जाने इस तरह से किया जा रहा है वॉट्सऐप यूज़र्स का एकाउंट स्कैम

जाने इस तरह से किया जा रहा है वॉट्सऐप यूज़र्स का एकाउंट स्कैम

यूजर्स की सुरक्षा व व्यक्तिगत जानकारियों में सेंध लगाने के लिए नए-नए ढंग अपनते हैं. हाल ही में वॉट्सऐप स्कैम का नया मुद्दा समाने आया है, जिसमें वॉट्सऐप टेक्नोलॉजी टीम के आधिकारिक कम्युनिकेशन सोर्स के रूप में दिखावा करने वाला एक एकाउंट , यूज़र्स को उनके वैरिफिकेशन कोड को साझा करने के लिए कह रहा है. 

यह नकली एकाउंट यूज़र्स को एकाउंट को हकीकत दिखाने के लिए वॉट्सऐप लोगो को प्रोफाइल पिक्चर के रूप में प्रयोग करता है. जबकी वॉट्सऐप टीमें यूज़र्स के साथ किसी भी तरह का संवाद करने के लिए मैसेजिंग ऐप का प्रयोग करती ही नहीं हैं. इसके बजाय टीम द्वारा सोशल मीडिया चैनलों का प्रयोग किया जाता है, जिसमें ट्विटर या कंपनी के आधिकारिक ब्लॉग शामिल हैं, जिसपर सार्वजनिक घोषणाएं पोस्ट की जाती हैं.

WABetaInfo ने उजागर किया लेटेस्ट स्कैम

  • वॉट्सऐप के विशेषता को ट्रैक करने वाले ब्लॉग WABetaInfo ने इस लेटेस्ट स्कैम को उजागर करने के लिए एक ट्वीट पोस्ट किया, जिसके बाद एक ट्विटर यूज़र डारियो नवारो ने यूज़र्स को मिले इस स्कैम मैसेज के बारे में पूछताछ की. नवारो द्वारा साझा किए गए स्क्रीनशॉट के अनुसार, स्कैमर स्पेनिश में एक मैसेज भेजता है व यूज़र्स को उनके फोन पर एकाउंट वैरिफिकेशन के लिए प्रयोग होने वाला छह अंकों के वैरिफिकेशन कोड मांगता है, जो यूज़र्स को एसएमएस के जरिए मिलता है.
  • बता दें कि नए डिवाइस पर वॉट्सऐप एकाउंट को एक्टिवेट करने के लिए वैरिफिकेशन कोड का प्रयोग किया जाता है, जो यूज़र्स को उनके फोन पर SMS के जरिए मिलता है. इस सिक्योरिटी कोड का उद्देश्य मैसेजिंग ऐप पर यूज़र्स के एकाउंट सुरक्षित रखना है.

वॉट्सऐप कभी ऐप के जरिए सम्पर्क नहीं करती

जैसा कि हमने आपको बताया कि यह स्कैमर अपने एकाउंट में वॉट्सऐप लोगो को प्रोफाइल पिक्चर के रूप में लगाते हैं, जिससे अन्य यूज़र्स को यह एकाउंट ऑफिशियल लगे व वे स्कैम करने वाले के झांसे में आ जाए. हालांकि जैसा कि WABetaInfo द्वारा बताया गया है कि वॉट्सऐप अपने यूज़र्स को ऐप के जरिए सम्पर्क नहीं करती है व यदि किसी हालात में कंपनी यूज़र से सम्पर्क करती भी है, तो आधिकारिक एकाउंट के नाम के साथ एक हरे रंग का सत्यापित मार्क भी शामिल होगा, जो उसके आधिकारिक एकाउंट होने का इशारा है. यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी यूज़र्स से वैरिफिकेशन कोड सहित उनके किसी भी डेटा से संबंधित जानकारी नहीं मांगती है. इसलिए यह साफ है कि स्क्रीनशॉट में देखा गया एकाउंट व मैसेज एक घोटाले के अतिरिक्त कुछ नहीं है. आपको ऐसे किसी भी संदेश पर ध्यान नहीं देना चाहिए.