बिहारलेटैस्ट न्यूज़

केंद्र सरकार ने एक नयी पर्यटन नीति 2023 का मसौदा किए तैयार

हिंदुस्तान में आयोजित किये गये जी-20 शिखर सम्मेलन को आधार बना कर पर्यटन मंत्रालय इस वर्ष को ‘विजिट इण्डिया ईयर 2023’ के रूप में इंकार रहा है इसका उद्देश्य पूरे विश्व के पर्यटकों को हिंदुस्तान की यात्रा के लिए प्रोत्साहित करना है साल 2022 में करीब 62 लाख विदेशी पर्यटकों ने हिंदुस्तान की यात्रा की, यह राष्ट्र में आये पर्यटकों की संख्या में चार गुना वृद्धि है यह वृद्धि राष्ट्र में पर्यटन उद्योग के विस्तार को दर्शाती है पर्यटन एक बड़ा कार्यक्षेत्र है, आप यदि एक संभावनाओं भरे क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, तो जाने पर्यटन उद्योग में कैसे बढ़ सकते हैं आगे…

भारत में पर्यटन उद्योग ने पिछले 2 सालों में एक गौरतलब बदलाव का अनुभव किया है और साल 2027 तक हिंदुस्तान में घरेलू पर्यटकों की संख्या 300 मिलियन तक पहुंचने की आशा है

‘देखो अपना देश’, वीजा प्रक्रियाओं के सरलीकरण और पर्यटन से संबंधित बुनियादी ढांचे में निवेश जैसी योजनाओं ने इस क्षेत्र के विकास को प्रेरित किया है

पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र गवर्नमेंट ने एक नई पर्यटन नीति 2023 का मसौदा तैयार किया है इससे हिंदुस्तान में पर्यटन क्षेत्र को नया रूप मिलने की आशा है केंद्र गवर्नमेंट के पर्यटन मंत्रालय ने हिंदुस्तान को पूरे विश्व में डेस्टिनेशन वेडिंग का सबसे बड़ा केंद्र बनाने के लिए अभियान की भी आरंभ की है केंद्रीय बैंक आरबीआई ने भी पर्यटन में बढ़ोतरी के लिए एक पहल की है, जिससे जी-20 राष्ट्रों से हिंदुस्तान आनेवाले विदेशी यात्री यूपीआई के जरिये भुगतान कर सकेंगे इस सुविधा की आरंभ राष्ट्र के चुनिंदा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों से की गयी है वहीं इस बार के बजट में पर्यटन मंत्रालय को 2400 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है इसमें से 1742 करोड़ रुपये पर्यटन के बुनियादी ढांचे के विकास पर खर्च किया जायेगा और 242 करोड़ रुपये प्रचार और ब्रांडिंग पर खर्च होंगे स्वदेश दर्शन स्कीम के लिए 1412 करोड़ रुपये आवंटित किये गये हैं पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए गवर्नमेंट की ओर से की जा रही इतनी सारी पहल इस क्षेत्र में रोजगार के मौकों में बढ़ोतरी की आसार भी व्यक्त करती है

पर्यटन है एक बड़ा कार्यक्षेत्र
टूरिज्म इंडस्ट्री में ट्रेवल प्लानिंग, कस्टमर सर्विस, ट्रेवल एडमिनिस्ट्रेशन, टूरिज्म ऑफिसर, ट्रेवल कंसल्टेंट, हॉलिडे एडवाइजर, क्रूज मैनेजर आदि के तौर पर करियर बना सकते हैं इण्डिया टूरिज्म एंड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन, राज्यों के स्टेट टूरिज्म बोर्ड एवं टूरिज्म डेवलपमेंट एंड कॉरपोरेशन भारतीय रेलवे के आईआरसीटीसी के टूरिज्म ऑपरेशन डिवीजन आदि में नौकरी कर सकते हैं

कर सकते हैं ये कोर्स
किसी भी विषय से बारहवीं करने के बाद बीए इन ट्रेवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, बीए इन हॉस्पिटैलिटी, ट्रेवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, बीएससी ट्रेवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, बीएससी इन हॉस्पिटैलिटी एंड ट्रेवल मैनेजमेंट, बीबीए इन ट्रेवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट आदि में से कोई एक कोर्स कर पर्यटन के क्षेत्र में दािखल हो सकते हैं आप ट्रेवल एवं टूरिज्म में एमबीए या ट्रेवल, टूरिज्म एवं हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट में पीजीडीएम कर लेते हैं, तो अपने करियर को एक मजबूत आधार दे सकते हैं

टूरिज्म मैनेजर : पर्यटन प्रबंधक विभिन्न लक्षित बाजारों की पहचान कर ग्राहकों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मुनासिब पैकेज डिजाइन करते हैं एक प्रोफेशनल के तौर पर टूरिज्म मैनेजर टूर पैकेज बनाने से लेकर उसकी बिक्री एवं खरीद तक कई जिम्मेदारियां निभाते हैं यात्रियों का मार्गदर्शन एवं सहायता करने के साथ विभिन्न एडवरटाइजिंग मैथड के जरिये पर्यटन को बढ़ावा देने जैसे कई कार्य इनके जिम्मे होते हैं

Related Articles

Back to top button