बुखार, डायरिया और पेट में ऐंठन जैसे 4 लक्षण बताते हैं कोरोना हुआ तो लम्बे समय तक इससे लड़ने की क्षमता बनी रहेगी

बुखार, डायरिया और पेट में ऐंठन जैसे 4 लक्षण बताते हैं कोरोना हुआ तो लम्बे समय तक इससे लड़ने की क्षमता बनी रहेगी

कोरोना का संक्रमण होने के बाद खास तरह के लक्षण बताते हैं कि इम्युनिटी लम्बे समय तक बनी रहेगी। अमेरिका की विस्कॉन्सिन यूनिवर्सिटी ने दावा किया है कि अगर संक्रमण के दौरान पेट में ऐंठन, डायरिया, भूख न लगना और पेट में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं तो वायरस के प्रति इम्युनिटी यानी इससे लड़ने की क्षमता लम्बे समय तक बनी रहेगी।

कोरोना के 113 मरीजों पर हुई रिसर्च
रिसर्च कोरोना के 113 मरीजों पर हुई। ये मरीज 5 हफ्ते तक कोरोना से जूझ चुके थे। रिकवरी के बाद इन पर रिसर्च शुरू हुई। इनका ब्लड टेस्ट किया गया। वैज्ञानिकों के मुताबिक, शरीर में एंटीबॉडीज अधिक बनने पर बुखार भी तेज हो सकता है। ये लक्षण भी लम्बी इम्युनिटी का इशारा है।

जानिए, कोरोना संक्रमण के 4 लक्षणों का इम्युनिटी से कनेक्शन

बुखार : तेज बुखार का मतलब लम्बी इम्युनिटी
कोरोना के संक्रमण का सबसे कॉमन लक्षण है बुखार। कुछ मामलों में बुखार के साथ खांसी और सांस लेने में तकलीफ होती है। नई रिसर्च कहती है, तेज बुखार अधिक इम्युनिटी विकसित होने का एक इशारा भी हो सकता है।

भूख न लगना : इम्युनिटी बनने की शुरुआत होने पर ये लक्षण दिख सकता है
रिसर्च कहती है, कोरोनावायरस अलग-अलग मरीजों में अलग-अलग तरह से असर दिखाता है। कई लोगों में भूख न लगना, खुश्बू न पहचान पाना जैसे लक्षण दिखते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है, भूख न लगना एक इंफ्लेमेट्री रिस्पॉन्स की तरह है। यह लक्षण तब दिखता है जब शरीर में वायरस से लड़ने की क्षमता बननी शुरू होती है।

डायरिया : इसके लक्षण कम हैं तो लम्बी होगी इम्युनिटी
कोरोना के कुछ मरीजों में उल्टी और मिचली के लक्षण दिखते हैं। ये बताते हैं कि मरीज डायरिया से जूझ रहा है। रिसर्च में सामने आया है कि जिन मरीजों में डायरिया के लक्षण बहुत हल्के होते हैं उनमें भी कोरोना के खिलाफ लम्बे समय तक इम्युनिटी डेवलप होती है।

पेट में ऐंठन : ये लक्षण एंटीबॉडीज ज्यादा बनने का इशारा
रिसर्च के मुताबिक, संक्रमण के दौरान पेट में ऐंठन भी इस बात का इशारा हो सकता है कि रिकवरी के बाद इम्युनिटी लम्बे समय तक रहेगी। वैज्ञानिकों का कहना है, इस पर अभी और रिसर्च की जानी बाकी है। यह रिसर्च कोरोना के लक्षण और इम्युनिटी के बीच का एक कनेक्शन है।


सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में लोगों को एलर्जी बेहद परेशान करती है। किसी को प्रदूषण से एलर्जी है तो किसी को खाने-पीने की चीजों, पेट डॉग या फिर खास महक से एलर्जी होती है। सर्द मौसम में तापमान में गिरावट के कारण हवा से एलर्जी के तत्व जल्दी नहीं हटते जिससे, सर्दी, खांसी, नाक बहना, स्किन एलर्जी, अस्थमा और भी कई तरह की एलर्जी हो सकती है। सर्दी में हम ठंड से बचने के लिए बंद जगह पर ज्यादा वक्त गुजारना पसंद करते है, जो एलर्जी का सबसे बड़ा कारण बनता है। लंबे समय तक बंद घर में रहने से हवा में मौजूद धूल के कण, फफूंद, पालतू जानवरों की रूसी और कॉकरोच ड्रॉपिंग एलर्जी का कारण बनते हैं। संवेदनशील स्किन वाले लोगों को स्किन एलर्जी होने का खतरा ज्यादा रहता है। सर्दी में रक्त नलिकाएं सिकुड़ जाती हैं जिससे हाथ व पैर में ब्लड सर्कुलेशन बाधित होता है। खून की कमी से ही हाथ या पैर की उंगलियों में सूजन होने लगती है। इस मौसम में फंगल इन्फेक्शन होने से खाज या खुजली होने की आशंका रहती है।


एलर्जी क्या है?

एलर्जी किसी खाने की चीज, पालतू जानवर, मौसम में बदलाव, कोई फूल-फल-सब्जी के सेवन, खुशबू, धूल, धुआं, दवा यानी किसी भी चीज से हो सकती है। इस स्थिति में हमारा इम्यून सिस्टम कुछ खास चीजों को स्वीकार नहीं कर पाता और नतीजा ऐसे रिऐक्शन के रूप में दिखता है।

एलर्जी के लक्षण:

सर्दी में गले की सर्दी, नाक बहना, सर्दी जुकाम होना एलर्जी के लक्षण है। एलर्जी की वजह से शरीर में लाल-लाल चकत्ते, नाक और आंखों से पानी बहना, जी मितलाना, उलटी होना या फिर सांस तेज-तेज चलने से लेकर बुखार तक हो सकता है।


सर्दी में खाने की चीजों से एलर्जी:

कुछ लोगों को खाने की चीजों जैसे कि मूंगफली, दूध, अंडा आदि खाने से एलर्जी हो सकती है। जिस चीज से एलर्जी है, उसे खाने के बाद जी मिचलाना, शरीर में खुजली होना या पूरे शरीर पर दाने और चकत्ते निकलने जैसी समस्या हो सकती है। एक्सपर्ट की माने तो गांवों में रहनेवालों के मुकाबले शहरों में रहने वाले लोगों में एलर्जी की समस्या ज्यादा होती है। उनके शरीर का इम्यून सिस्टम ज्यादा डिवेलप नहीं हो पाता।


कैसे बचाव करें:

अगर आपको धूल मिट्टी या फिर धुएं से एलर्जी है तो घर से बाहर निकलते समय नाक पर रुमाल या फिर मास्क का इस्तेमाल करें। घर में साफ-सफाई के लिए वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें।
सर्दी में अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखें। मौसमी फल, हरी सब्जी, गाजर आदि का सेवन करें, और पानी पर्याप्त मात्रा में पीएं।
स्किन को एलर्जी से बचाने के लिए रात में सोने से पहले बॉडी पर मॉइश्चराइजर लगाएं, इससे त्वचा में नमी बरकरार रहेगी।
पर्दे, चादर, बेडशीट व कालीन को नमी से बचाने के लिए धूप में रखें, ताकि इस्तेमाल होने वाली इन चीजों से आपको एलर्जी नहीं हो सके।
पालतू जानवरों से दूर रहें, जानवरों को एलर्जी है, तो घर में नहीं रखें।
सर्दी में धूप में बैठे, घर को हमेशा बंद न रखें, घर को हवादार बनाएं, ताकि साफ हवा आती रहे।
घर की साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। खिड़कियों में महीन जाली लगवाएं और जाली वाली खिड़कियों को हमेशा बंद रखें क्योंकि खुली खिड़की से कीड़े और मच्छर आपके घर में घुस सकते हैं। 


UP में डेढ़ लाख लोगों को लगेगा टीका, कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण       विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे पहुंची हाईकोर्ट, कर दी ये बड़ी मांग       मां पर ताना तमंचा, कनपटी पर लगाकर कर खड़ा बेटा       Lucknow में दस्तकारो शिल्पकारों का हुनर हाट शुरू, सीएम योगी करेंगे उद्घाटन       शामली से आई ये बड़ी खबर, दहेज न मिलने पर किया था ऐसा       पत्नी ने मायके से जाने से किया इंकार तो पति ने रेत दिया गला       अखिलेश रामपुर में, आजम खां के परिवार से मिलने पहुंचे       जौनपुर में कोरोना वैक्सीनेशन, आज 1655 लोगों को लगा टीका       UP में अब हर गुरुवार और शुक्रवार को होगा टीकाकरण       तांडव’ वेब सीरीज पर क्या है सीएम योगी की असली मंशा!       26 जनवरी को राजपथ पर दिखेंगे भगवान राम, गणतंत्र दिवस की तैयारियां तेज       अभी अभी: ममता बनर्जी को लगा तगड़ा झटका!       कांग्रेस का नया अध्यक्ष, मई में होगा बड़ा ऐलान!       यूक्रेन में दर्दनाक हादसा, अस्पताल में भयानक आग से 15 की मौत       राष्ट्रपति बाइडेन ने लिया ये बड़ा फैसला, अमेरिका जाने वाले लोगों की बढ़ी मुसीबतें       पैसा नहीं देंगे भले ही सर्च इंजन ब्लॉक करना पड़े : गूगल       परमाणु हथियार प्रतिबंध, इसलिए लिया गया ये बड़ा फैसला!       व्हाइट हाउस का बड़ा बयान, भारत-अमेरिका के संबंध और होंगे मजबूत       इस देश में कोरोना से मचा हाहाकार, मौत के मामले में टूटा रिकार्ड       बिडेन ने आरएसएस से सम्बन्ध रखने वालों से बनायी दूरी