चीन के इस अरबपति कारोबारी को बेचने पड़ रहे हैं कार बंगले और यॉट

चीन के इस अरबपति कारोबारी को  बेचने पड़ रहे हैं कार बंगले और यॉट

भयंकर आर्थिक हालात से गुजर रहे चीन में अरब​पति कारोबारियों के भी दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं. अलीबाबा के संचालक जैक मा के बुरे दिन तो चल ही रहे थे, अब उनकी कतार में एक और अरबपति व्यवसायी जुड़ गए हैं. अरबपति से कंगाल हुए व्यवसायी का नाम हुई का यान (Hui Ka Yan) है. यान बीते वर्ष डिफॉल्ट हुई रियल एस्टेट कंपनी एवरग्रांड Evergrande के चेयरमैन हैं. चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी कोविड-19 के बाद से ही मुश्किलें झेल रही है. चीन में एवरग्रांड के डूबने से वहां की अर्थव्यवस्था की चूलें हिल गई थीं. 

अरबपति कारोबारियों का लेखाजोखा रखने वाले ब्लूमबर्ग बिलेनायर इंडेक्स से पता चला है कि एवरग्रांड के चेयरमेन हुई का यान की संपत्ति में 93 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. इंडेक्स के अनुसार, हुइ का यान की संपत्ति 5 वर्ष में 39 अरब $ यानी 3.12 लाख करोड़ रुपये घट गई. 2017 में हुइ का यान की नेटवर्थ लगभग 42 अरब $ थी, जो अब महज 3 अरब $ रह गई है. एवरग्रांड अभी भी 300 अरब $ के ऋण में है. एक समय एवरग्रांड चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी थी,अब ये सबसे अधिक ऋण में डूबी कंपनी है. 

मकान से लेकर कारों की नीलामी 

हुई का यान एक समय में चीन के सबसे अमीर शख्सों में से एक थे, उनके पास महंगी कारें, यॉट, जहाज और आलीशान बंगले थे. लेकिन मंदारिन में जू जियायिन Xu Jiayin के नाम से मशहूर यान इस समय अपनी निजी संपत्तियां बेचने केा भी विवश है. कंपनी पर चढ़े 300 अरब का ऋण उतारने के लिए उन्हें बंगले और प्राइवेट जेट्स तक बेचने पड़े हैं. लेकिन अभी भी उधारी जस की तस है. 

2021 में डिफॉल्ट हुई थी कंपनी 

2021 का वर्ष चीन में झंझावात वाला रहा. इसी वर्ष में चीन में रियल एस्टेट कारोबार के ढहने की आरंभ हुई. निवेशकों का पैसा चुकाने में असफल रहने के बाद दिसंबर 2021 में एवरग्रांड ने $ बॉन्ड्स को डिफॉल्ट कर दिया. एवरग्रांड में 2,00,000 कर्मचारी काम करते हैं. 2020 में कंपनी की सेल्स 100 अरब $ से अधिक रही थी. 280 शहरों में उसके 1,300 से अधिक प्रोजेक्ट्स हैं.

जैक मा पर भी भारी पड़ा 2021

2020 में कोविड-19 की आरंभ के साथ ही चीन के कद्दावर व्यवसायी जैक मा का भी बुरा समय प्रारम्भ हो गया था. गवर्नमेंट विरोधी बयान देने के बाद अचानक जैक मा वहां की कम्युनिस्ट पार्टी के निशाने पर आ गए. 2020 में एंट ग्रुप दुनिया का सबसे बड़ा आईपीओ लेकर आने वाला था. लेकिन गवर्नमेंट ने इस पर रोक लगा दी. इसके बाद करीब 2 वर्ष जैक मा अंडरग्राउंड रहे. हाल ही में उन्हें एंट ग्रुप से भी बाहर कर दिया गया है.