बिहार

ये है बिहार का सबसे बेहतरीन रोबोटिक लैब

जब शासन का मिला साथ तो बच्चे भी बनने लगे बाल वैज्ञानिक नीति आयोग की ओर से वित्त पोषित एटीएल लैब में विद्यालय के बच्चों ने हिंदुस्तान गवर्नमेंट के आर्थिक योगदान और विद्यालय के सतत कोशिश को इन दिनों सार्थक करते दिख रहे हैं अब नीति आयोग ने बिहार में संचालित एटीएल (अटल टिंकरिंग लैब) यानी की रोबोटिक्स लैब की एक रिपोर्ट जारी की है इस रिपोर्ट में राज्य का नम्बर वन रोबोटिक्स लैब रीवर वैली विद्यालय के लैब को कहा है विभागीय आंकड़ों के अनुसार देशभर में 15 हजार से भी अधिक विद्यालयों में एटीएल है नवाचार के मुद्दे में बेगूसराय के निजी विद्यालय बिहार में शीर्ष जगह पर काबिज है ज्ञात हो कि पिछले वर्ष भी बेगूसराय के इस निजी विद्यालय ने हिंदुस्तान गवर्नमेंट को 150 से अधिक प्रोजेक्ट भेजे गए हैं, इसमें से एक प्रोजेक्ट अतुल्य ई-साइकिल को स्वयं पीएम मोदी ने प्रगति मैदान दिल्ली में निरीक्षण किया और इसकी सराहना की

बेगूसराय के रीवर वैली विद्यालय में पढ़ने वाले प्रियांशु झा ने कहा स्मार्ट पार्क का डेमो तैयार किया है इस पार्क की विशेषता यह है कि पार्क में बच्चे झूला झूल कर चले जाते हैं इस दौरान जो एनर्जी होती है इसी एनर्जी को सेविंग कर इसकी लाइट जलाने में इस्तेमाल करना है वही, सोनम राय ने कहा कि मेरा प्रोजेक्ट स्ट्रीट लाइट से जुड़ा हुआ है मेरा यह प्रोजेक्ट सड़कों पर स्ट्रीट लाइट में होने वाले बिजली की बचत करने के लिए स्ट्रीट लाइट में सेंसर लगाकर किया जाएगा वहीं, विद्यार्थी सूरज कुमार ने कहा ऑटोमेटिक एडवांस इयरिगेशन सिस्टम बनाए हैं इसका लाभ किसानों को सालभर होने वाला पटवन में पानी की समस्याओं को संतुलन करने में मिलेगा आपको बता दें कि इन तीन प्रोडक्ट को राष्ट्र की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय स्तर पर डेमो की गुणवत्ता और इस पर काम करने के लिए भेजा जाएगा

अटल टिंकरिंग लैबराज्य में बना नंबर वन
अटल टिंकरिंग लैब के प्रभारी मृत्युंजय कुमार ने कहा जिले में मेरे विद्यालय का अटल टिंकरिंग लैब यानी रोबोटिक लैब ने राज्य में पहले जगह को हासिल किया है आपकों बता दें एटीएल को नीति आयोग वित्तीय योगदान कर बच्चों में बौद्धिक क्षमता का विकास करने के साथ-साथ बच्चों को बाल वैज्ञानिक बनाने के लिए काम करती है

Related Articles

Back to top button