दुनियाभर में कोरोनावायरस से ज्यादा फ़ैल रही है यह बीमारी, जाने बचाव

दुनियाभर में कोरोनावायरस से ज्यादा फ़ैल रही है यह बीमारी, जाने बचाव

दुनियाभर में जहां कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ रहा है, वहीं हिंदुस्तान में स्वाइन फ्लू की महामारी लोगों की मृत्यु का बड़ा कारण बन रही है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 2018 की तुलना में श्वसन संबंधी रोग ( Communicable Respiratory Disease ) इन्फ्लूएंजा ए वायरस के एक उपप्रकार, स्वाइन फ्लू जिसे एच1 एन1 बोला जाता है,के मामलों की संख्या 2019 में दोगुनी हाे गर्इ.

रिपाेर्ट के अनुसार देश 2018 में 15,266 लाेगाें काे स्वाइन फ्लू हुआ,जिसमें से 1,128 लाेगाें की माैत हाे हुर्इ, वहीं 2019 में 28,798 स्वाइन फ्लू संक्रमित राेगियाें में से 1,218 की माैत हुर्इ. जबकि 1 मार्च 2020 तक एच1 एन1 H1N1 के कारण 28 लोगों की मृत्यु हो चुकी है.

स्वाइन फ्लू ( Swine Flu ) एक ऐसा मौसमी संक्रमण है, जो पहली बार 2009 में संसार में सामने आया था, जो हर वर्ष विशेष तौर पर जनवरी से मार्च व जुलाई व सितंबर के बीच हमला करता है. इस वर्ष 1 मार्च तक, हिंदुस्तान में 1,100 से अधिक लोग H1N1 का शिकार हुए, जिनमें से 28 की मृत्यु हो गई.

फरवरी में, जर्मन सॉफ्टवेयर महान SAP ने बेंगलुरु मुख्यालय पर अपने दो कर्मचारियों में H1N1 की पुष्टि होने पर हिंदुस्तान में अपने कार्यालयों को बंद कर दिया. मार्च की आरंभ तक, यूपी में H1N1 के कम से कम 78 मुद्दे सामने आए, जिनमें 19 से अधिक पुलिसवालों का परीक्षण सकारात्मक था. जिनमें नौ की मृत्यु हो गई. उसी महीने, सर्वोच्च कोर्ट के छह न्यायाधीश भी इस बीमारी से पीड़ित मिले.

H1N1 के बढ़ते मामलों पर स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने बोला है कि इस तरह के प्रकोपों के दौरान, स्थिति की नियमित रूप से समीक्षा होती है व प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उच्चतम स्तर पर बारीकी से निगरानी की जाती है. इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक (DGHS) की अध्यक्षता में भी मामलों की समीक्षा की जाती है.पिछली बार समीक्षा मीटिंग 8 जनवरी आयोजित की गई थी.

सीओवीआईडी -19 के प्रकोप की तरह एच 1 एन 1 के लक्षणों में भी बुखार, गले में खराश, नाक बहना व खांसी शामिल हैं. इनसे बचाव के तरीका भी समान हैं, जैसे, हाथों को बार-बार धोएं, अस्वस्थ होने पर या रोगी के इर्द-गिर्द मास्क पहनें व बुनियादी स्वच्छता व सफाई का ध्यान रखें । लक्षण प्रकट होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं.