क्या आपको ऑफिस और स्कूल खुलने से डर लग रहा है? एक्सपर्ट्स से जानें

क्या आपको ऑफिस और स्कूल खुलने से डर लग रहा है? एक्सपर्ट्स से जानें

दुनियाभर में कोरोना वायरस के घटते केस और बढ़ते वैक्सीनेशन के बीच ज्यादातर जगहों पर लॉकडाउन का वक्त खत्म हो चुका है। भारत में अनलॉक की प्रक्रिया पिछले 8 महीने से चल रही है, वहीं ब्रिटेन अब पूरी तरह लॉकडाउन खत्म करने का रोडमैप तैयार कर चुका है। अब बहुत संभावना है कि बड़ी आबादी को वैक्सीन लगने के बाद ज्यादातर ऑफिस जल्द खुल जाएंगे। जहां पिछले एक साल से वर्क फ्रॉम होम मोड में काम हो रहा है, वहां भी ऑफिस खुलने की संभावना है। लेकिन कई कर्मचारी ऐसे हैं, जो ऑफिस खुलने की बात सुनकर रोमांचित कम होते हैं और उन्हें डर ज्यादा लगता है। आइए, विशेषज्ञों से जानते हैं कि इस परिस्थिति से कैसे निपटा जा सकता है-

विशेषज्ञों के मुताबिक, वर्क फ्रॉम होम के दौरान लोगों ने परिवार के साथ वक्त बिताया और घर के कमरों में ऑफिस के काम करने का अनुभव लिया। कई लोग इस रूटीन में बदलाव चाहते हैं, लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं, जो यह सोच कर ही डर रहे हैं कि ऑफिस और स्कूल खुलने पर वे अब रोज कैसे बाहर जाएंगे।


कई तरह के डर

लेखक जेमी विंडस्ट के मुतबिक, कुछ लोगों को अपनी सेहत की चिंता है। इससे निपटने के लिए बस इतना याद रखना है कि वैक्सीनेशन के बाद भी मास्क, फिजिकल डिस्टैंसिंग और सैनिटाइजेशन के टिप्स फॉलो करेंगे तो आप पूरी तरह सुरक्षित रहेंगे। पर कई लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें मानसिक समस्या और एंजाइटी है। ब्रिटेन के मेंटल हेल्थ फाउनडेशन के एक सर्वे के मुताबिक, लॉकडाउन के बाद एक-चौथाई लोग अकेला महसूस कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग वर्क फ्रॉम होम के आदी हो गए हैं। वे अपने पेट्स के साथ वक्त बिताने, पैसे बचाने, ऑफिस आने-जाने के झंझट से मुक्ति का आनंद उठा रहे हैं।

जेमी विंडस्ट कहते हैं कि कई लोग सिर्फ पहले जैसे काम करने से नहीं डर रहे हैं, बल्कि उन्हें उस मानसिक संघर्ष का डर है, जो काम के साथ आता है। बाहर की दुनिया में लगातार काम का दबाव और व्यायाम करने की चुनौती हैं। ऐसे दिखना होता है कि हम मजे कर रहे हैं। वहीं 2020-2021 ने हमें इनसे आजादी दे दी है।

अपनी पसंद को पहचानें

महामारी ने लोगों को नए विकल्प दिए हैं और हम सभी को यह महसूस करने के लिए मजबूर किया है कि काम करने के स्थापित तरीके एक पल में बदल सकते हैं। जीवनशैली विशेषज्ञ कूपर डिक्सन के मुताबिक, अब हम और बदलाव के बारे में सोच सकते हैं। हम काम का ऐसा तरीका खोज सकते हैं जो लॉकडाउन के पहले के तरीकों से अलग हो। कई कंपनियां पहले ही हाईब्रिड विकल्प के बारे में सोच रही हैं। वे कर्मचारियों को हफ्ते में दो से तीन दिन ही ऑफिस बुलाना चाहती हैं।


खुद को वक्त दें

किसी नई चीज को अपनाने की रफ्तार हर इंसान में अलग होती है। 2010 की लैली, वैन जार्सवेल्ड, पाट्स और वार्डले के एक शोध के मुताबिक, नए स्वभाव को अपनाने में 18 से 254 दिन के बीच का समय लगता है। इसलिए सब कुछ अपनी रफ्तार से करें और देखें कि किन चीजों को आप कितना नियंत्रित कर सकते हैं। सरकार सब कुछ ओपेन कर दे तो इसका यह मतलब नहीं है कि आप भी सारी सामाजिक जिम्मेदारियां निभाने लगें।


छोटे-छोटे कदम उठाएं

देखें कि आप अपनी नई रूटीन कैसे बना सकते हैं। फिर से सार्वजनिक यातायात में जानें का आत्मविश्वास जगाएं।

याद रखें कि आप अकेले नहीं हैं

कूपर डिक्सन के मुताबिक, ये बदलाव सिर्फ आपके साथ नहीं हैं। आप अकेले नहीं हैं, जो लॉकडाउन और अनलॉक की एंजाइटी झेल रहे हैं। कई ऐसे लोग हैं, जो ठीक वैसा सोच रहे हैं, जैसा कि आप सोच रहे हैं। 


सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करने के कुछ आसान घरेलु उपाय

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करने के कुछ आसान घरेलु उपाय

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की समस्या से तो लगभग हर दूसरा व्यक्ति प्रभावित होता ही है। सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की समस्या गर्दन के हिस्से में जोड़ो को प्रभावित करती है। इस समस्या के कारण गर्दन में दर्द होने लगता है। सर्वाइकल की समस्या उम्र से सम्बंधित होती है जो उम्र के साथ-साथ सर्वाइकल स्पाइन की हड्डिया और कार्टिलेज कमजोर होने लगते है।

अगर आप भी सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द से बहुत परेशान है तो आप उस दर्द वाले हिस्से पर ठंडी या गर्म सिकाई कर सकते है।

गाय का घी काफी अच्छा और फायदेमंद माना जाता है। इसमें जोड़ो के दर्द को लुब्रीकेंट्स करने के गुण होते है और इसलिए ही ये सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द में भी फायदेमंद साबित हो सकता है।

पद्मासन, ताडासन, पवनमुक्तासन, यष्टिकासन जैसे कुछ और भी कुछ योग है जो सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर भगा देते है.

अगर आप जड़ी- बूटियों के प्रयोग से सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करना चाहते है तो आपको हल्दी, अदरक, मेथी, अश्वगंधा और गुग्गुल जैसी जड़ी-बूटियों को अपनी दिनचर्या में शामिल करना होगा।

आप गर्दन की एक्सेर्साइज़ करके भी सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की समस्या को दूर कर सकते है। इसके साथ ही जब भी आप कही बैठे तो हमेशा ही आरामदायक मुद्रा में बैठे इससे सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की समस्या खत्म हो सकती है।


Suzuki Hayabusa का नया अवतार इस दिनांक को होगा लॉन्च, मूल्य       Royal Enfield की इस सस्ती बाइक की मार्केट में धूम, बिक्री में पूरे 286 परसेंट की बढ़ोत्तरी       Ola Electric हिंदुस्तान में लगाएगा दुनिया का सबसे बड़ा चार्जिंग सेटअप       दमदार ड्राइविंग रेंज के साथ महज 18 मिनट में होगी चार्ज, Ola इलेक्ट्रिक स्कूटर जुलाई मे होगी लॉन्च       लीक हुई Mi 11X Pro और Mi 11X की कीमत       जानिए कैसा है 48MP कैमरे वाला यह स्मार्टफोन       WhatsApp यूजर्स के लिए चेतावनी! भूलकर भी नहीं करें ये गलतियां       Realme के 6000mAh बैटरी वाले फोन की मूल्य में कटौती       Apple ने हिंदुस्तान में लॉन्च किया iPad Pro, बढ़िया डिस्प्ले और 5G कनेक्टिविटी के साथ मिलेंगे कई खास फीचर्स       कार या बाइक चलाते समय नहीं कटवाना चाहते हैं Challan तो इन ऐप का करें इस्तेमाल       जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस की समस्या से आराम दिलाती है ब्रोकली       सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करने के कुछ आसान घरेलु उपाय       अगर कमजोर हो गयी है आपकी याददाश्त तो जरूर करें ये उपाय       गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए जरुरी है इन चीजों का सेवन       आखिर प्रेग्नेंसी में क्यों दी जाती है सूखा नारियल खाने की सलाह       क्या आप भी प्लान कर रहे हैं बच्चा तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये चीजें       शायद आप नहीं जानते होंगे नाश्ते में अंडे खाने के ये जबरदस्त फायदे       दांतों को कमजोर बना सकती हैं ये चीजें, भूलकर भी ना करें इन चीजों का सेवन       गर्मियों में तरबूज का ज्यादा सेवन भी सेहत को पहुंचा सकता है नुकशान       गले के रोग को हल्के में न लें, लापरवाही बन सकती है इस बड़ी बीमारी की वजह