भूकंप आने पर करें ऐसा उपाय

भूकंप आने पर करें ऐसा उपाय

पश्चिम चम्पारण बिहार में पिछले कुछ सालों से भूकंप और अगलगी के बढ़ते मामलों को देखते हुए गवर्नमेंट भी लोगों को सतर्क करने में जुट गई है आग लगने और भूकंप आने पर ‘क्या करें और क्या नहीं करें’ को लेकर अधिकारी से लेकर आम जनता तक को शिविर के माध्यम से सतर्क किया जा रहा है इसी कड़ी में अभी भूकंप सुरक्षा हफ्ते भी मनाया जा रहा है एक ओर जहां कलेक्ट्रेट के ऑफिसरों एवं कर्मियों को भूकम्प से बचाव हेतु बचाव टीम के द्वारा विशेष जानकारी दी गई और मॉक ड्रिल कर भी दिखाया गया इसके साथ ही अग्निशमन कार्यालय द्वारा आग से बचाव हेतु किए जाने वाले तरीकों के बारे में भी विशेष जानकारी दी गई

चादर से बना सकते हैं स्ट्रेचर
आपदा प्रबंधन विभाग और एसडीआरएफ के कर्मियों ने पदाधिकारियों को बताया कि किस तरह से आप आपदा की स्थिति में अपने आप को और अपने आसपास के लोगों को संभाल सकते हैं लोगों को मॉक ड्रिल कर दिखाया गया कि यदि घर में कोई एक्सीडेंट कर गया हो और हॉस्पिटल ले जाने के लिए कोई वाहन भी ना हो, तो ऐसी स्थिति में आप घायल को किस ढंग से चादर का स्ट्रेचर बनाकर हॉस्पिटल ले जा सकते हैं साथ ही सिर फटने या हाथ-पैर टूटने की स्थिति में किस तरह से घर में रखे साफ कपड़े से उन्हें तुरन्त राहत दे सकते हैं

आपदा के समय लोगों को बचाना जरूरी कार्य

मॉक ड्रिल के दौरान जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने बोला कि भूकम्प सुरक्षा हफ्ते के अनुसार सभी को सतर्क करने का कार्य जरूरी है भूकम्प आपदा के समय किन-किन बातों का ख्याल रखना चाहिए, इसकी जानकारी सभी को होनी चाहिए साथ ही मॉक ड्रिल के समय आपदा प्रबंधन विभाग और अग्निशमन अधिकारी द्वारा पूरी सावधानी बरती जाए, ताकि किसी भी प्रकार की हताहत की स्थिति उत्पन्न न हो

मालूम हो कि पश्चिम चम्पारण जिला भूकंपीय जोन 04 के भीतर आता है इसलिए यहां भी भूकम्प से बचाव के लिए प्रत्येक आदमी को क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए, की जानकारी जरूरी रूप से होनी चाहिए

भूकंप आने पर आप भी करें ऐसा उपाय
-भूकम्प से पहले झुको, ढंको और पकड़ो की नीति अपनाना चाहिए भूकम्प के समय मजबूत टेबल या ऊंचे पलंग के नीचे छिप जाएं, गिरने वाले चीजों से दूर रहें, कमरे के अंदरूनी कोने के पास रहें

–यदि सिनेमा घर, मॉल, अपार्टमेंट, कार्यालय में हों, तो अपनी स्थान पर शांत रहे, झटका रूकने पर, क्रम से बाहर निकलें

–भूकम्प के बाद गैस सिलिन्डर बन्द करें, मेन लाइट का स्वीच ऑफ करें, बिजली पोल, विज्ञापन बोर्ड एवं पेड़ से दूर रहें साथ ही लिफ्ट का इस्तेमाल न करें

–भूकम्प के समय अपने आसपास सुरक्षित स्थानों की पहचान कर लें एवं कमरे के अंदरूनी किनारे के पास रहें

–गिरने वाली चीजों से दूरी बनाए रखें, सिर को पहले बचाएं

— बिजली पोल, निर्माणाधीन मकान, पेड़, टेलीफोन खंभे के पास न जाएं एवं भगदड़ की स्थिति में एकदम न आएं