स्वास्थ्य

ये हैं त्वचा पर बर्फ लगाने के नुकसान…

Reasons why ice facial is not good for skin: खूबसूरती की दुनिया में चेहरे पर घरेलू नुस्खों से ग्लो लाने का ट्रेंड काफी पुराना है. हालांकि लंबे समय तक जवां बने रहने के लिए स्किन केयर के साथ हेल्दी खानपान की भी आवश्यकता होती है. आजकल ग्लोइंग त्वचा का सपना देखने वाली स्त्रियों के बीच आइस फेशियल का ट्रेंड काफी फेमस हो रहा है. आइस फेशियल की सहायता से त्वचा में चमक और कसाव आता है. जिसकी वजह से बढ़ती उम्र का असर स्किन में शीघ्र नहीं दिखाई देता है. यदि आपकी स्किन भी सेंसिटिव है तो आइस फेशियल के ट्रेंड को फॉलो करने से पहले उसके लाभ ही नहीं हानि भी जान लें. अन्यथा आपकी त्वचा को लाभ की स्थान हानि हो सकता है.

झुर्रियां और मुंहासे की समस्या-
बहुत कम लोग ही इस बात को जानते होंगे कि त्वचा पर बर्फ रगड़ने से चेहरे पर झुर्रियां और एक्ने की परेशानी पैदा हो सकती है. इतना ही नहीं आइस फेशियल आंखों के नीचे काले घेरे की कठिनाई भी बढ़ा सकता है. यदि आप स्किन पर झुर्रियां और रैशेज शीघ्र नहीं चाहते हैं तो चेहरे पर सीधा बर्फ ना लगाएं. इसे किसी कपड़े में बांधकर बहुत कम देर के लिए चेहरे पर लगाएं.

बैक्टीरियल इंफेक्शन-
जो लोग चेहरा साफ किए बिना त्वचा पर आइस फेशियल करना प्रारम्भ कर देते हैं उनकी स्किन में बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ सकता है. बता दें, गंदे चेहरे पर आइस लगाने से स्किन की पोर्स में बैक्टीरिया फंस जाते हैं.

फफोले-
बहुत देर तक त्वचा पर बर्फ रगड़ने से त्वचा की कोशिकाएं मर सकती हैं. जिससे स्किन पर फफोले पैदा होने की वजह से त्वचा खराब हो सकती है. आइस फेशियल करते समय कोल्ड कंप्रेस या तौलिये का इस्तेमाल करना बेहतर है. आपको एक मिनट से अधिक समय तक अपने चेहरे पर आइस पैक या क्यूब्स नहीं रहने देना चाहिए.

साइनस-माइग्रेन-
अगर आप साइनेस या माइग्रेन की कठिनाई से पीड़ित रहते हैं तो भूलकर भी चेहरे पर बर्फ न रगड़ें. ऐसा करने से आपकी कठिनाई बढ़ सकती है.

डल स्किन-
आमतौर पर आइस फेशियल चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए किया जाता है. लेकिन आपकी यदि सेंसिटिव स्किन है तो इससे परहेज करना ही आपके लिए ठीक होगा. बता दें, आइस फेशियल करने से चेहरे पर जलन महसूस होने के साथ उसकी रंगत भी डल पड़ सकती है. ड्राई स्किन वाले लोग यदि आइस फेशियल प्रतिदिन करते हैं तो उनके चेहरे पर गुलाबी रंग के चकत्ते पड़ सकते हैं.

Related Articles

Back to top button