कोरोनावायरस के कारण एविएशन इंडस्ट्री मे आई यह बड़ी गिरावट, जाने खबर

कोरोनावायरस के कारण एविएशन इंडस्ट्री मे आई यह बड़ी गिरावट, जाने खबर

दुनियाभर के शेयर मार्केट्स में तांडव मचाने के बाद अब कोरोना वायरस का दूसरे सेक्टर्स पर भी दिखने लगा है, व इसमें सबसे पहला नाम आता है एविएशन इंडस्ट्री का. अमेरिका व हिंदुस्तान समेत कई राष्ट्रों में लोगों की आवा-जाही पर रोक लगा दी गई है । 

जिसकी वजह से फॉरेन ट्रिप्स की टिकट्स बड़ी संख्या में कैंसल हो रही हैं । हालांकि इंडस्ट्री इंसाइडर्स को इस बात का अंदाजा पहले से ही था लेकिन विदेश यात्राओं के अतिरिक्त कोरोनावायरस के भय से लोग घर में रहना ज्यादा सुरक्षित मान रहे हैं व यही वजह है कि इंटरनेशनल फ्लाइट्स के बाद अब लोग डोमेस्टिक फ्लाइट्स को भी बड़ी संख्या में कैंसिल करा रहे हैं.

हर सप्ताह कैंसिल हो रही है 1.5 लाख बुकिंग्स-

इंडस्ट्री में कार्य करने वालों का बोलना है कि कोरोना की वजह से टिकट कैंसलेशन की दर 20 प्रतिशत तक बढ़ गई है । जिसका मतलब है कि हर हफ्ते लगभग 150,000 बुकिंग्स को कैंसल किया जा रहा है. Investment information and credit rating agency ( ICRA ) का बोलना है कि आम आदमी से ज्यादा ग्लोबल व कार्पोरेट इवेंट्स कैंसल होने का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है.

इंडिगो, जो कि हर हफ्ते लगभग 1.5 मिलियन से अधिक टिकट बेचता है, के एक ऑफिसर के मुताबिक फ्रेश बुकिंग्स में 20 प्रतिशत तक की गिरावट आ चुकी है । उन्होने माना कि दशा बेहद गम्भीर हैं जिसकी वजह से कैंसलेशन बहुत ज्यादा बड़ी तादाद में हो रहे हैं. स्पाइसजेट के भी कमोबेस ऐसे ही दशा हैं .

दोनो ही कंपनियां कस्टमर्स को अट्रैक्ट करने के लिए 987 रुपए तक के टिकट दे रही है लेकिन इतनी सस्ती मूल्य पर भी लोग उन्हें खरीदने के लिए तैयार नहीं है.

कैंसलेशन चार्ज हो रहा है माफ- दशा को देखते हुए Vistara जैसी कंपनियों ने ककैंसलेशन चार्ज को माफ कर दिया है लेकिन ये फैसिलिटी 1 मार्च या उसके बाद की फ्लाइट्स पर दी जा रही है वहीं इंटरनेशनल फ्लाइट्स के लिए भी ऐसा ही नियम लागू हो रहा है.