शायर कैफ़ी आज़मी की कायल दुनिया, जानें जिंदगी से जुड़ी ये बातें

शायर कैफ़ी आज़मी की कायल दुनिया, जानें जिंदगी से जुड़ी ये बातें

मुम्बई: हिन्दी फिल्मी गीतों में जितना योगदान उत्तर प्रदेश का रहा है उतना किसी प्रदेश का नहीं। अधिकतर गीतकार इसी प्रदेश से मुंबई पहुंचे और वहां पर उन्होंने अपनी रचनाओं से ऐसे सहित्य की रचना की जो आज भी पूरी दुनिया में पढ़ा और सुना जाता है। इन्ही में से एक गीतकार हुए कैफी आजमी जिन्होंने हिन्दी उर्दू को मिलाकर ऐसे गीतों की रचना की जो अपने आप में अतुलनीय है।

गीतकार और शायर कैफी आजमी का जन्म आज ही के दिन (14 जनवरी1919) यूपी के आजमगढ़ जिले में हुआ था। उनका असली नाम अख्तर हुसैन रिजवी था। उन्हें बचपन से गीत गुनगुनाने का शौक था। उन्होंने अपनी 11 साल की उम्र में अपनी पहली कविता लिख डाली।


कैफी ने उर्दू जर्नल ‘मजदूर मोहल्ला’ का संपादन किया
1921 में कैफी लखनऊ छोड़ कर कानपुर आ गए। यहाँ उस वक्त मजदूरों का आन्दोलन जोरों पर था। कैफी उस आंदोलन से जुड़ गए, कैफी को कानपुर की फिजा बहुत रास आई। यहाँ रहकर उन्होंने मार्क्सवादी साहित्य का गहराई से अध्ययन किया। 1943 में साम्यवादी दल ने मुंबई कार्यालय शुरू किया और उन्हें जिम्मेदारी देकर भेजा। यहां आकर कैफी ने उर्दू जर्नल ‘मजदूर मोहल्ला’ का संपादन किया।

उस दौर देश में आजादी की लड़ाई के लिए गीतकार अपने गीतों से लोगों को जागरूक कर रहे थें। इस बीच उनका रूझान साम्यवाद से हो गया और उन्होंने इसकी सदस्यता ग्रहण कर ली। इसके बाद वह बड़े हुए और मुशा’यरे में जाना शुरू कर दिया। प्रगतिशील साहित्यकारों के संपर्क ने उनके लेखन को और व्यक्तित्व को खूब मांजने का काम किया। साल 1942 में कैफी आजमी उर्दू और फारसी की उच्च शिक्षा के लिये लखनऊ और इलाहाबाद भेजे गये। जहां उन्होंने कैफी ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की सदस्यता ग्रहण करके पार्टी कार्यकर्ता के रूप मे कार्य करना शुरू कर दिया और फिर भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हो गये।

कैफी आजमी ने 1951 में पहला गीत बुजदिल फिल्म के लिए लिखा। उन्होंने अनेक फिल्मों में गीत लिखें जिनमें कागज के फूल हकीकत, हिन्दुस्तान की कसम, हंसते जख्म आखिरी खत और हीर रांझा जैसे कई मशहूर गीत लिखे। हुस्न और इश्क दोनों को रुस्वा करे वो जवानी जो खूं में नहाती नहीं। कैफी आजमी की यह पंक्ति उनके जीवन की सबसे बड़ी पंक्ति है और इसी लाइन के आस-पास उन्होंने पूरा जीवन जिया। ये दुनिया, ये महफिल मेरे काम की नहीं।

1975 कैफी आजमी को आवारा सिज्दे पर साहित्य अकादमी पुरस्कार और सोवियत लैंड नेहरू अवार्ड से सम्मानित किये गये। 1970 सात हिन्दुस्तानी फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इसके बाद 1975 गरम हवा फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ वार्ता फिल्मफेयर पुरस्कार मिला। कैफी आजमी को कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। उन्हें तीन फिल्मफेयर अवार्ड, साहित्य और शिक्षा के लिए प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार भी मिला। दस मई 2002 को कैफी अपना यही गीत गुनगुनाते हुए इस दुनिया से चल दिए।


Palak Sidhwani की ग्लैमरस फोटोज इंस्टा पर हुई वायरल, देखें तस्वीरें

Palak Sidhwani की ग्लैमरस फोटोज इंस्टा पर हुई वायरल, देखें तस्वीरें

टीवी एक्ट्रेस हॉटनेस के मामले में बड़ी बड़ी अभिनेत्रियों को टक्कर देती है। तारक मेहता शो की एक्ट्रेस Palak Sidhwani रियल लाइफ में बेहद स्टाइलिश हैं। 


सोशल मीडिया पर एक्ट्रेस पलक सिधवानी काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं। टप्पू सेना की मेंबर पलक सिधवानी को डांस करना भी काफी पसंद है। 


सोशल मीडिया पर पलक सिधवानी अक्सर अपनी डांस वीडियो भी शेयर करती रहती हैं। सोनू के किरदार निभा रही एक्ट्रेस पलक सिधवानी को दर्शकों का काफी सपोर्ट मिल रहा है। 


एक्ट्रेस पलक सिधवानी के सोशल मीडिया अकाउंट इंस्टाग्राम पर लाखों फॉलोवर्स हैं।


Covid-19: बिहार में ब्लैक फंगस से अब तक 76 की मौत       16 जून से बिहार के लोगों को मिलेगी छूट या बढ़ेगी पाबंदी       बिहार में कोविड-19 से आठ मरीजों की मौत, इतने नए मुद्दे आए सामने       इन इलाकों में होगी भारी बारिश, समय से पहले पहुंचा मानसून       यूपी में आज से रेहड़ी-पटरी दुकानदारों के लिए विशेष टीकाकरण अभियान       महंगाई को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर भड़की मायावती, बोलीं...       सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर       हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र       युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी       धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा       OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार       पौष्टिक आहार, पढ़ाई और प्यार, बच्चों के लिए अत्यंत अनिवार्य: शालिनी गुप्ता,  बाल श्रम उन्मूलन दिवस पर पारहो में फूड न्यूट्रिशन किट का किया वितरण        Muslim Lawmaker Ilhan Omar ने US और Israel की तुलना तालिबान से कर डाली       दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं       अमेरिका में फेडरल जज बनने वाले पहले मुस्लिम बने जाहिद कुरैशी       70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत       कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?       PM मोदी से मुलाकात कर बहुत खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बड़ी बात       राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...       अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं