बिज़नस

टेस्ला अगले वर्ष से देश में अपनी इलेक्ट्रिक कारों का कर सकती है इम्पोर्ट

अमेरिकी इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) Tesla की जल्द राष्ट्र में एंट्री हो सकती है. केंद्र गवर्नमेंट के साथ कंपनी के एग्रीमेंट के लिए वार्ता आखिरी दौर में है. इसके अनुसार टेस्ला अगले साल से राष्ट्र में अपनी इलेक्ट्रिक कारों का इम्पोर्ट कर सकती है. इसके बाद टेस्ला एक मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाएगी.

Bloomberg की रिपोर्ट के अनुसार,टेस्ला के प्लांट के लिए गुजरात, तमिलनाडु और महाराष्ट्र में संभावनाएं तलाशी जा रही हैं. अगले साल की आरंभ में होने वाले वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में कंपनी की राष्ट्र के बाजार में एंट्री को लेकर स्थिति साफ हो सकती है. हालांकि, टेस्ला ने अपने प्लांट के लिए लोकेशन को तय नहीं किया है. इन तीनों राज्यों में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स और एक्सपोर्ट के लिए इकोसिस्टम उपस्थित है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी आरंभ में दो अरब $ का इनवेस्टमेंट कर सकती है. इसके साथ ही राष्ट्र से कंपोनेंट्स की खरीदारी को भी बढ़ाया जाएगा. कंपनी की इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की कॉस्ट को घटाने के लिए राष्ट्र में बैटरी बनाने की भी योजना है.

पिछले कुछ सालों में EV की बिक्री तेजी से बढ़ी है. पिछले साल टेस्ला ने अपनी इलेक्ट्रिक कारों के लिए इम्पोर्ट टैक्स को घटाने की मांग की थी. हालांकि, केंद्र गवर्नमेंट ने यह साफ किया था कि इस टैक्स को घटाने पर विचार नहीं किया जा रहा है. टेस्ला को गवर्नमेंट ने राष्ट्र में मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने और EV की मैन्युफैक्चरिंग करने के लिए बोला है. हाल ही में Financial Times की एक रिपोर्ट में बोला गया है कि केंद्र गवर्नमेंट इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर इम्पोर्ट टैरिफ को घटाने पर विचार कर रही है. यदि ऐसा होता है तो दूनिया के सबसे अमीर आदमी Elon Musk की इस कंपनी को राष्ट्र में जल्द बिजनेस प्रारम्भ करने का प्रोत्साहन मिल सकता है.

इस रिपोर्ट में एक सरकारी अधिकारी के हवाले से बोला गया है कि टेस्ला ने गवर्नमेंट से आरंभ में इम्पोर्ट टैरिफ में छूट का अनुरोध किया है जिससे कंपनी कम्प्लीटली बिल्ट यूनिट (CBU) कारों के इम्पोर्ट पर 70 फीसदी की कस्टम्स ड्यूटी के बोझ को कुछ घटा सके. कंपनी ने लगभग दो साल पहले बेंगलुरु में अपनी सब्सिडियरी को रजिस्टर्ड कराया था. हालांकि, गवर्नमेंट के इस तरह के किसी निर्णय से टेस्ला के अतिरिक्त ऐसी सभी ऑटोमोबाइल कंपनियों को सहायता मिल सकती है जो राष्ट्र में EV का इम्पोर्ट करती हैं.

Related Articles

Back to top button