बिज़नस

Property Market: महंगे मकानों के मामले में दुनिया के तीसरे पायदान पर है मुंबई

Property Market: राष्ट्र की राजधानी दिल्ली और औद्योगिक राजधानी मुंबई में घर खरीदना अब सरल नहीं रह गया है महंगे मकानों के मुद्दे में मुंबई दुनिया के 44 राष्ट्रों में तीसरे और दिल्ली सातवें पायदान पर है रियल एस्टेट कन्सलटेंसी कंपनी नाइट फ्रैंक की रिपोर्ट में बोला गया है कि 2024 के जनवरी से मार्च के बीच घरों की कीमतों में बढ़ोतरी के मुद्दे में दुनिया के टॉप 44 शहरों में मुंबई तीसरे और दिल्ली पांचवें जगह पर है हालांकि, जनवरी-मार्च 2023 में मुंबई छठे और दिल्ली 17वें पायदान पर थीं

महंगे मकानों में मनीला टॉप पर

नाइट फ्रैंक की रिपोर्ट में बोला गया है कि महंगे मकानों के मुद्दे में मनीला दुनिया के 44 राष्ट्रों में पहले पायदान पर है इस राष्ट्र में घरों की कीमतों में सालाना 26.2 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज की गई, जबकि जापान की राजधानी टोक्यो दूसरे जगह पर है टोक्यो में घरों की कीमतों में सालाना 12.5 प्रतिशत की सालाना बढ़ोतरी दर्ज की गई है जहां तक हिंदुस्तान की औद्योगिक राजधानी मुंबई की बात है, तो नाइट फ्रैंक की प्राइम ग्लोबल सिटीज इंडेक्स क्यू1, 2024 रिपोर्ट में बोला गया है कि मुंबई में मार्च तिमाही में प्रमुख रेजिडेंशियल सेगमेंट की कीमतों में 11.5 प्रतिशत की सालाना बढ़ोतरी हुई है

बेंगलुरु में मकानों की कीमतों में आई गिरावट

नाइट फ्रैंक की रिपोर्ट में बोला गया है कि 2024 की पहली तिमाही में बेंगलुरु की रैंकिंग में गिरावट आई है और इसी के साथ यह 17वें जगह पर पहुंच गया है वर्ष 2023 की पहली तिमाही में बेंगलुरु 16वें पायदान पर था जनवरी-मार्च में बेंगलुरु में घरों की कीमतों में 4.8 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई

कैसे किया जाता है मकानों की कीमतों का मूल्यांकन

नाइट फ्रैंक ने बोला कि प्राइम ग्लोबल सिटीज इंडेक्स (पीजीसीआई) एक मूल्यांकन-आधारित सूचकांक है, जो अपने ग्लोबल रिसर्च नेटवर्क से आंकड़ों का इस्तेमाल करके पूरे विश्व के 44 शहरों में प्रमुख रेजिडेंशियल कीमतों की चाल पर नजर रखता है नाइट फ्रैंक के चेयरमैन और व्यवस्था निदेशक शिशिर बैजल ने बोला कि रेजिडेंशियल प्रॉपर्टीज के लिए मजबूत मांग का रुझान अंतरराष्ट्रीय घटना रही है उन्होंने बोला कि इन क्षेत्रों में अपने समकक्षों की तरह, प्राइम ग्लोबल सिटीज इंडेक्स पर मुंबई और नयी दिल्ली की बेहतर रैंकिंग बिक्री वृद्धि मात्रा में मजबूती से रेखांकित की गई थी हमें आशा है कि अगली कुछ तिमाहियों में बिक्री की गति स्थिर रहेगी, क्योंकि आर्थिक स्थितियां मोटे तौर पर स्थिर रह सकती हैं

Related Articles

Back to top button