचा पर रगड़ें, फिर गुनगुने पानी से धो लें।

कोलेस्ट्राल: सुपारी का रस लार के साथ मिलकर रक्त को पतला करने जैसा काम करता है। जिससे कोलेस्ट्राल में गिरावट आती है और रक्तचाप भी कम हो जाता है।


Covid-19: बिहार में ब्लैक फंगस से अब तक 76 की मौत       16 जून से बिहार के लोगों को मिलेगी छूट या बढ़ेगी पाबंदी       बिहार में कोविड-19 से आठ मरीजों की मौत, इतने नए मुद्दे आए सामने       इन इलाकों में होगी भारी बारिश, समय से पहले पहुंचा मानसून       यूपी में आज से रेहड़ी-पटरी दुकानदारों के लिए विशेष टीकाकरण अभियान       महंगाई को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर भड़की मायावती, बोलीं...       सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर       हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र       युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी       धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा       OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार       पौष्टिक आहार, पढ़ाई और प्यार, बच्चों के लिए अत्यंत अनिवार्य: शालिनी गुप्ता,  बाल श्रम उन्मूलन दिवस पर पारहो में फूड न्यूट्रिशन किट का किया वितरण        Muslim Lawmaker Ilhan Omar ने US और Israel की तुलना तालिबान से कर डाली       दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं       अमेरिका में फेडरल जज बनने वाले पहले मुस्लिम बने जाहिद कुरैशी       70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत       कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?       PM मोदी से मुलाकात कर बहुत खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बड़ी बात       राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...       अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं