बिहार

बिहार का यह लाल और पूर्व आईपीएस विनय कुमार सिंह बिहार में चला रहे महापरिवर्तन आंदोलन

गया बिहार में समय-समय पर आपको कई समाज सुधारक मिल जायेंगे जो कई बिंदुओं पर ग्रास रूट के लोगों को सतर्क करते हैं अब बिहार का यह लाल और पूर्व आईपीएस विनय कुमार सिंह बिहार में महापरिवर्तन आंदोलन चला रहे हैं इस आंदोलन के अनुसार वह बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं हर गांव में घूम कर वहां के लोगों को पांच विषयों को लेकर सतर्क करने का काम कर रहे हैं विनय कुमार सिंह तेलंगना में साढ़े 5 वर्ष तक डीजीपी कारावास और सुधार के पद पर अपनी सेवा दी है इसके अतिरिक्त वह बिहार में एसटीएफ के गठन के बाद एसटीएफ के डीआईजी का पदभार भी संभाल चुके हैं

विनय कुमार सिंह 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं और वर्ष 2020 में उन्होंने रिटायरमेंट से 1 वर्ष पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले लिया इसके बाद से वो बिहार में सामाजिक काम में लग गए हैं महापरिवर्तन आंदोलन के जरिए लोगों को जोड़ने का काम कर रहें हैं उनका मानना है कि राजनीति और राजनेता से बिहार का भला नहीं हो सकता है इसलिए वह अपने महापरिवर्तन आंदोलन के जरिए बिहार के 10 जिलों में मोतिहारी, छपरा, कैमूर, रोहतास, बक्सर, आरा, औरंगाबाद, गया, जहानाबाद और अरवल में महा बदलाव आंदोलन के पांच प्रमुख बिंदु है जिसको लोगों को समझा रहे हैं

कोर्ट-कचहरी के चक्कर में न पड़ें
उन्होंने कहा गांव का झगड़ा गांव में ही हल हो और इसके लिए 20 लोगों की गांव में एक समिति बनाई जाए ऐसा इसलिए क्योंकि पुलिस और कोर्ट में इतने मुकदमा पेंडिंग है कि यदि उनको इस रफ्तार से हल किया जाए, तो सभी मुकदमा को हल होने में 50 वर्ष लगेंगे दूसरा बिंदु शिक्षा का व्यापक प्रचार-प्रसार हो इसके लिए हम लोगों को सतर्क कर रहे हैं गांव के वरिष्ठ लोगों का यह कर्तव्य बनता है कि गांव का कोई भी नौजवान अशिक्षित ना रहे, शिक्षा से दूर ना रहे और गांव के सभी लड़कों को शिक्षा मिले, क्योंकि बिहार में कल कारखाने नहीं है ऐसे में यदि शिक्षा बेहतर नहीं मिलेगी तो बच्चों का भविष्य आगे बर्बाद होगा

भ्रष्टाचार को रोके
विनय कुमार सिंह ने बोला कि तीसरा प्रमुख बिंदु है स्वच्छता का, जिसमें स्वास्थ्य की प्रबंध भी शामिल हैं वह लोगों से आग्रह कर रहे हैं कि अपने गांव को स्वच्छ और साफ रखने का कोशिश करें और गांव एक रिजॉर्ट जैसा लगे, इसकी तैयारी करें इससे हमारा जीवन और स्वास्थ्य दोनों अच्छा होगा चौथा प्रमुख बिंदु, करप्शन को रोका जाए और नहीं रुके तो कम से कम जितना संभव हो इसे कम किया जाए इसके लिए गांव की समिति पुलिस स्टेशन में सरकारी कार्यालयों में, अस्पतालों में हो रहे करप्शन के विरुद्ध एकजुट होकर रोकने की प्रयास करें

उम्मीदवार देखकर करें वोट
पांचवा और आखिरी बिंदु है कि वह लोगों से अपील कर रहे हैं कि जाति और धर्म से ऊपर उठकर चुनाव में उम्मीदवारों का चयन करें उम्मीदवार साफ-सुथरा और इमानदार छवि का है तो वह कोई भी पार्टी से है उसे अपना समर्थन करें, उसे वोट करें दागी क्रिमिनल छवि का कोई उम्मीदवार है तो वह किसी सियासी दल से हो उसका विरोध करें विनय कुमार सिंह ने बोला कि इन पांचों बिंदु को लागू करने के लिए गांव के लोगों का एकजुट होना महत्वपूर्ण है उन्हें इस बात की काफी खुशी होती है कि जहां भी वह जा रहे हैं लोग उन्हें पूरी गंभीरता से सुन रहे हैं

Related Articles

Back to top button