सर्दी के मौसम में अपनी स्कीन का रखें इस तरह से ध्यान

सर्दी के मौसम में टैनिंग नहीं होती है। यह एक बड़ी गलतफहमी है। इस मौसम में तो धूप के साथसाथ कुहरा भी स्कीन को टैन कर देता है। ’अब आप के जेहन में सवाल उठ रहा होगा कि कुहरे में तो ठंड लगती है व ठंड से रंग निखरता है, फिर टैनिंग कैसे हो सकती है?यूवीए व यूवीबी 2 प्रकार की रेज होती हैं। अमूमन स्त्रियों को यूवीबी रेज के बारे में पता रहता है कि वे सूर्य की किरणों से आती हैं, लेकिन बादल, कुहरे व गाड़ी के शीशों से छन कर आने वाली यूवीए रेज भी स्कीन को टैन कर देती हैं। इसलिए इन बातो का ध्यान विशेष तौरपर रखे. । ।

-ज्यादा सर्दी पड़ने पर लोग रूम हीटर व ब्लोअर का प्रयोग करते हैं। लेकिन ये स्कीन से औक्सीजन छीन लेते हैं व उसे रूखा बना देते हैं। फिर रूखी स्कीन जब सूर्य के सम्पर्क में आती है तो उतना जगह जल सा जाता है। इसलिए सर्दी में रूम हीटर या ब्लोअर का प्रयोग कम से कम करें।

-सुबह 10 बजे से दिन के 2 बजे तक धूप में बैठना सब से ज्यादा हानिकारक है, क्योंकि इस वक्त सूर्य से यूवीए रेज निकलती हैं, जो स्कीन की कोलोजन लेयर को डैमेज करती हैं व स्कीन पर ऐजिंग मार्क्स लाती हैं। दरअसल, कोलोजन लेयर से ही स्किन टाइट होती है व यदि यह लेयर डैमेज हो जाए तो स्किन में सैगिंग आ जाती है।

-धूप में बैठने के लिए 10 बजे से पहले का समय चुनें। इस वक्त सूर्य की किरणों से हमें विटामिन डी मिलता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि धूप को सीधे चेहरे पर न लगने दें।

-एक रिसर्च के अनुसार सप्ताह में केवल 20 मिनट धूप में बैठ कर विटामिन डी लेना शरीर के लिए बहुत ज्यादा है। यदि ऐसा संभव न हो तो बहुत सारी खाने की चीजें हैं, जिन में विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।