बिज़नस

शुगर कंपनियों के शेयरों में आई 15% तक की गिरावट

गवर्नमेंट के एक फरमान ने शुगर कंपनियों को तगड़ा झटका दिया है शुगर कंपनियों के शेयर 15 पर्सेंट तक टूट गए हैं चीनी कंपनियों के शेयरों में यह गिरावट एक सरकारी आदेश के बाद आई है दरअसल, गवर्नमेंट ने 2023-24 सीजन में सभी शुगर कंपनियों को एथेनॉल बनाने के लिए गन्ने का जूस या सिरप इस्तेमाल न करने के लिए बोला है, क्योंकि इस वर्ष शुगर प्रॉडक्शन कम रहने की आशा है हालांकि, गवर्नमेंट ने पहले की तरह ही बी-हेवी मोलैसज से एथेनॉल के प्रॉडक्शन की इजाजत दी हुई है

शुगर कंपनियों के शेयरों में 15% तक की गिरावट
सरकार के आदेश के बाद प्राज इंडस्ट्रीज, बजाज हिंदुस्तान शुगर, श्री रेणुका शुगर्स, उगर शुगर वर्क्स, धामपुर शुगर मिल्स और अवध शुगर एंड एनर्जी के शेयरों में शुक्रवार को 5 से 11 पर्सेंट तक की गिरावट आई है वहीं, द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज, उत्तम शुगर मिल्स, बलरामपुर चीनी मिल्स और त्रिवेणी इंजीनियरिंग के शेयरों में 4 पर्सेंट तक की गिरावट आई है पिछले 2 ट्रेडिंग सेशंस में शुगर कंपनियों के शेयरों में 15 पर्सेंट तक की गिरावट देखने को मिली है पिछले 2 दिन में सेक्टर ने अंडरपरफॉर्म किया है

चीनी के उत्पादन में आ सकती है गिरावट
इस बीच, भारतीय शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) का प्राथमिक अनुमान है कि शुगर ईयर 2024 में चीनी का ग्रॉस प्रॉडक्शन 33.7 मिलियन टन रह सकता है पिछले शुगर ईयर के मुकाबले चीनी के प्रॉडक्शन में 8 पर्सेंट की गिरावट आ सकती है शुगर ईयर 2023 में चीनी का प्रॉडक्शन 36.6 मिलियन टन रहा था वहीं, शुगर ईयर 2023 के आखिर में हिंदुस्तान की शुगर इनवेंटरी घटकर 5.5 मिलियन टन रह गई है, जो कि शुगर ईयर 2019 में 14.6 मिलियन टन थी

 

Related Articles

Back to top button