स्वास्थ्य

तमाम व्यस्तताओं के बीच स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं इन आदतों को….

जीवन की आपाधापी और व्यस्तताओं के बीच अक्सर लोग स्वयं का ठीक से ख्याल नहीं रख पाते हैं इसके चलते उन्हें तनाव, अवसाद, चिड़चिड़ापन जैसी कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है लेकिन, अनेक व्यस्तताओं के बावजूद जीवनशैली में कुछ सरल आदतों को शामिल कर आप स्वयं को हमेशा फिट रह सकते हैं ये आदतें न सिर्फ़ आपके मानसिक स्वास्थ्य, बल्कि आपको शारीरिक रूप से स्वास्थ्य वर्धक बने रहने में सहायता करती हैं जानिए ऐसे ही कुछ आदतों के बारे में, जिन्हें अपनाकर आप अपनी नौकरी, परिवार या अन्य दायित्वों के बीच संतुलन बनाने के साथ-साथ स्वयं को स्वस्थ रख सकते हैं

हर दिन करीब 20 मिनट तक पढ़ें

पढ़ने के लिए समय निकालना व्यस्त रहने वाले लोगों एक विलासिता की तरह लग सकता है लेकिन, यदि आप अपनी जीवनशैली में इस आदत को अपनाते हैं, तो यह आपकी जीवन में काफी परिवर्तन ला सकती है इसलिए रोजाना कम से कम 20 मिनट अपनी पसंदीदा पुस्तक या लेख पढ़ने के लिए जरूर निकालें दरअसल, पढ़ने से तनाव कम हो सकता है संज्ञानात्मक कार्य बढ़ सकता है यहां तक ​​कि नींद की गुणवत्ता में भी सुधार हो सकता है साथ ही यह दिनभर के दबावों से छुटकारा पाने और तनावमुक्त रहने का एक बहुत बढ़िया तरीका है

कमरे के छोटे हिस्से को साफ करें

अगर घर में रखे सामान इधर-उधर बिखरे और फैले हुए होते हैं, तो इसका असर आपके दिमाग पर भी पड़ सकता है अव्यवस्था हमारी ऊर्जा को समाप्त कर सकती है इसलिए व्यवस्थित हो बहुत महत्वपूर्ण है वैसे, व्यवस्तता के दौरान पूरे कमरे को व्यवस्थित करना मुश्किल लग सकता है, लेकिन एक छोटी-सी स्थान को व्यवस्थित करना बहुत ही सरल है चाहे वह आपकी डेस्क हो, किचन काउंटर हो या आपके लिविंग रूम का कोई कोना हो, प्रत्येक दिन कुछ मिनट साफ-सफाई में बिताएं यह आदत न सिर्फ़ आपको व्यवस्थित रहने में सहायता करती है, बल्कि इससे स्वच्छता का रेट भी पैदा होता है इस तरह की गतिविधियां एंजाइटी को कम करने में सहायता करती हैं

​पांच मिनट का स्ट्रेचिंग ब्रेक लें

लंबे समय तक एक स्थान पर बैठे रहना, चाहे डेस्क पर हो या स्क्रीन के सामने, हमारे शरीर पर प्रतिकूल असर डाल सकता है इसलिए करीब पांच मिनट का ब्रेक लें इससे आपके अंदर व्याप्त नकारात्मक विचारों से निजात मिल सकता है
इसके लिए बस अपनी बाहों, पैरों, गर्दन और पीठ पांच-पांच मिनट के लिए स्ट्रेच करें स्ट्रेचिंग न सिर्फ़ ब्लड सुर्कलेशन में सुधार करती है, बल्कि यह मांसपेशियों के तनाव को कम करने में भी सहायता करती है इसलिए चाहे आप घर पर हों या कार्यालय में, अपने शरीर और दिमाग को तरोताजा करने के लिए थोड़े-थोड़े अंतराल पर ब्रेक जरूर लें

अपने लिए या दूसरों प्रति दया रेट दिखाएं

तमाम व्यस्तताओं के दौरान स्वयं के प्रति और दूसरों के प्रति दयालुता दिखाना महत्वपूर्ण है दयालुता का एक छोटा-सा काम करने के लिए प्रत्येक दिन कुछ समय निकालें, चाहे वह अपने लिए पॉजिटिव नोट्स लिखना हो, किसी मित्र को कोई मैसेज भेजना हो या किसी सहकर्मी की सहायता करना हो दयालुता के कार्य न सिर्फ़ हमारे मूड और आत्म-सम्मान को बढ़ाते हैं, बल्कि सामाजिक संबंधों को भी मजबूत करते हैं और सामाजिक भावना को बढ़ावा देते हैं यहां तक ​​कि छोटे से छोटे काम भी काफी गहरा असर डाल सकते हैं

दिन का अंत आभार व्यक्त वाली एक चीज से करें

इससे पहले कि आप बिस्तर पर सोने जाएं, दिनभर आपने क्या-क्या काम किये, उस पर चिंतन-मनन करने के लिए कुछ समय निकालें और एक ऐसी चीज की पहचान करें, जिसके लिए आप आभारी हैं यह एक सार्थक वार्ता या खुशी का क्षण हो सकता है स्वयं के प्रति आभार जताने से आपका ध्यान अभाव से हटकर उन चीजों की तरफ जाता है, जो आपके जीवन में पर्याप्त हैं इससे आपके अंदर सकारात्मकता का रेट पैदा होता है और समग्र रूप से स्वास्थ्य वर्धक बने रहने में सहायता मिलती है इसलिए चाहे आपका दिन कितना भी व्यस्त क्यों न हो, छोटी-छोटी चीजों में कृतज्ञता खोजें

Related Articles

Back to top button