फर्श पर बैठने से मिलने वाले लाभ के बारें में, जानिए

 फर्श पर बैठने से मिलने वाले लाभ के बारें में, जानिए

सिर्फ फर्श पर बैठना दुनिया भर में कई संस्कृतियों का एक अहम भाग है. भारत में जबकि लोग फर्श पर क्रॉस-लेग्ड करके बैठते है और जापान में बैठने का औपचारिक तरीका सेइज़ा बोलते हैं, जहाँ शख़्स फर्श पर घुटनों के बल अपने कूल्हों पर रेस्ट करता है.

फर्श पर बैठने को कुर्सी पर बैठने से अच्छा बोला जाता है. हालांकि, लंबे वक्त तक ऐसा करने से पीठ के निचले भाग पर दबाव आता है, जिसे रीढ़ का काठ का भाग बोला जाता है, खासकर उन लोगों में जो पीठ के निचले भगा में दर्द का अनुभव करते हैं. यदि आपके डॉक्टर ने आपको सलाह नहीं दी है तो आपको फर्श पर बिलकुल भी नहीं बैठना चाहिए. यदि आप ऐसा करने के लिए बिलकुल तंदुरुस्त हैं, तो फिर यहां पर फर्श पर बैठने से मिलने वाले लाभ के बारें में हम आपको बताने जा रहे हैं:

1. फर्श पर बैठने से आसन में सुधार होता है
फर्श पर बैठना आपके आसन को स्वास्थ करने के लिए आपके बॉडी का सपोर्ट करता है. यह आपके कंधों को पीछे धकेलते हुए आपकी रीढ़ और पीठ को सीधा करने में सहायता करता है. फर्श पर बैठना आपको अपने कोर को स्थिर करने के लिए प्रोत्साहित करता है और इस तरह पीठ दर्द को कम करता है. क्रॉस-लेग्ड सिटिंग पोज़ ऊपरी और निचली पीठ पर प्राकृतिक वक्रता लाता है, इस तरह प्रभावी रूप से पीठ के निचले  भाग और श्रोणि भाग को स्थिर करता है.

2. फर्श पर बैठने से लचीलेपन में सुधार होता है
जब आप फर्श पर बैठ जाते हैं, तो आपके बॉडी के निचले आधे भाग में मांसपेशियां खिंच जाती हैं, जिससे आपके बॉडी का लचीलापन बढ़ता है और आपके पैरों को ताकत मिलती है. बैठने से कूल्हों, पैरों, श्रोणि और रीढ़ को खींचने में सहायता मिलती है जिससे बॉडी में प्राकृतिक लचीलेपन को बढ़ावा मिलता है.

3. फर्श पर बैठने से पाचन में सुधार होता है
सुखासन, एक योग आसन जहां शख्स पैरों के बल बैठकर फर्श पर बैठता है, पाचन प्रोसेस को बेहतर बनाने में सहायता करता है. जब हम आहार करने के लिए अपनी थाली को जमीन पर रखते हैं, तो हमें अपने शरीर को खाने के लिए थोड़ा आगे बढ़ाना पड़ता है और फिर हम वापस अपनी मूल स्थिति में आना पड़ता हैं. बॉडी को हिलाने की क्रिया से पेट की मांसपेशियों में उत्तेजना पैदा हो जाती है, जो इसके बदले में पेट में पाचन एंजाइमों के स्राव को बढ़ाती है, जिससे आहार अच्छे तरीके से पचता है.