जावेद अख्तर ने एक बार फिर से मोदी सरकार की आलोचना की

जावेद अख्तर ने एक बार फिर से मोदी सरकार की आलोचना की

हाल ही में बॉलीवुड के प्रसिद्ध स्क्रीनराइटर व लेखक जावेद अख्तर ने एक बार फिर से नरेन्द्र मोदी सरकार की आलोचना कर दी हैं जो वह हमेशा ही करते रहे हैं। उन्होंने हाल ही में एक बार फिर से प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर तीखा हमला किया हैं। जी हाँ, उन्होंने अल जजीरा के साथ एक साक्षात्कार में फिल्ममेकर महेश भट्ट के साथ अपनी मौजूदगी दर्ज करवाई।

वहीं इस दौरान साक्षात्कार में उन्होंने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को फासीवादी बोला है। इस दौरान जावेद से पूछा गया कि 'क्या हिंदुस्तान के पीएम नरेंद्र मोदी फासीवादी है?' इस पर बात करते हुए जावेद ने बोला कि 'बेशक वो हैं। मेरा मतलब है कि फासीवादी लोगों के सिर पर सींग थोड़े न होते हैं। फासीवाद एक विचार है।

एक ऐसा विचार जिसमें लोग अपने आपको किसी समुदाय से श्रेष्ठ समझते हैं व अपनी सारी परेशानियों की जड़ उन दूसरे समुदाय के लोगों को मानते हैं। जब आप एक खास समुदाय के लोगों से नफरत करने लगते हैं, आप फासीवादी हो जाते हैं। ' आगे जब महेश भट्ट से पूछा गया कि 'क्या हिंदुस्तान देश वाकई इस्लामोफोबिक है जैसा कि संसार भर के मुस्लिमों द्वारा ऐसा बोला जा रहा है ?' तो महेश भट्ट ने बोला कि 'मुझे लगता है कि इस्लामोफोबिया 9/11 हमलों के बाद बहुत ज्यादा तेज हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने बोला कि मुझे लगता है कि ये फोबिया कहीं ना कहीं निर्मित भी किया गया है क्योंकि ऐसा तो नहीं है कि देश में कोई आम इंसान मुस्लिमों से इतना डरता है। हम सभी लंबे समय से साथ रह रहे हैं। मेरे कहने का मतलब है कि उस तरह के भय को क्राफ्ट किया जा रहा है, लगातार कोशिशें की जा रही हैं कि लोगों में मुस्लिमों को लेकर भय बैठाया जा सके। रोज-रोज मीडिया के कुछ खास चैनलों द्वारा यह भय फैलाया जा रहा है व मुसलमानों से नफरत करना ही भाजपा की लाइफलाइन है। '

आपको पता ही होगा हिंदुस्तान में कई विशेषज्ञ ऐसे हैं जो ऐसा मानते हैं कि हिंदुस्तान फासीवादी स्टेट बनने की दिशा में अपने कदम बढ़ा रहा है। आप सभी को बता दें कि सीएए-एनआरसी के विरूद्ध महेश भट्ट व जावेद अख्तर कई बॉलीवुड सितारों के साथ पहले ही अपना विरोध दायर करवा चुके हैं।