रवि किशन व कंगना पर निशाना साध जया बच्चन के सपोर्ट में उतरे संजय राउत

 रवि किशन व कंगना पर निशाना साध जया बच्चन के सपोर्ट में उतरे संजय राउत

नयी दिल्ली: पिछले कई दिनों से बॉलीवुड इंडस्ट्री में उथल-पुथल मची हुई है। सोमवार को भाजपा से लोकसभा सांसद ने ड्रग कनेक्शन को लेकर पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री को ही कटघरे में खड़ा कर दिया। इसके बाद मंगलवार को समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने रवि किशन को आड़े हाथों लेते हुए पलटवार किया। अब इस मुद्दे में शिवसेना नेता संजय राउत ने अपना बयान दिया है।

जया बच्चन के सपोर्ट में उतरे संजय राउत 
संजय राउत ने राज्यसभा सांसद जया बच्चन को सपोर्ट किया है। उन्होंने कहा, 'कुछ लोग फिल्मी जगत को बुरा-भला कह रहे हैं। इससे केवल फिल्मी जगत ही नहीं बल्कि हमारी संस्कृति व परंपरा भी बदनाम हो रही है। वे कहते हैं कि यहां (फिल्म इंडस्ट्री) ड्रग गिरोह है। क्या ऐसा पॉलिटिक्स व बाकी क्षेत्रों में नहीं है? इसे रोकने की जिम्मेदारी सरकार व लोगों की है। ' संजय राउत ने आगे कहा, 'ऐसा ही जया बच्चन ने भी बोला है कि कुछ लोगों के कारण पूरी फिल्म इंडस्ट्री बदनाम हो रही है। यह (बॉलीवुड) इंडस्ट्री 5 लाख लोगों को रोजगार देती है। अगर कोई इसे समाप्त करने की प्रयास कर रहा है तो ऐसे लोगों को रोकना चाहिए। '

ड्रग्स मुद्दे में रवि किशन की चिंता
आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि रवि किशन ने लोक सभा में सोमवार को देश व बॉलीवुड में बढ़ते ड्रग के मुद्दे पर चिंता जताई थी। साथ ही सरकार से तस्करी व इसका प्रयोग करने वालों पर सख्ती से रोक लगाने की बात कही। उन्होंने एनसीबी के कार्य की तारीफ की है। उन्होंने कहा, 'भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग की लत बहुत ज्यादा ज्यादा है। कई लोगों को पकड़ लिया गया है। एनसीबी बहुत अच्छा कार्य कर रही है। मैं केन्द्र सरकार से अपील करता हूं वह इस पर कठोर कार्रवाई करें, दोषियों को जल्द से जल्द पकड़े व उन्हें सजा दे जिससे की पड़ोसी राष्ट्रों की साजिश का अंत हो सके। '

जया बच्चन का रवि किशन पर पलटवार
जया बच्चन (Jaya Bachchan) ने ड्रग्स मुद्दे पर आ रहे बयानों से बॉलीवुड की बदनामी को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने रवि किशन के सोमवार को दिए गए बयान का जवाब देते हुए बोला है, 'लोग बॉलीवुड को बदनाम करने की प्रयास में लगे हैं। कई दिन से बॉलीवुड को बदनाम किया जा रहा है। कुछ लोग ऐसे हैं जो जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं। यह गलत बात है। '