स्वास्थ्य

क्या है एथिलीन ऑक्साइड, सेहत पर पड़ता है यह बुरा असर

What is Ethylene Oxide : खाने-पीने की पैक्ड चीजें इस समय निशाने पर हैं. हिंदुस्तान बॉर्नविटा को हेल्थ ड्रिंक कहकर बेचने पर FSSAI ने रोक लगा दी है. वहीं नेस्ले के बेबी फूड सेरेलैक में शुगर पाए जाने के बाद इसपर भी प्रश्न उठने लगे हैं. अब सिंगापुर ने जहां एवरेस्ट के फिश करी मसाले पर बैन लगा दिया है तो वहीं हांगकांग ने MDH के 3 मसालों पर बैन लगा है. इनमें एथिलीन ऑक्साइड की मात्रा अधिक पाई गई जिस कारण इन्हें बैन किया गया.

क्या है एथिलीन ऑक्साइड

एथिलीन ऑक्साइड एक कीटनाशक है जिसका इस्तेमाल खेती में कीटों को मारने में किया जाता है. साथ ही यह स्टरलाइजिंग एजेंट के रूप में भी काम करता है. खाने-पीने की चीजों में मिलाने के लिए इसे बैन किया गया है. इसका मुख काम मेडिकल इक्विपमेंट्स को स्टरलाइज करने में किया जाता है. साथ ही मसालों में इसका इस्तेमाल एक सीमित मात्रा में ही कर सकते हैं.

हो सकती हैं ये बीमारियां

एथिलीन ऑक्साइड को यदि तय मात्रा से अधिक इस्तेमाल किया जाए तो कैंसर जैसी घातक रोग हो सकती है. इसके संपर्क में आने से लिम्फोइड कैंसर और स्त्रियों में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. वहीं यह डीएनए, मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को भी हानि पहुंचा सकता है. इसका इस्तेमाल लंबे समय तक किया जाए तो स्ट्रेस हो सकती है. साथ ही आंखों, स्कीन, नाक, गले और फेफड़ों में जलन हो सकती है. वहीं अमेरिकी नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के मुताबिक इसके इस्तेमाल से लिंफोमा और ल्यूकेमिया जैसी रोग भी हो सकती है.

 

जारी की गई एडवाइजरी

सिंगापुर प्रशासन ने एडवाइजरी जारी कर लोगों से अपील की है कि वे एवरेस्ट के फिश करी मसाले का अभी यूज न करें. यदि किसी को मसाला खाने से कोई भी कठिनाई हो रही है तो वे तुरंत क्षेत्रीय सरकारी हॉस्पिटल या डिस्पेंसरी में संपर्क करे या अपने आसपास किसी चिकित्सक से राय ले.

Related Articles

Back to top button