बिज़नस

आईएमएफ ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद को 0.2 प्रतिशत बढ़ाकर किया 6.3 प्रतिशत

वैश्विक अर्थव्यवस्था में अस्थिरता पर चिंताओं के बीच तरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा हिंदुस्तान में मजबूत आर्थिक विकास की भविष्यवाणी का हवाला देते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बोला कि राष्ट्र एक अंतरराष्ट्रीय उज्ज्वल जगह और विकास और नवाचार का पावरहाउस है आईएमएफ ने हिंदुस्तान के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान को हल्की रूप से 0.2 फीसदी बढ़ाकर 6.3 फीसदी कर दिया, जबकि वित्तीय एजेंसी ने अंतरराष्ट्रीय विकास अनुमान को घटाकर तीन फीसदी कर दिया एक्स पर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने लिखा, “हमारे लोगों की ताकत और कौशल से संचालित, हिंदुस्तान एक अंतरराष्ट्रीय उज्ज्वल जगह है, विकास और नवाचार का एक पावरहाउस है हम समृद्ध हिंदुस्तान की दिशा में अपनी यात्रा को मजबूत करना जारी रखेंगे, हमारे सुधार पथ को और बढ़ावा देंगे

आईएमएफ के ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक’ में बोला गया है, “भारत में विकास 2023 और 2024 दोनों में 6.3 फीसदी मजबूत रहने का अनुमान है, 2023 के लिए 0.2 फीसदी अंक की बढ़ोतरी के साथ, जो अप्रैल-जून के दौरान आशा से अधिक मजबूत खपत को दर्शाता है”हालाँकि, हिंदुस्तान के लिए आईएमएफ का अनुमान चालू वित्त साल के लिए आरबीआई के नवीनतम अनुमान 6.5 फीसदी से कम है आईएमएफ के ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक’ ने चीन के विकास पूर्वानुमान को 2023 के लिए 0.2 फीसदी अंक और 2024 के लिए 0.3 फीसदी अंक घटाकर क्रमशः 5 फीसदी और 4.2 फीसदी कर दिया इसमें बोला गया है कि मौद्रिक नीति अनुमान मध्यम अवधि में आरबीआई के मुद्रास्फीति लक्ष्य को प्राप्त करने के अनुरूप हैं

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने मंगलवार को चेताया कि ऊंची ब्याज दरों, यूक्रेन में चल रहे युद्ध और बढ़ते भूराजनीतिक तनाव के कारण विश्व अर्थव्यवस्था अपनी गति खो रही है आईएमएफ ने अनुमान जताया है कि 2024 में अंतरराष्ट्रीय आर्थिक वृद्धि धीमी होकर 2.9 फीसदी रह जाएगी, जिसके इस वर्ष तीन फीसदी रहने की आशा है अगले साल के लिए पूर्वानुमान जुलाई में अनुमानित तीन फीसदी से कम है यह सुस्ती ऐसे समय में आई है, जब दुनिया विध्वंसक Covid-19 महामारी के प्रकोप से पूरी तरह उबर नहीं पाई है

Related Articles

Back to top button