बैंक ऑफ अमेरिका ने अर्थव्यवस्था को लेकर दी यह बड़ी जानकारी

बैंक ऑफ अमेरिका ने अर्थव्यवस्था को लेकर दी यह बड़ी जानकारी

अगर यह मानकर चलें कि अगले महीने से अर्थव्यवस्था पूरी तरह खुल जाएगी, तो कोरोना वायरस महामारी के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था में वित्त साल 2021 में तीन फीसद की मंदी देखने को मिलेगी.

 यह बात गुरुवार को बैंक ऑफ अमेरिका सिक्युरिटीज द्वारा कही गई है. साथ ही बैंक ऑफ अमेरिका ने बोला कि आरबीआइ द्वारा 95 अरब डॉलर की सरकारी बॉन्ड्स की खरीदी कर वित्तीय घाटे की भरपाई की जा सकती है. साथ ही 127 अरब डॉलर सरकारी बैंको के री-कैपिटलाइजेशन पर खर्च किये जा सकते है.

अर्थशास्त्रियों द्वारा लगातार वित्त साल 2021 के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था में ग्रोथ के अनुमान को निगेटिव बताया जा रहा है. अर्थशास्त्री कोरोना वायरस प्रकोप के चलते यह अनुमान लगा रहे हैं. भारतीय रिजर्व बैंक सहित सभी बड़ी संस्थाओं को यह लगता है कि हिंदुस्तान की जीडीपी ग्रोथ इस वर्ष निगेटिव रहेगी. कुछ अनुमान तो सात फीसद तक नेगेटिव ग्रोथ भी बता रहे हैं.

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्युरिटीज का तीन फीसद मंदी का अनुमान इस आधार पर है कि अगस्त के मध्य से अर्थव्यवस्था पूरी तरह खुल जाएगी. अगर कोरोना संकट लंबा चलता है तो मंदी पांच फीसद तक भी जा सकती है.

सिक्युरिटीज के भारतीय अर्थशास्त्री इंद्रनील सेनगुप्ता का अनुमान अन्य अर्थशास्त्रियों की तुलना में अधिक पॉजिटिव है. उनके अनुसार, अप्रैल व मई में जीडीपी में तीन फीसद की मंदी आई है, लेकिन अब लॉकडाउन में ढील के चलते हर महीने एक फीसद की ही मंदी आ रही है. गुप्ता ने बोला कि भारतीय अर्थव्यवस्था में सात फीसद से भी अधिक की दर से ग्रोथ करने की क्षमता है.