राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्याज गया इतने रुपए किलो

 पैदा करने का आरोप लगाया. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्याज 100 रुपए किलो हो गया है. ( ) के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए सिसोदिया ने बोला कि केन्द्र सरकार दिल्ली में प्याज मुहैया करवाने का पांच सितंबर को जो आश्वासन दिया था उसे पूरा करने में विफल रही है. उन्होंने बोला कि या तो केन्द्र की लापरवाही से प्याज का स्टॉक ( Onion Stock ) में बेकार हो जाने के कारण कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हुई है या जमाखोरों को फायदा पहुंचाने की बुरी मंशा रही है.

सिसोदिया ने बोला कि प्याज की बढ़ती कीमतों से लोग परेशान हैं. उन्होंने कहा, "यह सारे देश का मुद्दा है, लेकिन दिल्ली में केन्द्र सरकार जानबूझकर प्याज की किल्लत पैदा कर रही है. दिल्ली सरकार की ओर से बार-बार मांग किए जाने के बावजूद प्याज केन्द्र ने प्याज देना रोक दिया है. केन्द्र सरकार ने पांच सितंबर को लेटर लिखकर दिल्ली सरकार को बोला था कि उसके पास 56,000 टन प्याज है व वह अपनी आवश्यकतानुसार प्याज ले सकती है.

 

सिसोदिया ने बोला कि शीघ्र ही दिल्ली सरकार ने सूचित किया कि वह 10 ट्रक प्याज (2.5 लाख किलो) प्रतिदिन लेकर सस्ते दाम पर बेचेगी ताकि जमाखोरी पर लगाम लगे. उन्होंने 9 दिसंबर तक प्रतिदिन आधार पर प्याज का प्रावधान करने की मांग भी की. दिल्ली के डिप्टी मुख्यमंत्री ने बताया कि हालांकि केन्द्र सरकार ने 10 ट्रक के बजाए सिर्फ 3-4 ट्रक प्याज मुहैया करवाया.

 

उन्होंने बोला कि हमने टीम बनाई है व प्रत्येक विधानसभा सीट पर सस्ती दर पर प्याज का बिक्री केन्द्र खोला है. केन्द्र सरकार ने लेटर में जो दावा किया था वह प्याज का स्टॉक कहां है? उसने प्याज के बड़े स्टॉक को क्यों सडऩे दिया? उन्होंने बताया कि 24 नवंबर के बाद एक ट्रक भी प्याज नहीं मुहैया करवाया गया.