Jio के रिचार्ज प्लान भी हुए महंगे, 1 दिसंबर से लागू होंगी नई कीमतें

Jio के रिचार्ज प्लान भी हुए महंगे, 1 दिसंबर से लागू होंगी नई कीमतें

रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने भी अपने टैरिफ प्लान की कीमत में इजाफा कर दिया है। जियो के नए टैरिफ प्लान 1 दिसंबर 2021 से देशभर में लागू हो जाएंगे। इसमें डेटा प्लान, अनलिमिटेड प्लान के साथ ही जियोफोन प्लान शामिल हैं। बता दें कि इससे पहले Airtel और Vi की तरफ से टैरिफ प्लान की कीमतों में इजाफा किया जा चुका है। Airtel और Vi की तर्ज ही पर रिलायंस जियो ने भी अपने प्लान की कीमतों में करीब 20 से 25 फीसदी की बढ़ोतरी का ऐलान किया है। 

480 रुपये महंगे हुए Jio के रिचार्ज प्लान

जियोफोन के 75 रुपये वाले प्लान के लिए ग्राहकों को 91 रुपये देने होंगे। इस प्लान में 3GB डेटा के साथ ही अनलिमिटेड वॉइस कॉल और 50 एसएमएस की सुविधा दी जाती है। यह प्लान 28 दिनों की वैधता के साथ आता है।
Jio के 129 रुपये वाले अनलिमिटेड प्लान वाला टैरिफ प्लान अब 155 रुपये में आएगा। इस प्लान में मंथली डेटा के साथ अनलिमिटेड कॉलिंग के सा 300 एसएमएस दिए जा रहे हैं। यह प्लान 28 दिनों की वैधता के साथ आता है।
जियो की तरफ से अपने सालाना रिजार्ज प्लान में सबसे ज्यादा 480 रुपये का इजाफा किया गया है। ऐसे में जियो के 365 दिनों की वैधता वाला 2399 रुपये वाले प्लान के लिए ग्राहकों को 2879 रुपये खर्च करने होंगे। इस प्लान में डेली 2GB डेटा के साथ अनलिमिटेड कॉलिंग के साथ ही डेली 100 एसएमएस दिए जाते हैं।
ग्राहकों को डेली 1जीबी डेटा के लिए न्यूनतम 149 रुपये की जगह 179 रुपये खर्च करने पड़ेंगे। यह प्लान 24 दिनों की वैधता के साथ आएगा। इस प्लान में डेली 1 जीबी डेटा के साथ अनलिमिटेड कॉलिंग और डेली 100 एसएमएस की सुविधा मिलेगी। 
जियो ग्राहकों को डेली 2 जीबी डेटा के लिए 249 रुपये की बजाय 299 रुपये खर्च करने पड़ेंगे। इस प्लान में डेली 2GB डेटा के साथ ही अनलिमिटेड कॉलिंग के साथ ही डेली 200 एसएमएस ऑफर किए जाएंगे।

डेटा एड-ऑन प्लान 

रिलायंस जियो के डाटा एड-ऑन प्लान्स की कीमतों में भी बढ़ोतरी का ऐलान किया गया है। Jio का 51 रुपये वाला डेटा एड-ऑन प्लान 61 रुपये में आएगा। इस प्लान में 6जीबी डेटा ऑफर किया जाता है। वही 101 रुपये वाला डेटा एड-ऑन प्लान 121 रुपये में आएगा। इस प्लान में 12 जीबी डेटा दिया जा रहा है। जबकि Jio के 50 जीबी वाले डेटा प्लान 301 रुपये का हो गया है, जो पहले तक 251 रुपये में आता था।


बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

नयी दिल्ली। इंडियन बायोगैस एसोसिशन (आईबीए) ने सरकार से पांच साल के लिए 1.4 लाख करोड़ रुपये के आरंभिक प्रावधान के साथ ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ स्थापित करने का अनुरोध किया है। संगठन ने कहा है कि इससे पांच करोड़ किसानों को लाभ पहुंचेगा तथा कच्चे तेल के आयात पर होने वाला खर्च भी कम होगा। आईबीए ने एक बयान में कहा कि किफायती परिवहन के लिए टिकाऊ विकल्प (एसएटीएटी) योजना के तहत पांच हजार संयंत्रों के लक्ष्य को पूरा करने में इस तरह के कोष की स्थापना स्वागत योग्य कदम होगा।

संगठन के अध्यक्ष ए आर शुक्ला ने कहा, ‘‘सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के बारे में लगातार बात कर रही है। इस योजना से पांच करोड़ किसानों को फायदा पहुंचेगा। यह कोष बनने पर भारत जीवाश्म ईंधन का आयात कम कर सकेगा और किसानों को भी जैविक उर्वरक मिल सकेगा।’’ बायोगैस एसोसिशन ने शहरों में गैस वितरण नेटवर्क और प्राकृतिक गैस पाइपलाइन में बायोमीथेन (सीबीजी) के मिश्रण के लिए मात्रा को परिभाषित करने का भी सुझाव दिया है।

उसने कहा कि पहले पांच साल के लिए 5 प्रतिशत का एक अस्थायी मिश्रण कोटा तय किया जा सकता है। उसके बाद 10 साल में इसे धीरे-धीरे बढ़ाकर 10 प्रतिशत किया जा सकता है। आईबीए ने कहा कि जीएसटी परिषद ने बायोगैस संयंत्र से संबंधित उपकरण और उनके पुर्जों पर जीएसटी की दर पांच फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने की घोषणा की जिससे बायोगैस के उत्पादकों के लिए स्थिति चुनौतीपूर्ण हो जाएगी।