महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

वाशिंगटन। कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) के दौरान कारगर मास्क ( Masks) वन्यजीवों, पक्षी और पानी में रहने वाले जीव-जंतुओं के लिए नुकसानदेह और घातक साबित हो रहा है।  जब से कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए  सार्वजनिक जगहों पर मास्क को अनिवार्य किया गया है तब से एकबार इस्तेमाल किए जाने वाले सर्जिकल मास्क दुनिया भर के सड़कों, पानी और समुद्री तटों पर बिखरे पड़े हैं। एक बार पहना जानेवाला पतला सा प्रोटेक्टिव मटीरियल नष्ट होने में सैंकड़ों साल लगा देता है। पशु अधिकारों के समूह पेटा (PETA) के एश्ले फ्रुनो (Ashley Fruno) ने कहा, 'फेस मास्क का इस्तेमाल जल्दी नहीं खत्म होने वाला है लेकिन इस्तेमाल के बाद जब हम इसे  फेंक देते हें तब यह पर्यावरण और जानवरों को नुकसान पहुंचा सकता है।' 

 मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के बाहरी इलाके में लंगूरों को मास्क के स्ट्रेप चबाते हुए देखा गया। वहीं ब्रिटेन के चेम्सफोर्ड सिटी में भी समुद्री पक्षी का पैर इस मास्क के फंदे में एक सप्ताह तक फंसा रह गया था। एनिमल वेलफेयर चैरिटी ने इस घटना का जिक्र कर सतर्क किया। चैरिटी की नजर जब इस पक्षी पर गई तब इसके पैर बंधे होने के कारण यह बेहोशी की अवस्था में था इसे तुरंत वन्यजीव अस्पताल (wildlife hospital) ले जाया गया।  

पर्यावरण के लिए काम करने वाले ग्रुप ओशंस एशिया (OceansAsia) के अनुसार,  पिछले साल 1.5 बिलियनसे अधिक मास्क समुद्रों में प्रवाहित किए गए। 


जानें कैसे इस्तेमाल करें Menstrual Cups, महिलाएं छोड़ें लज्जा और झिझक

जानें कैसे इस्तेमाल करें Menstrual Cups, महिलाएं छोड़ें लज्जा और झिझक

हर महिला चाहती है कि पीरियड्स के दिन उसके लिए कंफर्टेबल हों. लीकेज से कपड़ों पर दाग न लगें, इसके लिए कुछ सेनेटरी पैड्स, तो कुछ टैम्पोन का इस्तेमाल करती हैं. लेकिन अधिक लीकेज होने पर इन्हें बार-बार चेंज करना बहुत ज्यादा हेक्टिक होता है और दाग लग जाए, तो उसका टेंशन अलग. ऐसे में लीकेज के झंझट से बचने के लिए आप मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल कर सकती हैं. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि आज भी ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं, जो मेंस्ट्रुअल कप के बारे में नहीं जानतीं. यहां तक कि इसके बारे में बात करने और इन्हें खरीदने में उन्हें झिझक होती है. डॉक्टर्स के अनुसार, मेंस्ट्रुअल कप मासिक धर्म चक्र में आपको कंफर्टेबल फील करने का बढ़िया हाइजीन प्रोडक्ट है. अच्छी बात ये है कि इसे हर आयु की महिला इस्तेमाल कर सकती है. बस ठीक उपाय पता होना चाहिए. आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर आपकी सुरक्षा के लिए हम आपको बताएंगे मेंस्ट्रुअल कप के बारे में वो सभी बातें, जो आपको जानना बहुत महत्वपूर्ण है.

आज भी तमाम महिलाएं हैं, जो मेंस्ट्रुअल कप के बारे में नहीं जानतीं. सुरक्षा के लिहाज से ये बहुत ज्यादा अच्छा है. इसलिए इसके बारे में बात करने या खरीदते समय झिझके नहीं, बल्कि जानें इसका इस्तेमाल कैसे करना चाहिए.

हर महिला चाहती है कि पीरियड्स के दिन उसके लिए कंफर्टेबल हों. लीकेज से कपड़ों पर दाग न लगें, इसके लिए कुछ सेनेटरी पैड्स, तो कुछ टैम्पोन का इस्तेमाल करती हैं. लेकिन अधिक लीकेज होने पर इन्हें बार-बार चेंज करना बहुत ज्यादा हेक्टिक होता है और दाग लग जाए, तो उसका टेंशन अलग. ऐसे में लीकेज के झंझट से बचने के लिए आप मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल कर सकती हैं.

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि आज भी ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं, जो मेंस्ट्रुअल कप के बारे में नहीं जानतीं. यहां तक कि इसके बारे में बात करने और इन्हें खरीदने में उन्हें झिझक होती है. डॉक्टर्स के अनुसार, मेंस्ट्रुअल कप मासिक धर्म चक्र में आपको कंफर्टेबल फील करने का बढ़िया हाइजीन प्रोडक्ट है. अच्छी बात ये है कि इसे हर आयु की महिला इस्तेमाल कर सकती है. बस ठीक उपाय पता होना चाहिए. आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर आपकी सुरक्षा के लिए हम आपको बताएंगे मेंस्ट्रुअल कप के बारे में वो सभी बातें, जो आपको जानना बहुत महत्वपूर्ण है.



​मेंन्स्ट्रुअल कप क्या है-

मेंस्ट्रुअल कप पीरियड़्स हाइजीन उत्पादों में रीयूज किया जाने वाला एक तरह का कप है. यह रबर या सिलिकॉन से बना एक छोटा लचीला फनल शेप का कप होता है, जिसे पीरियड फ्लूड को इकठ्ठा करने के लिए योनि में डालते हैं. लेकिन आप इस कप को भीतर लगाने और वेजाइना को टच करने में कंफर्टेबल हैं, तो आप मेंस्ट्रुअल कप का ऑप्शन अपना सकती हैं.

बाजार में कुछ डिस्पोजल मेंस्ट्रुअल कप भी आते हैं. इसे आयु और आकार के हिसाब से यूज किया जाता है. वैसे 30 वर्ष से कम आयु की स्त्रियों को छोटे कप यूज करने का सुझाव दिया जाता है. जबकि 30 से अधिक आयु वाली स्त्रियों को बड़े आकार के कप इस्तेमाल करने के लिए बोला जाता है.

आप पहली बार मेंस्ट्रुअल कप यूज करने जा रही हैं

, तो सबसे पहले इसे थोड़ा चिकना बना लें.

अपने हाथ धो लें और फिर कप को फोल्ड करके आधा कर लें. या फिर सी शेप में रिम ऊपर की तरफ करके पकड़ें.

कप को वेजाइना में डालें.

वेजाइना के चारों ओर एक एयरटाइट घेरा बनाने के लिए कप को गोल-गोल घुमाएं.

यह जरूर देख लें, कि मेंस्ट्रुअल कप लगाने के बाद आप कंफर्टेबल हैं या नहीं.

चिकनाहट के कारण कई बार मेंस्ट्रुअल कप स्लिप हो जाता है, ऐसे में अच्छी तरह से धोकर फिर से वेजाइना में लगा सकते हैं.



​कब और कैसे हटाएं

अपने फ्लो के आधार पर आप मेंस्ट्रुअल कप 6 से 12 घंटे तक पहन सकते हैं. लेकिन 12 घंटे के बाद एक बार आपको कप निकाल लेना चाहिए. क्योंकि अधिक भर जाने की स्थिति में इसके लीक होने का खतरा भी बढ़ जाएगा.

कैसे हटाएं मेंस्ट्रुअल कप-

सबसे पहले अपने हाथ धोएं.

अब अपनी इंडेक्स फिंगर और अंगूठे को वेजाइना के अंदर डालें और कप को नीचे की तरफ से पकड़ें. इसके बाद इसे दबाकर सील खोल लें.

धीरे -धीरे कप को बाहर निकालें.

कप को टॉयलेट में खाली करें और अच्छी तरह से पानी से धो लें.



​मेंस्ट्रुअल कप के फायदे-

मेंस्ट्रुअल कप सस्ते हैं.

टैम्पोन के मुकाबले अधिक सेफ हैं.

टैम्पोन की तरह मेंस्ट्रुअल कप योनि को ड्राय नहीं करते.

पीरियड्स में निकलने वाला ब्लड हवा के सम्पर्क में आने से गंध पैदा करता है, जबकि मेंस्ट्रुअल कप के साथ ऐसा नहीं है.

पैड या टैम्पोन के मुकाबले अधिक ब्लड इकठ्ठा कर सकता है.

यौन संबंध बनाने के दौरान कुछ सॉफ्ट डिस्पोजल कप को निकालना महत्वपूर्ण नहीं होता.



​मेंस्ट्रुअप कप का उपयोग करने के नुकसान-

कभी-कभी इनके उपयोग से गड़बड़ हो सकती है.

कई बार इन्हें बाहर निकालना बहुत ज्यादा मुश्किल होता है.

इनका ठीक आकार पता लगाने में परेशानी आती है.

सिलिकॉन या रबर मटेरियल के कारण एलर्जी हो सकती है.



​कैसे करें कप की देखभाल

दोबारा यूज किए जाने वाले मेंस्ट्रुअल कप को हमेशा धोकर और साफ करके रखना चाहिए. कप दिन में कम से कम दो बार खाली होना चाहिए. वैसे रीयूजेबल मेंस्ट्रुअल कप टिकाऊ होते हैं और ठीक देखभाल के साथ आप इन्हें 6 महीने से 10 वर्ष तक इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन डिस्पोजल कप को एक बार यूज करने के बाद फेंक देना चाहिए.


झुमरी तिलैया की शिप्रा सिन्हा ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को उनकी शक्ति का एहसास कराने के लिए एक कविता लिखी है। इस कविता को लोग काफी पसंद कर रहे हैं।        International Women's Day पर अदाकारा जरीन खान ने स्त्रियों को दी खास सलाह, बोलीं...       सिंगर Harshadeep Kaur ने सोशल मीडिया पर दिखाई बेटे की झलक, लिखा...       दिनभर में 7 बार इस समय जरूर पीएं पानी, फिर देखें इसका कमाल       जानें कैसे इस्तेमाल करें Menstrual Cups, महिलाएं छोड़ें लज्जा और झिझक       यहां मंदिर में रखी मातारानी मूर्ति को भी होते हैं ये... जानिए बड़ा रहस्य       पेट्रोल-डीजल केंद्र और प्रदेश को मिलकर सस्ता करना चाहिए : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण       मोदी सरकार बदल सकती है ये बड़ी नियम, कर्मचारियों को सप्ताह में चार दिन करना होगा काम       महाशिवरात्रि पर राहु और केतु की शांति के लिए करें उपाय       आज फाल्गुन मास की दशमी तिथि है, जानें अभिजीत मुहूर्त और राहु काल       IPL 2021 का शेड्यूल जारी, जानिए कब-कब खेले जाएंगे मैच       विराट कोहली ने विवियन रिचर्ड्स को दी जन्मदिन की बधाई       UP: अब एसिड अटैक पीड़ितों और दिव्यांगों को भी लगेगी वैक्सीन       शाहजहांपुर में 26 साल बाद दुष्कर्म पीड़िता ने लगाई न्याय की गुहार       पाक को महंगी पड़ी चीन की यारी, भारत के विमानों के आगे नहीं ठहरा उसका जेएफ-17       जल्द निपटा लें ये जरूरी काम, 31 मार्च है अंतिम तारीख       अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर खास, उन पुरुषों को सलाम जिन्होंने महिलाओं को दिया मुकाम       भारत व इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाले चौथे टेस्ट में जानिए कैसा रहेगा मौसम व पिच का हाल       कब और कहां देखें भारत-इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच       भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड के खेमे में खलबली