बिज़नस

GAIL और IGL ने रिलायंस के साथ की ये बड़ी डील

Gail-IGL Deal With Reliance: सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कंपनी गेल (इंडिया) लिमिटेड (GAIL) और राष्ट्र की सबसे बड़ी सिटी गैस ऑपरेटर इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (IGL) ने रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड द्वारा आयोजित ई-नीलामी में अधिकांश कोयला सीम गैस को हासिल कर लिया है समाचार एजेंसी के अनुसार, रिलायंस ने इस महीने की आरंभ में मध्य प्रदेश में कोल-बेड मीथेन (सीबीएम) ब्लॉक एसपी (पश्चिम)-सीबीएम-2001/1 से उत्पादित नौ लाख मानक क्यूबिक मीटर गैस प्रति दिन की बिक्री के लिए एक ई-नीलामी आयोजित की थी

एक अप्रैल से मिलेगा गैस

कंपनी द्वारा के अनुसार, उपयोगकर्ताओं से बोली पेश करने को बोला गया जिसमें वे दिनांकित ब्रेंट कच्चे ऑयल की मूल्य के 12.67 फीसदी से अधिक का भुगतान करने को तैयार हों मुद्दे की जानकारी रखने वाले दो सूत्रों ने कहा कि नीलामी में गेल और आईजीएल ने अधिकतम 1.1 करोड़ अमेरिकी $ प्रति ब्रिटिश थर्मल यूनिट मूल्य की पेशकश की उन्होंने कहा कि गेल ने नीलामी में 6.3 लाख एमएमएससीएमडी गैस, जबकि आईजीएल ने 1.4 लाख एमएमएससीएमडी गैस हासिल की यह ई-नीलामी दो फरवरी को आयोजित की गई थी अनुबंध के अनुसार गैस आपूर्ति एक अप्रैल से प्रारम्भ होकर एक से दो साल के लिए की जाएगी

क्या है कोल-बेड मीथेन गैस

कोल-बेड मीथेन एक जैविक गैस है जो कोयले के खनन के दौरान उत्पन्न होता है यह गैस आमतौर पर कोयले की खानों के निकट स्थित भूमिगत स्थानों में पाया जाता है यह गैस मुख्यत: मेथेन, कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन और वायुमंडलीय थैलियम जैसे अन्य गैसों का मिश्रण होता है कोल-बेड मीथेन का प्रमुख साधन कोयले के खनन के दौरान कोयले के खण्डों को विनिर्मित किया जाता है यह गैस कोयले के खनन के समय सबज़मर्ग से निकाला जाता है और अक्सीजन से मुक्त होकर सीधे निकल जाता है कोल-बेड मीथेन का अधिकतर इस्तेमाल ऊर्जा उत्पादन के लिए किया जाता है, जिसमें शामिल हैं विद्युत उत्पादन और गैस कंप्रेशन कोल-बेड मीथेन का उत्पादन कोयले के खनन के दौरान सामान्य होता है, लेकिन इसके उत्पादन की प्रक्रिया उपयुक्त प्रौद्योगिकी का प्रयोग करके अधिक अत्यंत निर्मल गैस उत्पन्न कर सकती है कोल-बेड मीथेन का उत्पादन कार्बन आधारित ऊर्जा प्रणालियों के उत्पादन के दौरान गैर-योग्य आवश्यकताओं को निर्मित कर सकता है, जैसे कि अधिक निर्मल और सुरक्षित गैस की आपूर्ति

Related Articles

Back to top button