विमान में उड़ान के दौरान अब उठा सकेंगे इंटरनेट सेवाओं का बड़ा लाभ

विमान में उड़ान के दौरान अब उठा सकेंगे इंटरनेट सेवाओं का बड़ा लाभ

हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए बड़ी अच्छी खबर है. घरेलू विमानों में उड़ान के दौरान यात्री अब इंटरनेट की सुविधा का फायदा उठा सकते हैं. सरकार ने विमान में उड़ान के दौरान वाई-फाई के माध्यम से इंटरनेट सेवाओं के प्रयोग की अनुमति दे दी है.


लैपटॉप, स्मार्टफोन, ई रीडर, स्मार्टवॉच जैसे उपकरणों का कर सकेंगे इस्तेमाल
नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इसके लिए एक अधिसूचना जारी कर विमान अधिनियम, 1937 में परिवर्तन किया है. इसके अनुसार 'पायलट इन कमांड उड़ान के दौरान वाई-फाई के माध्यम से यात्रियों को इंटरनेट के प्रयोग की अनुमति दे सकता है.' यात्री इंटरनेट के जरिए लैपटॉप, स्मार्टफोन, ई रीडर, स्मार्टवॉच या टैबलेट जैसे उपकरणों का प्रयोग कर सकते हैं. यह सेवा उस समय के लिए पायलट द्वारा स्थगित की जा सकती है जब मौसम बेकार हो व विजिबिलिटी बहुत कम हो.

फिलहाल इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का प्रयोग नहीं करने का है नियम
एयरक्राफ्ट कानून 1937 के रूल 29बी के तहत यह नियम बनाया गया है कि कोई भी यात्री या पायलट फ्लाइट में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का प्रयोग नहीं करेगा. अब मंत्रालय द्वारा जारी नोटिफिकेशन के तहत सब रूल 1 के आधार पर पायलट इन कमांड इस सेवा को उपलब्ध करा सकता है. सिर्फ विमानों के लैंड करने या रन वे में जब तक हो तब तक इसकी सेवा नहीं देने की बात नोटिफिकेशन में कही गई है. यह भी शर्त रखी गईहै कि वाई-फाई का प्रयोग करने के दौरान भी यात्री अपने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, जैसे लैपटॉप, टैबलेट, स्मार्टफोन, स्मार्टवाच, ई-रीडर आदि को “फ्लाइट” या “एरोप्लेन” मोड में ही रखेंगे.