शायर कैफ़ी आज़मी की कायल दुनिया, जानें जिंदगी से जुड़ी ये बातें

शायर कैफ़ी आज़मी की कायल दुनिया, जानें जिंदगी से जुड़ी ये बातें

मुम्बई: हिन्दी फिल्मी गीतों में जितना योगदान उत्तर प्रदेश का रहा है उतना किसी प्रदेश का नहीं। अधिकतर गीतकार इसी प्रदेश से मुंबई पहुंचे और वहां पर उन्होंने अपनी रचनाओं से ऐसे सहित्य की रचना की जो आज भी पूरी दुनिया में पढ़ा और सुना जाता है। इन्ही में से एक गीतकार हुए कैफी आजमी जिन्होंने हिन्दी उर्दू को मिलाकर ऐसे गीतों की रचना की जो अपने आप में अतुलनीय है।

गीतकार और शायर कैफी आजमी का जन्म आज ही के दिन (14 जनवरी1919) यूपी के आजमगढ़ जिले में हुआ था। उनका असली नाम अख्तर हुसैन रिजवी था। उन्हें बचपन से गीत गुनगुनाने का शौक था। उन्होंने अपनी 11 साल की उम्र में अपनी पहली कविता लिख डाली।


कैफी ने उर्दू जर्नल ‘मजदूर मोहल्ला’ का संपादन किया
1921 में कैफी लखनऊ छोड़ कर कानपुर आ गए। यहाँ उस वक्त मजदूरों का आन्दोलन जोरों पर था। कैफी उस आंदोलन से जुड़ गए, कैफी को कानपुर की फिजा बहुत रास आई। यहाँ रहकर उन्होंने मार्क्सवादी साहित्य का गहराई से अध्ययन किया। 1943 में साम्यवादी दल ने मुंबई कार्यालय शुरू किया और उन्हें जिम्मेदारी देकर भेजा। यहां आकर कैफी ने उर्दू जर्नल ‘मजदूर मोहल्ला’ का संपादन किया।

उस दौर देश में आजादी की लड़ाई के लिए गीतकार अपने गीतों से लोगों को जागरूक कर रहे थें। इस बीच उनका रूझान साम्यवाद से हो गया और उन्होंने इसकी सदस्यता ग्रहण कर ली। इसके बाद वह बड़े हुए और मुशा’यरे में जाना शुरू कर दिया। प्रगतिशील साहित्यकारों के संपर्क ने उनके लेखन को और व्यक्तित्व को खूब मांजने का काम किया। साल 1942 में कैफी आजमी उर्दू और फारसी की उच्च शिक्षा के लिये लखनऊ और इलाहाबाद भेजे गये। जहां उन्होंने कैफी ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की सदस्यता ग्रहण करके पार्टी कार्यकर्ता के रूप मे कार्य करना शुरू कर दिया और फिर भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हो गये।

कैफी आजमी ने 1951 में पहला गीत बुजदिल फिल्म के लिए लिखा। उन्होंने अनेक फिल्मों में गीत लिखें जिनमें कागज के फूल हकीकत, हिन्दुस्तान की कसम, हंसते जख्म आखिरी खत और हीर रांझा जैसे कई मशहूर गीत लिखे। हुस्न और इश्क दोनों को रुस्वा करे वो जवानी जो खूं में नहाती नहीं। कैफी आजमी की यह पंक्ति उनके जीवन की सबसे बड़ी पंक्ति है और इसी लाइन के आस-पास उन्होंने पूरा जीवन जिया। ये दुनिया, ये महफिल मेरे काम की नहीं।

1975 कैफी आजमी को आवारा सिज्दे पर साहित्य अकादमी पुरस्कार और सोवियत लैंड नेहरू अवार्ड से सम्मानित किये गये। 1970 सात हिन्दुस्तानी फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इसके बाद 1975 गरम हवा फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ वार्ता फिल्मफेयर पुरस्कार मिला। कैफी आजमी को कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। उन्हें तीन फिल्मफेयर अवार्ड, साहित्य और शिक्षा के लिए प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार भी मिला। दस मई 2002 को कैफी अपना यही गीत गुनगुनाते हुए इस दुनिया से चल दिए।


andav Controversy के बीच सांसद ने जानें क्यों की 'मिर्जापुर' के निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग

andav Controversy के बीच सांसद ने जानें क्यों की 'मिर्जापुर' के निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग

वेब सीरीज 'तांडव' विवाद के बीच भारतीय जनता पार्टी के सेक्रेटरी और उत्तर प्रदेश के कौशांबी से लोकसभा सांसद विनोद सोनकर ने मिर्जापुर वेब सीरीज के निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की हैl एएनआई से बात करते हुए विजय सोनकर ने कहा कि वह खुश है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 'तांडव' वेब सीरीज के खिलाफ एक्शन ले रहे हैl इसके अलावा उन्होंने मिर्जापुर के निर्माताओं के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई करने की मांग की हैl

विनोद सोनकर का दावा है कि इस वेब सीरीज के चलते क्षेत्र से जुड़े लोगों की भावनाएं आहत हुई हैl विनोद सोनकर ने एएनआई को बताया, 'मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभारी हूं लेकिन मैं उनसे यह भी निवेदन करता हूं कि वह मिर्जापुर वेब सीरीज के निर्माताओं के खिलाफ भी कार्रवाई करेंl इसका कारण यह है कि यह वेब सीरीज मिर्जापुर के लोगों और मिर्जापुर की छवि खराब करता हैl मिर्जापुर मां विंध्यवासिनी शक्तिपीठ और कारपेट उद्योग के लिए लोकप्रिय हैंl यह हिंदुओं का प्रमुख धार्मिक स्थल भी है लेकिन निर्माताओं ने इस वेब सीरीज के माध्यम से विश्व स्तर पर इसकी छवि खराब करने की प्रयास किया है और लोगों की भावनाएं आहत की हैl'

विजय ने यह भी कहा कि मिर्जापुर के निर्माताओं पर आर्थिक दंड लगाने की आवश्यकता है और इससे आए धन से क्षेत्र का विकास होना चाहिएl इस वेब सीरीज में दर्शाया गया है कि मिर्जापुर अवैध हथियारों के व्यापार में आगे है जो कि गलत बात है।

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि उनकी सरकार अमेज़न प्राइम इंडिया की वेब सीरीज तांडव के खिलाफ एफआईआर रजिस्टर कर रही हैl इसके पहले तांडव वेब सीरीज के खिलाफ देशभर में कई एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैl इसपर धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप लगा है। इस वेब सीरीज में अली फजल और पंकज त्रिपाठी की अहम भूमिका थीl


किसान आंदोलन: किसानों ने ठुकराया प्रस्ताव, सरकार ने कहा...       नेताओं-अधिकारियों को जनता पीटे तो हैरानी नहीं       राम भक्त मुस्लिम दंपति, मंदिर के लिए दिया योगदान       दिल्ली में आतंकी हमला, अटैक को लेकर अलर्ट जारी       कोरोना वॉरियर्स से मोदी का संवाद, बोले...       विमान से कांपा पाकिस्तान, सीमा पर भारत ने मारी दहाड़       निर्धारित दर पर ही किराया लेः एसडीएम, अनुमंडल पदाधिकारी ने टेंपो एसोसिएशन के साथ बैठक कर दिया निदेश       किसान आंदोलन के साथ आंगनबाड़ी कर्मियों ने किया एकजुटता प्रदर्शन, बकाया मानदेय, पोषाहार राशि भुगतान के लिए उठी आवाज       धमाके से दहला J&K, जवानों पर हुआ भयानक हमला       भयानक विस्फोट से दहला कर्नाटक, धमाके से टूट गई सड़कें       अभी ठंड से नहीं मिलेगी राहत, इस राज्यों में होगी भारी बारिश       छत्तीसगढ़: कबड्डी मैच के दौरान खिलाड़ी की मौत       टूटे सभी रिकॉर्ड, पेट्रोल-डीजल के दामों में तेजी से बढ़ोत्तरी       MP पुलिस ने शव के साथ किया ऐसा, हाथरस कांड की याद हुई ताजा       Flipkart Big Saving Days शुरू, सस्ते में खरीदें ये स्मार्टफोन       Reliance Jio का ऑफर, 250 रुपये में हर दिन 2 जीबी डेटा       सस्ती फैमिली कार, ऑटो मोबाइल कंपनियों ने किया लॉन्च       इंडिया में लांच हुआ Vivo Y31, मिल रहे बेहतरीन फीचर       Google में बड़े बदलाव,अब हैकिंग पर लगेगी रोक       बाइडन की ताकतवर कार, बड़े-बड़े हमले इस पर बेअसर