छोटे परदे का नया धारावाहिक 'शुभारंभ' उधेड़बुन की यह ऐसी काल्पनिक कहानी

छोटे परदे का नया धारावाहिक 'शुभारंभ' उधेड़बुन की यह ऐसी काल्पनिक कहानी

छोटे परदे का नया धारावाहिक 'शुभारंभ' उधेड़बुन की एक ऐसी काल्पनिक कहानी लेकर आ रहा है जिसमें रानी के पास बड़े बड़े सपने हैं. आत्मविश्वास भी कूट कूट कर भरा हुआ है लेकिन, उसकी कुछ करने की कोशिशें अक्सर नाकाम रहती हैं. दूसरी तरफ राजा एक रईस घर में पैदा हुआ है. ऐशोआराम में पला है. सब कुछ अच्छा था. आकस्मित से उसके पिता चल बसे व राजा को ताऊ व ताई के हाथों छोड़ गए. अब कैसे इन दोनों का मिलन होता है व कैसे ये दोनों एक दूसरे के करीब आकर एक ग्यारह बनाते हैं? इसी प्यार भरी यात्रा की कहानी कहेगा 'शुभारंभ'.

 

धारावाहिक की निर्माता शशि मित्तल बताती हैं कि राजा व रानी की कहानी एक जोड़े की असल जिंदगी से प्रेरित है, इसलिए 'शुभारंभ' मेरे दिल के बहुत करीब है. मैं इस पर पिछले तीन वर्ष से कार्य कर रही थी व आज मैं बहुत खुश हूं कि आखिर यह मैंने कर दिखाया. यह कहानी बहुत से लोगों के रिश्तों को गहरा करेगी व उन्हें प्रेरणा देगी. कहते हैं कि एक जोड़ा एक दूसरे की खामियों को अक्सर संभाल लेता है व उन दोनों का एक दूसरे के साथ मिलकर कार्य करना उन्हें ज़िन्दगी की नयी ऊंचाइयों को छूने में मदद करता है. हमारा नया शो 'शुभारंभ' इसी सोच पर आधारित है.'

धारावाहिक 'शुभारंभ' के मुख्य कलाकार महिमा मकवाना व अक्षित सुखीजा हैं. इनका साथ देने के लिए पल्लवी राव, तुषार दलवी, छाया वोरा, मीर अली, आर्जव त्रिवेदी, वैभवी महाजन प्रतीक राठौर आदि कलाकार भी धारावाहिक का भाग बने हैं.