पीरियड्स में पैड्स यूज करते हुए करेंगे ये गलतियां तो हो सकती हैं दिक्कतें

पीरियड्स में पैड्स यूज करते हुए करेंगे ये गलतियां तो हो सकती हैं दिक्कतें

पीरियड्स के दौरान केवल आर्गेनिक पैड्स चुनना ही सबकुछ नहीं होता है। विशेषज्ञों के अनुसार, हमें पैड्स की बनावट से लेकर सही समय पर उन्हें बदलते रहना जैसी अन्य चीजें भी शामिल होती हैं। इस दौरान हमें हाइजीन का भी ख्याल रखना चाहिए। पीरियड्स के दौरान हमें इन 5 चीजों का ध्यान रखना चाहिए। 

1. हमें पैड्स का इस्तेमाल बड़ी ही सुरक्षा के साथ करना चाहिए। हर चार से छह घंटे के बीच हमें सेनेटरी नैपकिन को बदलना चाहिए। इससे इन्फेक्शन का खतरा नहीं होता है। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि जो पैड आप यूज कर रही हैं वह किस क्वालिटी का है।

2. ज्यादातर देखा गया है कि महिलाएं पैड्स खरीदते हुए इसके साइज का ख्याल नहीं रखती हैं। गलत साइज होने पर आपको फिटिंग की समस्या हो सकती है। कई बार ऐसा होता है कि पीरियड्स साईकल खत्म हो जाने के बाद भी महिलाओं को पता नहीं चलता है कि आखिर उन्हें कौन-से साइज का पैड यूज करने चाहिए। अगर रेगुलर साइज नैपकिन जल्दी भर जाता है तो आप लंबे साइज का पैड भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

3. आपको रात के लिए नाइट पैड यूज करने चाहिए। नाइट पैड पीछे की तरफ से ज्यादा लंबे और चौड़े होते हैं, आपको इन्हें यूज करना चाहिए क्योंकि रेगुलर पैड आपकी नींद खराब कर सकते हैं। कोशिश करें कि अलग-अलग पैड्स की समझ रखें। इससे आपको परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

4. कई बार हम जल्दबाजी में पैड में प्रयोग की जाने वाली सामग्री का ध्यान नहीं रखते हैं। जिसके कारण कुछ पैड्स से हमें त्वचा पर रैशेज हो जाते हैं। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रही हैं तो अपने पैड में यूज होने वाली सामग्री का ख्याल रखें। अगर ज्यादा परेशानी हो तो स्त्री रोग विशेषज्ञ के साथ परामर्श भी करें क्योंकि अगर आपको त्वचा सेंसिटिव है तो आपको काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

5. कुछ महिलाएं पीरियड्स में अलग-अलग दिनों के हिसाब से सैनिटेशन मेथड यूज करती हैं। वह कभी टैम्पोन्स का इस्तेमाल करती हैं, कभी मेंस्ट्रुअल और कभी पैड्स का। कोशिश करें कि अगर आप पैड्स यूज कर रही हैं तो वही यूज करें। इससे आपको इन्फेक्शन या रैशेज जैसी चीजों का खतरा हो सकता है।


पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करता है तांबे के बर्तन में पानी का सेवन, जाने अन्य लाभ

पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करता है तांबे के बर्तन में पानी का सेवन, जाने अन्य लाभ

जानें अनजाने अपने भी कई बार लोगों से यह बातें सुनी होगी कि तांबे के बर्तन में रखा गया पानी आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि आखिर क्यों तांबे के बर्तन में पानी पीना आपके सेहत के लिए इतना फायदेमंद होता है।

साथ ही हम आपको बताएंगे कि कौन से समय में तांबे के बर्तन में रखा गया पानी पीना आपकी सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद हो सकता है । और इसे पीने से क्या-क्या फायदे मिलते हैं।
आयुर्वेद के अनुसार, तांबे के बर्तन में रखा गया पानी इसमें पैदा होने वाले बैक्टीरिया को खत्म करके पानी को पूरी तरह से शुद्ध कर देता है।

पेट की अंदरूनी समस्या को जड़ से खत्म करें

तांबे के बर्तन में रखा पानी पेट की समस्याओं के लिए रामबाण औषधि माना जाता है। आजकल लोगों को अक्सर गैस, अपच जैसी परेशानियां बनी रहती हैं, ये पानी इन परेशानियों से छुटकारा दिलाने में कारगर है। इस पानी में ऐसे तमाम गुण होते हैं जो नुकसानदायक बैक्टीरिया को खत्म करते हैं और पेट की सूजन और इन्फेक्शन को दूर करते हैं। तांबे के बर्तन का पानी आंतों की गंदगी को साफ करता है। इसके अलावा इस पानी से त्वचा संबन्धी तमाम समस्याओं से भी बचाव होता है।

कब न पिए
अगर अल्सर की समस्या है या एसिडिटी है तो इस पानी को न पिएं, गर्म तासीर का होने की वजह से ये समस्या को बढ़ा सकता है।

तांबे के बर्तन में दूध या दूध से बनी चीजें और खट्टी चीजें न डालें।

यह भी पढ़े-

सुबह खाली पेट पीना हो सकता है लाभकारी
अगर आपको तांबे के बर्तन में पानी पीने का पूरा लाभ उठाना है तो आपको सुबह सुबह उठकर तांबे के बर्तन में पानी पीना चाहिए । खाली पेट सुबह सुबह तांबे के बर्तन में पानी पीने से आपको सबसे ज्यादा लाभ मिलता है।