बिज़नस

भारतपे के को-फाउंडर अशनीर ग्रोवर ने फिनटेक सेक्टर में दोबारा की एंट्री

भारतपे के को-फाउंडर और पूर्व मैनेजिंग डॉयरेक्टर अशनीर ग्रोवर ने मेडिकल लोन ऐप ‘जीरोपे’ के साथ फिनटेक सेक्टर दूसरी बार एंट्री की है. गूगल प्लेस्टोर लिस्टिंग के अनुसार, ‘जीरोपे’ को थर्ड यूनिकॉर्न प्राइवेट लिमिटेड ने डेवलप किया है, जो 3, 6, 9 और 12 महीने के ड्यूरेशन का लोन प्रोवाइड करता है.

जीरोपे ने लोन देने के लिए दिल्ली बेस्ड नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) मुकुट फिनवेस्ट के साथ पार्टरशिप की है, जो 5 लाख रुपए तक का इंस्टेंट प्री-अप्रूव मेडिकल लोन प्रोवाइड करता है. हालांकि, यह सर्विस खास तौर पर पार्टनरशिप वाले हॉस्पिटल्स में मिलती है.

जनवरी 2023 में अशनीर ग्रोवर ने लॉन्च किया था यूनिकॉर्न लॉन्च
भारतपे से निकलने के बाद अशनीर ग्रोवर ने अपनी पत्नी माधुरी जैन ग्रोवर और चंडीगढ़ बेस्ड एंटरप्रेन्योर असीम घावरी के साथ मिलकर जनवरी 2023 में थर्ड यूनिकॉर्न लॉन्च किया था. थर्ड यूनिकॉर्न ने क्रिकपे के साथ आरंभ की, जिसका मुकाबला ड्रीम11, गेम्स24×7 और माई 11 सर्किल जैसे ऐप्स से होता है.

साल 2022 से विवादों में हैं को-फाउंडर अशनीर ग्रोवर
भारत पे के को-फाउंडर अशनीर ग्रोवर वर्ष 2022 से विवादों में हैं. इसके पीछे की मुख्य वजह अशनीर का वायरल हुआ एक ऑडियो था. इसमें वे कोटक महिंद्रा बैंक के एक कर्मचारी से अपमानजनक भाषा बोलते सुनाई दे रहे थे. इसके अतिरिक्त कंपनी के नियमों के विरुद्ध बिहेवियर होने का भी उन पर इल्जाम लगा था.

अशनीर और उनकी पत्नी के विरुद्ध कम्पलेन मिलने पर कंपनी ने जांच बिठाने का निर्णय किया. इस जांच में उनकी पत्नी माधुरी जैन ग्रोवर को पैसों के हेरफेर में शामिल पाया गया. उनपर इल्जाम लगे थे कि उन्होंने पर्सनल ब्यूटी ट्रीटमेंट, इलेक्ट्रॉनिक प्रॉडक्ट्स खरीदने और अमेरिका और दुबई की फैमिली वेकेशन के लिए कंपनी के पैसों का इस्तेमाल किया था.

निजी स्टाफ को पेमेंट भी कंपनी एकाउंट से किया और परिचित लोगों से फर्जी रसीदें बनवाकर पेश कीं. इसके बाद उन्हें कंपनी से बर्खास्त कर दिया गया था. फिर अपनी ही कंपनी के फैसलों के विरुद्ध ग्रोवर ने सिंगापुर इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन सेंटर (SIC) में अपील की थी. यहां भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद मार्च 2022 में अशनीर को हिंदुस्तान पे कंपनी को छोड़ना पड़ा था.

फिनटेक कंपनी क्या होती है?
फिनटेक (FinTech), ‘फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी’ का शॉर्ट नाम है. पैसों के औनलाइन लेनदेन में इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है. इसके जरिए पैसों का लेन-देन, डिजिटल कर्ज, बैंक के काम, क्रिप्टोकरेंसी आदि से जुड़े काम को ऑनलॉइन किसी ऐप के जरिए किया जाता है.

 

Related Articles

Back to top button