वैक्सीन नहीं कोरोना वायरस से बेहतर बचाव करेंगे मास्क!

वैक्सीन नहीं कोरोना वायरस से बेहतर बचाव करेंगे मास्क!

कोरोना वायरस महामारी के कुछ महीनों बाद से ही कई वैक्सीन के लॉन्च होने की बात हम सुनते आ रहे हैं। हम सभी ये ज़रूर चाहते हैं कि वैक्सीन जल्द से जल्द आए, लेकिन साथ ही इस बात को लेकर चिंतित भी हैं कि वह कितनी सुरक्षित और कारगर साबित होगी। हम ये जानते हैं कि जो वैक्सीन सबसे पहले आएगी वो अधिक सुरक्षा प्रदान नहीं करेगी। साथ ही पूरी दुनिया के सभी लोगों को वैक्सीन मिलने में दो से तीन साल लग जाएंगे।    

हाल ही में वैक्सीन से जुड़े कई साइड-इफेक्ट्स सामने आए हैं, फिर चाहे वो ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन हो या फिर रूस की। जिसकी वजह से लोगों के बीच इसको लेकर डर बढ़ गया है। साथ ही अभी ये भी साफ नहीं है कि सिर्फ एक वैक्सीन मानव जाति को कयामत से बचाने में सक्षम होगी या नहीं। अभी आने वाले कई सालों तक हमें शारीरिक दूरी, साफ-सफाई और मास्क पहनना जारी रखना होगा।

सीडीसी यानी डायरेक्टर्स ऑफ सेंटर फॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ने इस परेशानी को और बढ़ा दिया है। सीडीसी के डायरेक्टर रॉबर्ट रेडफील्ड ने कबा कि वैक्सीन कुछ हद तक इस वायरस से हमें बचाने में मदद करेगी, लेकिन इससे बेहतर सुरक्षित आपके फेस मास्क प्रदान कर रहे हैं। इसलिए कोरोना से बचने के लिए सावधानियां बरतनी बेहद ज़रूरी हैं।

क्या वैक्सीन से बेहतर विकल्प हैं मास्क?

मास्क और वैक्सीन दो बिल्कुल अलग चीज़ें हैं और अलग से काम भी करते हैं। इन दोनों की तुलना सही नहीं है, लेकिन इस वक्त महामारी को रोकने के लिए मास्क का उपयोग हमारी काफी मदद कर सकता है। वास्तव में, मास्क का उपयोग करने से भविष्य में वैक्सीन बनाने वालों का काम आसान हो सकता है।

शुरुआती वैक्सीन सबसे सुरक्षित नहीं होगी। उससे होने वाले साइड-इफेक्ट्स के दुष्प्रभावों का जोखिम हमेशा बना रहेगा। इस वक्त ऐसी वैक्सीन की उम्मीद करना जो बिलकुल कारगर साबित हो, मुमकिन नहीं है। 

इसकी तुलना में, अभी उपलब्ध मास्क ज्यादातर सुरक्षित हैं और उपयोग करने के लिए बहुत कम सटीकता की आवश्यकता होती है। मास्क का वितरण और उपयोग करना भी सस्ता है, वहीं शुरुआती वैक्सीन को उपलब्ध कराने की तुलना में मास्क अधिक किफायती हैं।

मास्क पहनना सबसे सुरक्षित और संक्रमण के जोखिम से बचाव का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है। यहां तक कि मास्क हर उम्र के इंसान के लिए फायदेमंद है। 

मास्क कितनी सुरक्षा दे सकते हैं?

सीडीसी के दिशानिर्देश बताते हैं कि मास्क पहनना कोरोना वायरस के संक्रमण का जोखिम काफी कम हो जाता है। मास्क का उपयोग प्रभावी ढंग से लार की मात्रा को कम करता है, खासकर जब कोई कमरे में खांसता या छींकता है। इसका मतलब ये हुआ कि अगर बीमार लोग मास्क पहनते हैं, तो बाकी सभी लोग बेहतर तरीके से सुरक्षित रहेंगे।

लेकिन ये भी ज़रूरी है कि आप मास्क सही तरीके से पहन रहे हों, यानि मास्क किस तरह का है, ढीला तो नहीं है और चेहरे पर अच्छे से फिट हो रहा है या नहीं। मास्क कोरोना को फैलने से रोकने में कुछ हद तक मदद कर सकता है। मास्क पहनने से अलक्षणी लोगों से भी संक्रमण का ख़तरा कम हो जाता है।

इसलिए, आप चाहे बीमार हैं या नहीं, या लक्षण दिख रहे हैं या नहीं, मास्क पहनना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।


बड़े काम की चीज है इसका सिरका, हार्ट अटैक का खतरा कम करने के लिए है मददगार

बड़े काम की चीज है इसका सिरका, हार्ट अटैक का खतरा कम करने के लिए है मददगार

एपल साइडर विनेगर वजन घटाने के साथ कोलेस्ट्रॉल लेवल घटाने में भी कारगर है, जिसका पता ईरान में हुई एक स्टड़ी में चला है, 12 हफ्ते तक चली इस रिसर्च में सामने आया कि यह ट्राईग्लिसराइड और कोलेस्ट्रॉल लेवल घटाकर हार्ट अटैक के खतरे की संभावना को कम करता है। एक्सपर्ट कहते हैं, इसके कई फायदे हैं। लेकिन एपल साइडर विनेगर का इस्तेमाल सीमित मात्रा में करें वरना नुकसान भी हो सकता है। एक दिन में 30 एमएल से ज्यादा इसका इस्तेमाल न करें।

क्या होता है एपल साइडर विनेगर?

सेब को जूस को फर्मेंट करके विनेगर तैयार किया जाता है।

इसमें एसिटिक एसिड और सिट्रिक एसिड के अलावा विटामिन-बी, सी पाया जाता है।

बालों का संक्रमण दूर करता है यह विनेगर

सिर में फंगल या बैक्टीरियल इंफेक्शन होने पर एक चौथाई कप पानी में दो छोटे चम्मच एपल विनेगर को मिलाएं।

शैंपू के बाद इसे स्कैल्प पर लगाएं। सिर को तौलिया से कवर करें और 20 मिनट बाद पानी से धो लें। बालों में चमक आने के साथ पीएच लेवल भी मेंटेन रहता है।


कील-मुंहासे की समस्या करता है दूर

चेहरे पर धब्बे, पिंपल्स की समस्या होने पर एक कप पानी में एक चम्मच एपल विनेगर मिलाएं। इसे रूई की मदद से लगाएं फिर 10 मिनट बाद धो लें। इससे यह समस्या खत्म हो जाएगी।

भूख कंट्रोल करने में मददगार

बढ़ते वजन को कंट्रोल करने के लिए इस सिरके को अपने डेली रूटीन में शामिल करें।

एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच एपल साइडर विनेगर को खाना खाने के 45 मिनट पहले पिएं।


इससे वजन कम होने के साथ ही मेटाबॉलिज्म तेज होता है। साथ ही यह ब्लड शुगर लेवल और भूख दोनों को कंट्रोल करता है।

कई रिसर्चेस में भी सामने आया है कि यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड का स्तर कम करता है।

इन बातों का भी रखें ध्यान

कभी भी सेब के सिरके का इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में न करें। ऐसा करने पर उल्टी हो सकती है।

शरीर में ब्लड शुगर का लेवल अधिक गिर सकता है।

वहीं, एसिडिक होने के कारण यह पेट, स्किन और दांतों की ऊपरी लेयर को नुकसान हो सकता है।


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर खास, उन पुरुषों को सलाम जिन्होंने महिलाओं को दिया मुकाम       भारत व इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाले चौथे टेस्ट में जानिए कैसा रहेगा मौसम व पिच का हाल       कब और कहां देखें भारत-इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच       भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड के खेमे में खलबली       विराट कोहली और बेन स्टोक्स चौथे टेस्ट मैच के पहले दिन मैदान पर भिड़े       दो दिन बाद ही रोकना पड़ा टूर्नामेंट का आयोजन, स्टेन ने पाकिस्तान लीग के बताया IPL से बेहतर       इन नेचुरल ऑयल्स से बहुत जल्द दूर कर सकते हैं ये...       दाढ़ी की रूसी दूर करने में बहुत ही असरदार है ये घरेलू उपाय       क्लीयर स्किन के लिए आज़माएं ये 5 घरेलू नुस्खे       बालों की हर समस्या का इलाज करता है गुड़हल का तेल       नैचुरली काली घनी पलकें चाहती हैं तो इस खास टिप्स को अजमाएं       झुमरी तिलैया की श्रुति ने बढ़ाया झारखंड का मान, ऑल इंडिया ब्यूटी कॉन्टेस्ट में जीता खिताब, श्रुति को मिला मिसेज इंटेलेक्चुअल का अवार्ड        लिवर को भी प्रभावित करता है Covid-19, इस तरह से करें बचाव       बड़े काम की चीज है इसका सिरका, हार्ट अटैक का खतरा कम करने के लिए है मददगार       ज्यादा दिनों तक खांसी के साथ अगर हैं ये सारे लक्षण तो...       क्या आपको ऑफिस और स्कूल खुलने से डर लग रहा है? एक्सपर्ट्स से जानें       गैजेट्स के लगातार इस्तेमाल से बढ़ रही है डिजिटल आई स्ट्रेन की समस्या       यात्रियों के लिए चलाई जाए पैसेंजर-एक्सप्रेस ट्रेनें:शालिनी       पुलिस की घिनौनी करतूत, लड़कियों के उतरवाए कपड़े, फिर किया ये...       आखिर कौन-कौन से लोग नहीं लगवा सकते वैक्सीन, वैक्सीनेशन से पहले जान लें ये बात