मंत्री नारायण के बेटे ने लोगों के साथ मारपीट और की हवाई फायरिंग, जानिए क्या है मामला?

मंत्री नारायण के बेटे ने लोगों के साथ मारपीट और की हवाई फायरिंग, जानिए क्या है मामला?

बिहार में एक मंत्री पुत्र की दबंगई का मामला सामने आया है। यह घटना बेतिया जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में आने वाले हरदिया गांव की है जहां राज्य के पर्यटन मंत्री नारायण साह के बेटे बबलू ने कथित तौर पर लोगों के साथ मारपीट और हवाई फायरिंग की है। जानकारी के अनुसार घटना के बाद मंत्री का बेटा अपने साथियों के साथ वहां से फरार हो गया।  


बताया जा रहा है कि गांव के कुछ बच्चे मंत्री के बाग में खेल रहे थे। इसी दौरान वहां अपने साथियों के साथ पहुंचा बबलू यह देख आक्रोशित हो गया और बच्चों की पिटाई करने लगा। ग्रामीणों ने जब इसका विरोध किया तो उसके साथियों ने हवाई फायरिंग कर दी। आरोप है कि इस दौरान बबलू और उसके साथियों ने कुछ महिलाओं के साथ भी मारपीट की।


इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया है जिसमें आक्रोशित ग्रामीण मंत्री पुत्र और उसके साथियों को दौड़ाते नजर आ रहे हैं, जिनके पास हथियार नजर आ रहे हैं। इस घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। लेकिन जब तक पुलिस वहां पहुंचती बबलू और उसके साथी वहां से फरार हो गए। ग्रामीणों ने उनकी दो बंदूकें भी छीन ली थीं।

#WATCH बिहार: बिहार सरकार में पर्यटन मंत्री नारायण साह के बेटे द्वारा चंपारण में कथित तौर पर मारपीट के बाद हवाई फायरिंग करने का मामला सामने आया है।

मंत्री नारायण साह ने सफाई में कही ये बात
इस मामले में मंत्री नारायण साह ने सफाई देते हुए कहा है कि हमारे पुरखों की दो बीघा जमीन पर ग्रामीण कब्जा करने की कोशिश कर रहे थे। इसी को लेकर पहले मेरा भाई वहां गया था लेकिन ग्रामीणों ने उनके साथ मारपीट की। इसकी जानकारी मिलने पर भाई की मदद करने के लिए ही बेटा और उसके साथी वहां गए थे। ग्रामीणों ने उनके साथ भी मारपीट की।

उन्होंने कहा कि ग्रामीणों ने मेरे बेटे और उसके साथियों पर ईंट-पत्थरों से हमला कर दिया। इसी में उनके कुछ बच्चों को चोट लग गई और आरोप मेरे बेटे पर मढ़ा जा रहा है। 


उपमुखिया पर पत्नी की हत्या का आरोप

उपमुखिया पर पत्नी की हत्या का आरोप

बगहा में नवविवाहिता की दहेज के लिए मर्डर कर दी गई. तीन माह पूर्व ही वाल्मीकीनगर के गनौली की प्रियंका की विवाह चौतरवा के नदवा के अनिल गुप्ता के साथ हुई थी. अनिल साह हरदी नदवा पंचायत का उपमुखिया है. विवाह के बाद से ही दहेज में बकाया के नाम पर 5 लाख रुपए की मांग की जा रही थी. इस बीच प्रियंका को प्रताड़ित भी किया जाता रहा.

महिला के परिजनों का आरोप है कि ससुरालवालों ने गला दबाकर मर्डर कर दी है. इधर, उपचार कराने लाए ससुराल पक्ष के लोग डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित किए जाने के बाद मृत शरीर छोड़कर फरार हो गए. हालांकि पुलिस ने स्त्री के पति को अरैस्ट कर लिया है. परिजनों ने 8 सदस्यों के विरूद्ध FIR दर्ज कराई है.

5 फरवरी को हुई थी शादी
महिला की विवाह हरदी नदवा गांव के स्वर्गीय नंदलाल साह के पुत्र अनील साह से हुई थी. परिजनों ने बताया कि 5 फरवरी को पूरे रीति रिवाज के साथ दोनों ने 7 फेरे लिए थे और उनसे दहेज के रूप में चार पहिया वाहन की डिमांड की जा रही थी. अचानक बुधवार की रात उन्हें दामाद द्वारा सूचना मिली कि बेटी की तबीयत खराब है और उसे हरनाटांड उप स्वास्थ्य केंद्र पर लाया गया है. जबकि लड़की उसी समय मृत हालत में थी.

लड़की के पिता भोला साह का बोलना है कि दामाद ने फोन कर के बताया था. जब वे लोग पहुंचे तो मृत बेटी प्रियंका कुमारी के गले पर निशान पाया, जिससे प्रतीत हुआ कि उसकी गला दबाकर मर्डर की गई है. पुलिस ने दामाद को अरैस्ट कर लिया है और पूछताछ जारी है.

मृतका की फाइल फोटो.

मायके पक्ष के लोग पहुंचे तो ससुराल पक्ष हुआ फरार
हरदी नदवा से उपचार के लिए रास्ते में पड़ने वाले अनुमंडलीय हॉस्पिटल में ले जाने की बजाय आरोपी ससुराल वाले मृतका के गांव के पास हरनाटांड लेकर गए. जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया. इसके बाद ससुराल पक्ष के लोग मृत शरीर छोड़ फरार हो गए. रात्रि करीब एक बजे मायके पक्ष के लोग आए और पुलिस को सूचना दी. इसके बाद क्षेत्रीय पुलिस ने मृत शरीर को अनुमंडलीय हॉस्पिटल भेज दिया. परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल